Thursday, January 24, 2019
Follow us on
Guest Writer
एक्ट में एक ही दिन में ही जांच करके पता लगाया जाए कि आरोप फर्जी है या सही अगर फर्जी पाया जाए तो बेल वरना जेल

2 अप्रैल,2018 का वंचित तबकों द्वारा किया गया व्यापक आंदोलन,जिसे हिंसात्मक तौर पर चर्चित किया गया,इससे भी ज्यादा व्यापक आंदोलन

उपचुनावों के आधार पर लोकसभा चुनाव आंकना भूल होगी बैंकों की घुमावदार सीढ़ियां ... !! न्यूज वल्र्ड के सोमालिया! - यूथोपिया ... ! नीरव मोदी को नीरव मोदी बनाने वाला कौन है भारत में अभी भी पकौड़े और चाय में बहुत स्कोप है साहब डूबते सूरज की बिदाई नववर्ष का स्वागत कैसे पेड़ अपनी जड़ों को खुद नहीं काटता, इंसानियत का रुदन हम कब सुने पायेंगे साहब राहुल के सामने बड़ी चुनौती। क्या कभी नारी को गुस्सा आया है हदिया जैसी लडकियां लव नहीं जिहाद का शिकार होती हैं विपक्ष में होने का मतलब केवल विरोध के लिए विरोध करना नहीं होता क्या हार्दिक मान सम्मान की परिभाषा भी जानते हैं? दिल बहलाने को ग़ालिब ख्याल अच्छा है सरकार की प्रथम जबाबदेही जनता के प्रति है लोकसेवकों के प्रति नहीं साहब भारत इसी तरह तो चलता है जनता तो भगवान बनाती है साहब लेकिन शैतान आप खुशियों का फैसला जो भावना मानवता के प्रति अपना फर्ज निभाने से रोकती हो क्या वो धार्मिक भावना हो सकती है? वीआईपी वाली फिलिंग है कि जाती ही नहीं..... वीआईपी कल्चर बोले तो.....नेताजी छोड़ने ही नहीं वाले चन्द कागज के टुकड़ों के आगे हार गई 30 मासूमों की जिंदगी..... .......क्यों हम बेटियों को बचाएँ........ ...जनता के नौकर की जगह तानाशाह बन बैठे हैं सरकारी बाबू.... भारत हर साल 15 अगस्त को अपना स्वतंत्रता दिवस मनाता है। आधुनिक व्यवस्था प्रोफेशनल बनाती है इंसान नहीं " कश्मीर में शान्ति बहाली ही शहीदों को सच्ची श्रधांजलि होगी मीडिया के बदलते स्वरूप का असर योगी राज से प्रदेश की उम्मीदें एक नवाचारी सोच पर आधारित- विमुक्त भागीदारी (फ्री पार्टनरशिप) का मंत्र मध्यम-वर्ग: नई भोर की आहट,चुनावों के परिणामों ने देश को एक उजाला दिया बड़े भाग्य से मानव शरीर मिला है! गोवा की पसंद पर्रिकर ही क्यों