Saturday, April 20, 2019
BREAKING NEWS
22वर्ष पुराने सामूहिक हत्याकांड में विधायक दोषी,हुई उम्र कैदजहां सतगुरु आप आ गए वहां साध संगत भी अपने आप पहुंच जाती है : संत बाबा रामसिंह जीभाजपा से रतनलाल कटारिया, राव इंदरजीत सिंह, सुनीता दुज्गल सहित 21 प्रत्याशियों ने नामांकन पत्र दाखिल किएयुवक की संदिग्ध हाल में मौत, शव को लेकर उलझे परिजनलवीस को बस से उतारा और उसका अपहरण कर फरार हो गए। कैथल जिले में पंचायती राज विभाग द्वारा बनाई गई व्यामशालाओं को लेकर उठे रहे सवाल !क्या कार्यवाही करेगा चुनाव आयोग , सुनीता दुग्गल के रोड शो में 15 मिनट फंसी रही गर्भवती को ले जा रही एंबुलेंस,?सतीश राज देशवाल ने आजाद उम्मीदवार के तौर पर किया नामांकन दाखिल जनता की अदालत में फैसला अभी बाकी है स्वाति यादव ने भाजपा व कांग्रेस का वोट समीकरण बिगाड़ा

Literature

सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज

May 02, 2018 02:48 PM
नरेन्द्र जेठी

सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज
नरवाना 2 मई, (नरेन्द्र जेठी): ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज ने कहा कि सदा भगवान की कृपा के पात्र बने रहने के लिए सभी को सत्संग कीर्तन करते रहना चाहिए। सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है और हमें दुखों को सहन करने की शक्ति मिल जाती है। खुशी जैसी कोई खुराक नहीं होती। इसलिए भगवान को सच्चे दिल से याद करने से मन शांत व दिल खुशियों से भर जाता है। ये बातें उन्होंने अग्रवाल धर्मशाला में आयोजित तीन दिवसीय ब्रहमज्ञान यज्ञ के समापन अवसर पर बोलते हुए कही। यह कार्यक्रम कलाधारी सत्संग मंडल बीरबल नगर द्वारा आयोजित किया गया। महिलाओं ने भजन गाकर प्रभु की महिमा की जिससे माहौल भक्तिरस में डूब गया। इस अवसर पर भण्डारे का भी आयोजन किया गया। जिसमें काफी संख्या में लोगों ने भोजन प्रसाद को ग्रहण किया। कार्यक्रम में बहन सुदेश, बहन इंदू, कृष्णा, बीना, आरती, निर्मला, संतोष, सरोज, रोशनी सहित कई महिलाओं ने भजन कीर्तन में बढचढ कर भाग लिया। प्रवचन में साध्वी ऋषि महाराज ने बताया कि पचास साल पहले ब्रहमज्ञानी महान जी महाराज ने भगवान के आदेश पर इस संस्था की नींव रखी। तब से ही यह संस्था आध्यात्मिक व सामाजिक कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि आंखो से दिखने वाले इस मायावी संसार में उलझ कर इंसान भगवान को भूल जाता है। एक भगवान ही हमारी जीवन नैयया को सुख शांति पूर्वक पार लगा सकता है इसलिए हमें भजन कीर्तन पूजा अर्चना द्वारा भगवान का साथ बनाए रखना चाहिए।

Have something to say? Post your comment

More in Literature

मिश्रित फल देगा नव विक्रम सम्वत-2076, होंगे राजनैतिक परिवर्तन मिथुन, तुला और कुम्भ राशि और लग्न वालों को लाभ होगा

सिद्ध श्री बाबा बालक नाथ जी प्रचार समिति फरीदाबाद भजनो भरी शाम बाबा जी के नाम का आयोजन किया

सरस्वती अन्नपूर्णा भण्डारा सेवा समिति द्वारा सरस्वती मंदिर मे भंडारे का आयोजन किया

पिहोवा-पितरों की आत्मिक शांति के लिए सरस्वती तीर्थ पर पहुंचने लगे श्रद्धालु

6 अप्रैल से परिधावी नामक नवसंवत 2076 एवं चैत्र नवरात्रि आरंभ

होली आई रे .... होलिका दहन, 20 मार्च की रात्रि 9 बजे के बाद, रंग वाली होली 21 को।

गुरू मां सम्मेलन में मिलती है अनोखी अलौकिक शक्तियां : सुरेंद्र पंवार

खाटू श्याम में बाबा का मेला शुरू, श्याममय हुआ समूचा क्षेत्र, प्रतिदिन गुजरने लगे है श्याम प्रेमियों के जत्थे

शीश के दानी का सारे जग में डंका बाजे ने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी एक अलग पहचान बनाई - लखबीर सिंह लख्खा

श्रीमद् भागवत कथा का प्रारंभ आज