Friday, October 19, 2018
Follow us on
Political

इतिहास रचेगा पुण्डरी विधानसभा !25 सालों से लगातार आजाद विधायक जीताने वाली पुंडरी सीट पर विभिन्न पार्टी नेताओं ने किया जीत का दावा

कृष्ण प्रजापति | April 29, 2018 05:08 PM
कृष्ण प्रजापति

25 सालों से लगातार आजाद विधायक जीताने वाली पुंडरी सीट पर विभिन्न पार्टी नेताओं ने किया जीत का दावा

कांग्रेस, इनेलो व भाजपा नेताओं ने किया अपनी अपनी पार्टी उम्मीदवारों के जीतने का दावा

क्या अबकी बार भी आज़ाद विधायक को बनाकर इतिहास रचेगा पुण्डरी विधानसभा !

पुंडरी, 29 अप्रैल (कृष्ण प्रजापति): पिछले 25 वर्षों से लगातार आज़ाद विधायक को जीताकर सत्ता में भेजने वाले पुंडरी विधानसभा से अब विभिन्न पार्टी नेताओं द्वारा अपने-अपने दलो के उम्मीदवारों का जीतकर विधायक बनने का दावा किया जाने लगा है, हालांकि 1996 से पहले भी इस सीट से आजाद विधायक बने हैं लेकिन 1996 से अब तक लगातार 25 वर्षों से आजाद विधायक ही जीत दर्ज करता आया है। विधानसभा चुनाव 2019 की सुबसुगाहट के साथ ही पार्टी नेताओं द्वारा अपने अपने उम्मीदवारों के जीतने का दम भरना शुरू कर दिया गया है, लेकिन इतिहास तोड़ना या बरकरार रखना अभी पुंडरी विधानसभा क्षेत्र के लिए भविष्य के गर्भ में है। आपको बता दें कि 1996 में पूर्व मंत्री नरेंद्र शर्मा ने यहां से आजाद बनने का सिलसिला शुरु किया था उसके बाद सन 2000 में पूर्व विधायक तेजवीर सिंह ने आजाद विधायक के रूप में जीत दर्ज की थी और उसके बाद 2005 में आजाद विधायक प्रो० दिनेश कौशिक विधायक बने। उसके बाद 2009 के विधानसभा चुनाव में रोड बिरादरी के सुल्तान सिंह जड़ौला आजाद विधायक बने और पिछले 2014 के चुनाव में प्रो० दिनेश कौशिक यहां से विधायक बने हुए हैं वे भी आजाद। लेकिन 2019 के चुनाव के लिए सभी पार्टियां अपने-अपने पार्टी उम्मीदवारों के जीतने का दम भरने लगी हैं कि यहां से अबकी बार उनकी पार्टी का कैंडिडेट जीत दर्ज करके इतिहास को बदलेगा। इनेलो वाले इनेलो उम्मीदवार के जीत का दावा, कांग्रेस वाले कांग्रेसी को व सत्तासीन पार्टी भाजपा के नेता अबकी बार यहां से भाजपा का उम्मीदवार जीतने का दावा कर रहे हैं जबकि परिस्थितियां कह रही हैं कि इस विधानसभा क्षेत्र के लोग ऐन वक्त पर ही अपने पत्ते खोलेंगे व इन पार्टी नेताओं को दरकिनार करते हुए यहां से अबकी बार फिर से आज़ाद विधायक को जीताकर अपना इतिहास बरकरार रखना चाहते हैं। आपको बता दें कि इस विधानसभा सीट से स्वामी अग्निवेश जैसे दिग्गज नेता भी विधायक बन चुके हैं व हरियाणा की राजनीति में खास महत्व रखने वाले पूर्व हरियाणा विधानसभा स्पीकर स्व0 ईश्वर सिंह भी कई बार आज़ाद व कांग्रेस की सीट पर चुनाव जीत दर्ज कर चुके हैं। उन्होंने इस हल्के को एक पहचान दिलाने में काफी योगदान दिया इसलिए जनता ने भी उनको स्नेह स्वरूप कई बार विधानसभा में भेजने का काम किया। उनके देहांत के बाद उनके पुत्र तेजबीर सिंह को भी 2000 में हल्के की जनता ने सत्ता का ताज पहनाकर विधायक बनाया।

बॉक्स---- आज़ाद के साथ साथ जातीय समीकरण भी मायने रखते हैं इस विधानसभा क्षेत्र के लिए

आपको बता दें कि यहां से आज़ाद विधायक बनने के साथ साथ जातीय समीकरण भी बहुत मायने रखते हैं। अगर पिछले कुछ चुनावो पर नजर डालें तो एक बार ब्राह्मण समुदाय का कैंडिडेट तो दूसरी बार रोड़ बिरादरी के कैंडिडेट ने जीत दर्ज की है। 1996 में यहां से ब्राह्मण समुदाय के नरेंद्र शर्मा ने जीत हासिल की, उसके बाद 2000 में रोड़ बिरादरी से चौ० तेजबीर सिंह विजय हुए। उसके बाद 2005 में ब्राह्मण समुदाय से दिनेश कौशिक विधायक बने व उसके बाद 2009 के चुनावों में रोड़ बिरादरी के सुल्तान सिंह जड़ौला ने आज़ाद विधायक के रूप में जीत का परचम लहराया। गत 2014 के चुनावों में फिर से ब्राह्मण बिरादरी से प्रो० दिनेश कौशिक ने आज़ाद विधायक के तौर पर शपथ ली। ऐसा संयोगवश होता है कि जब ब्राह्मण बिरादरी के किसी भी उम्मीदवार को किसी भी पार्टी से टिकट नहीं मिलता व सभी टिकट दूसरी बिरादरी के लोगो को मिल जाते हैं तो ब्राह्मण बिरादरी के उम्मीदवार जीत दर्ज कर जाता है। ऐसा ही हाल रोड़ बिरादरी के समय मे भी होता है, पिछले 2009 के चुनावों में किसी भी पार्टी ने रोड़ बिरादरी के नेताओं को टिकट नहीं दी तो 36 बिरादरी के सांझे उम्मीदवार के रूप में सुल्तान सिंह जड़ौला को उम्मीदवार बनाया गया व जीत दर्ज की।

बॉक्स--- ये हो सकते हैं पुण्डरी से 2019 के संभावित उम्मीदवार

अगर चर्चाओं की बात करें तो इस समय पूंडरी विधानसभा से भाजपा के उम्मीदवारों में पूर्व प्रत्याशी रहे रणधीर सिंह गोलन मजबूत दावेदार हैं। इसके साथ साथ मौजूदा विधायक दिनेश कौशिक, बलकार गोलन, कृष्ण सागवाल कौल, प्रताप सिंह गांगल ढांड, सुभाष मूंदड़ी, प्रदीप भारद्वाज ढांड आदि नाम चल रहे हैं। कांग्रेस पार्टी की ओर से यहां से टिकट की दौड़ में सुरजेवाला खेमे से सुरेश रोड़ पबनावा, सतबीर भाणा, रामचन्द्र गुज्जर,दर्शन खनौदा, प्रदेश अध्यक्ष डॉ० अशोक तंवर खेमे से जसबीर गुज्जर खेड़ी, विरेंद्र स्योकन्द जाजनपुर, कुलदीप बिश्नोई खेमे से पँ० विनोद पबनावा, रणधीर गुज्जर ढांड, हुड्डा खेमे से कर्ण सिंह पाई , सुनीता बत्तान, प्रदीप चौधरी आदि नाम चल रहे हैं। इनेलो पार्टी से टिकट के दावेदारों में आजकल रणदीप कौल, बलवान गोलन, पँ० कंवरपाल करोड़ा, तेजबीर सिंह, लीला राम म्योली, इंद्र पाई, ओम प्रकाश कैरा, जोगी राम रिटायर्ड एस. ई.,युवाओं में इनसो नेता राजू पाई, कंवरजीत वालिया, सावन पबनावा आदि के नाम चल रहे हैं।
वहीं आज़ाद उम्मीदवारों में समाजसेवी काला पाई, कृष श्योकंद जाजनपुर आदि नामों पर चर्चा चल रही है। लेकिन चुनाव में सही तौर पर कितने उम्मीदवार होंगे व कितने चुनाव से पहले मैदान छोड़ जाएंगे यह अभी भविष्य के गर्भ में है

Have something to say? Post your comment
More Political News
घरौंडा में भाजपा को झटका, पूर्व विधायिका रेखा राणा ने छोड़ी पार्टी
सुप्रीम कोर्ट ने दबंग इनैलो नेता अभय चौटाला को दिया झटका,याचिका को सुप्रीम कोर्ट ने किया खारिज
आप पार्टी की सरकार आने पर हरियाणा का होगा चहुंमुखी विकास: कमांडो सुरेन्द्र
हरियाणा में सता का फाईनल बेशक दूर लेकिन सेमीफाईनल करीब,निगाहें अरविन्द केजरीवाल के इस दौरे पर टिकी
बच्चा बढ़ा हो रहा है और बूढो के जाने का वक़्त आ गया है:सांसद सुशील
इनेलो-बसपा गठबंधन पर अभी भी लगे हुए हैं कई सवालिया निशान
शिरोमणी अकाली दल हरियाणा में सत्ता का दावेदार बनेगा
जब नए सांसदों को राजनीतिक शुचिता का पाठ पढाने हरियाणा आए वाजपेयी
करोड़ों रूपये रैली में खर्च करने की बजाए आमजन की सुविधा में लगाते तो बाहरी लोगों को लाने की नहीं आती नौबत
15 वर्ष के कार्यकाल में महेंद्रगढ़ को मूलभूत सुविधाएं तक नहीं दे पाए राव दानसिंह, चुनाव के समय लाने चले क्रांति: कुलदीप यादव