Wednesday, August 22, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
जिलास्तरीय बैडमिंटन प्रतियोगिता में मॉनटेसरी स्कूल के छात्र हितेष ने जीता सिल्वर मेडलगांव के विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर पौधारोपण कर पूर्व प्रधानमंत्री को दी श्रद्धांजलिअभाविप महेंद्रगढ़ द्वारा सभा का आयोजन कर अटल बिहारी वाजपेई को दी श्रद्धांजलिबकरीद के त्योहार को शान्तिपूर्ण ढंग से मनायें, अफवाहो पर न दे ध्यान-जिलाधिकारीअमेठीः समय से आय जाति निवास में लेखपाल नहीं लगा रहे रिपोर्ट, स्कॉलरशिप से छूट सकते हैं छात्रझूठे झमेले फैलाकर समाज में फूट डालने का कार्य कर रहे हैं नशाखोर भगवांधारीगांव जाट में किया गया मेले का आयोजन, विभिन्न खेल प्रतियोगिताएं संपन्ननरवाना-दो हजार ने नशा को की ना, नशा न करने का लिया संकल्प
Political

विधायक जयतीर्थ की हाईकमान से मांग मध्यप्रदेश नहीं, पंजाब का फार्मूला हरियाणा में कारगर

रणबीर रोहिल्ला | May 11, 2018 06:30 PM
रणबीर रोहिल्ला

विधायक जयतीर्थ की हाईकमान से मांग
मध्यप्रदेश नहीं, पंजाब का फार्मूला हरियाणा में कारगर
पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा का मांगा नेतृत्व

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।

 

राई से कांग्रेस विधायक जयतीर्थ दहिया ने हाईकमान से मांग की है कि पंजाब की तर्ज पर हरियाणा में एक नेता के नेतृत्व का फार्मूला लागू किया जाए। उन्होंने कहा कि सामूहिक नेतृत्व के फार्मूले को लेकर जो चर्चा चल रही है, वह हरियाणा में कारगर नहीं है। दहिया ने कहा कि यहां मध्यप्रदेश का नहीं, बल्कि पंजाब का ही फार्मूला लागू करना होगा और पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा को नेतृत्व की कमान देगी होगी।
यहां जारी एक बयान में जयतीर्थ दहिया ने कहा कि सामूहिक नेतृत्व की जरूरत उन राज्यों में होती है, जहां किसी एक नेता का प्रभाव ना हो या फिर राज्य जातियों में बंटा हो। हरियाणा मे ऐसा कुछ नहीं है और यहां पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा सर्वमान्य नेता के तौर पर विकल्प मौजूद हैं। इनकी अगुवाई में सारे नेता एक ही मंच पर एकत्रित हो सकते हैं। दूसरा हरियाणा इतना बड़ा राज्य भी नहीं है, जहां कई नेतृत्व की जरूरत हो। ऐसे में सामूहिक नेतृत्व का फार्मूला यहां कारगर साबित हो ही नहीं सकता है।
राई विधायक दहिया ने कहा कि यहां तो पंजाब की तरह एक की नेता को नेतृत्व की कमान देनी होगी, तभी कांग्रेस का राज और सत्ता में वापसी संभव है। उन्होंने कहा कि इसके लिए पूर्व सीएम हुड्डा के अलावा कोई विकल्प मौजूदा स्थिति में है ही नहीं। इस बाबत पहले ही जब पार्टी पदाधिकारी हाईकमान को लिखित में एक फैसला दे चुके हैं, तो फिर सामूहिक नेतृत्व की मांग या इस तरह के विचार का कोई औचित्य भी नहीं बनता है। हाईकमान को जनभावनाओं के अनुरूप फैसला लेना चाहिए।

Have something to say? Post your comment
More Political News
शिरोमणी अकाली दल हरियाणा में सत्ता का दावेदार बनेगा
जब नए सांसदों को राजनीतिक शुचिता का पाठ पढाने हरियाणा आए वाजपेयी
करोड़ों रूपये रैली में खर्च करने की बजाए आमजन की सुविधा में लगाते तो बाहरी लोगों को लाने की नहीं आती नौबत
15 वर्ष के कार्यकाल में महेंद्रगढ़ को मूलभूत सुविधाएं तक नहीं दे पाए राव दानसिंह, चुनाव के समय लाने चले क्रांति: कुलदीप यादव
पूर्व विधायक राव दानसिंह करवाएं चाहे जनक्रांति या पैदल यात्रा, जनता नहीं आएगी झांसे में: कुलदीप यादव
काश! मुख्यमंत्री हेलीकॉप्टर की बजाए सडक़ मार्ग से आते
21 जुलाई को होने वाली धन्यवाद रैली को लेकर जनता का एक ही सवाल : खट्टर जी! आपने महेंद्रगढ़ जिले को क्या दिया है?
इनेलो की बढ़ती लोकप्रियता को देखकर बोखलाई विपक्षी पार्टियां: लम्बोरा
गरीबों का जीवन स्तर सुधारने हेतु केंद्र सरकार ने लागू की हैं अनेकों लाभदायक योजनाएं: कंवर सिंह यादव
ओछी मानसिकता के कुछ लोग लगे पार्टी को बदनाम करने