Sunday, September 23, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
बारड़ा गांव के पावर हाउस सहित विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर चलाया पौधारोपण अभियानसमाज में प्रेरणा की मिसाल बनकर उभरा नंगलमाला का युवा समाजसेवी ओमशिव कौशिक25 सितंबर को भारी संख्या में प्रदेश के कोने-कोने से लोग होंगे शामिल: लम्बोरापाली के बाबा सिद्ध मंदिर में खेलकूद प्रतियोगिताएं आयोजितकेजरीवाल बदलेंगे कानून,शहीद जवान को केजरीवाल सरकार देगी एक करोड़ व परिवार को सरकारी नौकरीहमारा वतन एनजीओ ने रेलवे स्टेशन पर लगवाए डस्टबिनएकादशी के उपलक्ष्य में गौशाला में लगाई सवामनीपाक ने घायल भारतीय जवान को अगवा कर 9 घंटे तड़पया;गला रोता,टांग काटी आंख निकाली करंट लगाकर गोली मारी
National

मुख्यमंत्री, चेयरमैन दोषी क्यों-कांग्रेस शासन में थी घर, दफ्तर में पेपर सैट करने की परंपरा

राजकुमार अग्रवाल | May 09, 2018 07:39 PM
फ़ाइल फोटो---सुभाष बराला भाजपा प्रदेश प्रधान
राजकुमार अग्रवाल

मुख्य परीक्षक से परीक्षा केंद्र पहुंचता है पेपर तो मुख्यमंत्री, चेयरमैन दोषी क्यों
: कांग्रेस शासन में थी घर, दफ्तर में पेपर सैट करने की परंपरा
: प्रश्न विवाद में संबंधित पर की जा रही है कार्रवाई
:101 काले ब्राह्मण एकत्रित करने के मुद्दे पर भावनात्मक राजनीति कर रही है कांग्रेस

चंडीगढ़, 9 मई- (राजकुमार अग्रवाल )

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने कहा है कि हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की परीक्षाओं के पेपर निर्धारित होने के बाद मुख्य परीक्षक से सीधा परीक्षा केंद्र खुलता है। यदि इस पेपर को सरकार खोलकर देखेगी तो परीक्षा की गोपनीयता भंग हो जाएगी। ऐसे में मुख्यमंत्री, बोर्ड चेयरमैन दोषी कैसे हो सकता है। उन्होंने कहा कि घर-दफ्तरों में पेपर सैट करने की परंपरा कांग्रेस शासन में होती थी। आज कांग्रेस राजनीतिक लाभ पाने के लिए इस विवाद को भावनात्मक तरीके से भडक़ाना चाहती है, जिसे आमजन आसानी से समझते हैं।
आज यहां जारी बयान में भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला ने पूर्व मुख्यमंत्री भूपेंद्र सिंह हुड्डा द्वारा अन्य कांग्रेसी विधायकों के साथ प्रश्न विवाद पर सरकार और आयोग के खिलाफ मामला दर्ज कराने की मांग पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि कांग्रेस और उनके नेता भूपेंद्र सिंह हुड्डा हमेशा से जात-पात की राजनीति करते आए हैं और भाजपा शासन के दौरान कांग्रेसी किसी न किसी बहाने से जातिवाद की बात करते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस शासन के दौरान परीक्षा के प्रश्नपत्र कांग्रेसी नेताओं के घर-दफ्तर में तैयार होते थे, ताकि अपने चहेते आवेदकों को एडजस्ट किया जा सके। वर्तमान सरकार द्वारा सभी स्वायत्त संस्थाओं को भर्तियों में पारदर्शिता बरतने के निर्देश दिए, ताकि प्रदेश में योग्य युवाओं को उनका हक दिलाया जा सके। उन्होंने प्रश्न को लेकर उठे विवाद पर कहा कि वर्तमान समय में आयोग की परीक्षाओं के लिए मुख्य परीक्षक प्रश्न पत्र तैयार कराते हैं, जो सीलबंद होने के बाद सीधा परीक्षा केंद्र पर खुलते हैं। यदि पेपर को हम खोलकर जांच करेंगे तो परीक्षा की गोपनीयता भंग होगी। वहीं आयोग को जैसे ही प्रश्न में गडबड़ी का पता चला तो न केवल उन्होंने इसके लिए माफी मांगी, अपितु संबंधित दोषी के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने के निर्देश दिए गए। अब इस प्रक्रिया के लिए मुख्यमंत्री तथा आयोग चेयरमैन कैसे दोषी हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेसी नेता कह रहे हैं कि वह 101 काले ब्राह्मण एकत्रित करके सरकार के सामने अपशकुन करेंगे, जो पूरी तरह से राजनीतिक से प्रेरित योजना है। इसके माध्यम से कांग्रेस ब्राह्मण समुदाय की भावना से खिलवाड़ करते हुए उनका अपमान करने की कोशिश कर रही है।

Have something to say? Post your comment
More National News
केजरीवाल बदलेंगे कानून,शहीद जवान को केजरीवाल सरकार देगी एक करोड़ व परिवार को सरकारी नौकरी
पाक ने घायल भारतीय जवान को अगवा कर 9 घंटे तड़पया;गला रोता,टांग काटी आंख निकाली करंट लगाकर गोली मारी
सोनीपत-राजकीय सम्मान के साथ हुए शहीद नरेंद्र सिंह का अंतिम संस्कार
Partapgarh- खुुुलेे में शौच मुक्ति दिवस के रुप में मनाया गया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन
रेवाड़ी - 19 वर्षीय लड़की के साथ गैंगरेप के चौथे दिन सीएम ने तोड़ी चुप्पी बारिस से गिरा कच्चा घर तो कहीं हुयी मौत, कहीं दबा गृहस्थी
घरौंडा की कथित भूतिया कोठी का किया पर्दाफाश
भारत के जींद में मांगें पूरी न होने से गुस्साए 320 दलितों ने किया धर्म परिवर्तन
राज्यमंत्री के विधानसभा क्षेत्र जगदीशपुर की गड्ढा युक्त सड़कों पर सपाईयों ने धान लगाकर किया प्रदर्शन, समाजसेवी ने पहले ही की थी शिकायत
आज भाजपा सरकार द्वारा चुनाव के समय जनता से किए गए प्रत्येक वायदे को किया पूरा: रामबिलास शर्मा