Thursday, January 24, 2019
Follow us on
Literature

सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज

नरेन्द्र जेठी | May 02, 2018 02:48 PM
नरेन्द्र जेठी

सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज
नरवाना 2 मई,(नरेन्द्र जेठी): ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज ने कहा कि सदा भगवान की कृपा के पात्र बने रहने के लिए सभी को सत्संग कीर्तन करते रहना चाहिए। सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है और हमें दुखों को सहन करने की शक्ति मिल जाती है। खुशी जैसी कोई खुराक नहीं होती। इसलिए भगवान को सच्चे दिल से याद करने से मन शांत व दिल खुशियों से भर जाता है। ये बातें उन्होंने अग्रवाल धर्मशाला में आयोजित तीन दिवसीय ब्रहमज्ञान यज्ञ के समापन अवसर पर बोलते हुए कही। यह कार्यक्रम कलाधारी सत्संग मंडल बीरबल नगर द्वारा आयोजित किया गया। महिलाओं ने भजन गाकर प्रभु की महिमा की जिससे माहौल भक्तिरस में डूब गया। इस अवसर पर भण्डारे का भी आयोजन किया गया। जिसमें काफी संख्या में लोगों ने भोजन प्रसाद को ग्रहण किया। कार्यक्रम में बहन सुदेश, बहन इंदू, कृष्णा, बीना, आरती, निर्मला, संतोष, सरोज, रोशनी सहित कई महिलाओं ने भजन कीर्तन में बढचढ कर भाग लिया। प्रवचन में साध्वी ऋषि महाराज ने बताया कि पचास साल पहले ब्रहमज्ञानी महान जी महाराज ने भगवान के आदेश पर इस संस्था की नींव रखी। तब से ही यह संस्था आध्यात्मिक व सामाजिक कार्य कर रही है। उन्होंने कहा कि आंखो से दिखने वाले इस मायावी संसार में उलझ कर इंसान भगवान को भूल जाता है। एक भगवान ही हमारी जीवन नैयया को सुख शांति पूर्वक पार लगा सकता है इसलिए हमें भजन कीर्तन पूजा अर्चना द्वारा भगवान का साथ बनाए रखना चाहिए।

Have something to say? Post your comment
More Literature News
मदहोश होकर लोग हुए आउट आफ कंट्रोल हरिनाम संकीर्तन में
अबकि बार मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी नहीं बल्कि 15 जनवरी को ही मान्य - पं. रामकिशन
सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा
कैथल में पूजा अर्चना के साथ हुआ श्री साई अमृत कथा का शुभारंभ
बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया
हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा
पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार
15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स
5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ
बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2