Saturday, February 23, 2019
BREAKING NEWS
अमेठी के शुकुल बाजार थाना क्षेत्र में तालाब से हो रहा अवैध खननइसंपेक्टर संदीप मोर सीआईए -56 के निरीक्षक नियुक्तहिमाचल के मुख्यमंत्री ने की रा.व.मा.पा सरोआ में अखण्ड शिक्षा ज्योति-मेरे स्कूल से निकले मोती कार्यक्रम की अध्यक्षतापूर्व सरपंच व दो पंचों को कोर्ट ने सुनाई 2 साल की सजा, जानिये क्या है पूरा मामलाजिला अस्पताल में नही है कुत्ते काटे का इंजेक्शन -- सीएमएसएनएचएम कर्मचारियों को सीएम की दो टूक काम पर लौटें, नहीं तो दूसरे युवा उनकी जगह लाइन मेंडेढ़ दर्जन भाजपा विधायकों पर लटकी तलवारतरावड़ी में ईलाज के दौरान युवती की मौत पर परिजनों ने किया हंगामाबटाला-निजी स्कूल की बस पलटी,करीब दो दर्जन बच्चे घायलसीएससी कैसे करायेगी आर्थिक जनगणना का कार्य, विद्युत मीटर लगाने का नहीं मिला पारिश्रामिक

National

मुख्यमंत्री, चेयरमैन दोषी क्यों-कांग्रेस शासन में थी घर, दफ्तर में पेपर सैट करने की परंपरा

May 09, 2018 07:39 PM
राजकुमार अग्रवाल

मुख्य परीक्षक से परीक्षा केंद्र पहुंचता है पेपर तो मुख्यमंत्री, चेयरमैन दोषी क्यों
: कांग्रेस शासन में थी घर, दफ्तर में पेपर सैट करने की परंपरा
: प्रश्न विवाद में संबंधित पर की जा रही है कार्रवाई
:101 काले ब्राह्मण एकत्रित करने के मुद्दे पर भावनात्मक राजनीति कर रही है कांग्रेस

चंडीगढ़, 9 मई- (राजकुमार अग्रवाल )

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने कहा है कि हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षाओं के पेपर निर्धारित होने के बाद मुख्य परीक्षक से सीधा परीक्षा केंद्र खुलता है। यदि इस पेपर को सरकार खोलकर देखेगी तो परीक्षा की गोपनीयता भंग हो जाएगी। ऐसे में मुख्यमंत्री, बोर्ड चेयरमैन दोषी कैसे हो सकता है। उन्होंने कहा कि घर-दफ्तरों में पेपर सैट करने की परंपरा कांग्रेस शासन में होती थी। आज कांग्रेस राजनीतिक लाभ पाने के लिए इस विवाद को भावनात्मक तरीके से भडक़ाना चाहती है, जिसे आमजन आसानी से समझते हैं।
आज यहां जारी बयान में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा अन्य कांग्रेसी विधायकों के साथ प्रश्न विवाद पर सरकार और आयोग के खिलाफ मामला दर्ज कराने की मांग पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कांग्रेस और उनके नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा हमेशा से जात-पात की राजनीति करते आए हैं और भाजपा शासन के दौरान कांग्रेसी किसी न किसी बहाने से जातिवाद की बात करते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस शासन के दौरान परीक्षा के प्रश्नपत्र कांग्रेसी नेताओं के घर-दफ्तर में तैयार होते थे, ताकि अपने चहेते आवेदकों को एडजस्ट किया जा सके। वर्तमान सरकार द्वारा सभी स्वायत्त संस्थाओं को भर्तियों में पारदर्शिता बरतने के निर्देश दिए, ताकि प्रदेश में योग्य युवाओं को उनका हक दिलाया जा सके। उन्होंने प्रश्न को लेकर उठे विवाद पर कहा कि वर्तमान समय में आयोग की परीक्षाओं के लिए मुख्य परीक्षक प्रश्न पत्र तैयार कराते हैं, जो सीलबंद होने के बाद सीधा परीक्षा केंद्र पर खुलते हैं। यदि पेपर को हम खोलकर जांच करेंगे तो परीक्षा की गोपनीयता भंग होगी। वहीं आयोग को जैसे ही प्रश्न में गडबड़ी का पता चला तो न केवल उन्होंने इसके लिए माफी मांगी, अपितु संबंधित दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए। अब इस प्रक्रिया के लिए मुख्यमंत्री तथा आयोग चेयरमैन कैसे दोषी हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी नेता कह रहे हैं कि वह 101 काले ब्राह्मण एकत्रित करके सरकार के सामने अपशकुन करेंगे, जो पूरी तरह से राजनीतिक से प्रेरित योजना है। इसके माध्यम से कांग्रेस ब्राह्मण समुदाय की भावना से खिलवाड़ करते हुए उनका अपमान करने की कोशिश कर रही है।

Have something to say? Post your comment

More in National

हरियाणा में 13 साल बाद फिर लागू होगी एक्सग्रेसिया पॉलिसी

मोदी के गुणगान में जुटे राव इंद्रजीत, हुड्डा और बिरेंद्र का मिलन बना चर्चा का विषय

किसान भवन 31 मार्च तक पूरा करने किया जाये: राणा

हाईवा को बस से टकराकर कर लगी आग, चालक जिंदा जला

दस साल बाद हुआ था बच्चा, अब रोडवेज बस के नीचे आने से हुई मौत

बाबैन के गांव में डीएसपी के रीडर पर बदमाशों ने बरसाई गोलियां, गाड़ी भी लेकर हुए फरार

मेरी इच्छा हिसार से लोकसभा चुनाव लङने की है-दुष्यंत चौटाला

खैरी के विजेंदर ने जीता कुश्ती में सोना

हरियाणा पुलिस कांस्टेबल के 500 पद अब सामान्य श्रेणी से भरे जाएंगे

चमत्कारी उम्मीदवारों के सहारे लोकसभा चुनाव की नैया पार करने की तैयारी में भाजपा