Monday, June 18, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
चोरीशुदा जनरेटर तथा वारदात में प्रयुक्त पीकअप गाडी सहित दो आरोपी गिरफतार, पुत्रवधु की करतूत भी उजागर ,48 घंटों के भीतर ही पुलिस कंवाली में हुई बुजुर्ग महिला की हत्या की गुत्थी सुलझाईपुलिस कर्मी तमाशबीन बने थे कर दिए गए निलम्बित , नौजवान पर चाकूओं से हो रहा था हमलाकुरूक्षेत्र में मिठ्ठा राम बनाते है भगवान,भगवान को बनाने वाले निर्धनशहर नरवाना पुलिस सीआइए जींद ने दो कुख्यात अपराधियों को टोहाना मोड़ नरवाना से किया काबू , तोशाम सिलेण्डर में लगी आग ,समान जला मकान मालिक आग की चपेट में झुलसा जापान में आयोजित चैंपियनशीप में ढाणी भालोठिया के बेटे ने जीता कांस्य पदकजनता ने उठाए सवाल: "क्या महेंद्रगढ़ में कभी बन पाएगा जिला मुख्यालय?"
Political

विधायक जयतीर्थ की हाईकमान से मांग मध्यप्रदेश नहीं, पंजाब का फार्मूला हरियाणा में कारगर

रणबीर रोहिल्ला | May 11, 2018 06:30 PM
रणबीर रोहिल्ला

विधायक जयतीर्थ की हाईकमान से मांग
मध्यप्रदेश नहीं, पंजाब का फार्मूला हरियाणा में कारगर
पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा का मांगा नेतृत्व

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।

 

राई से कांग्रेस विधायक जयतीर्थ दहिया ने हाईकमान से मांग की है कि पंजाब की तर्ज पर हरियाणा में एक नेता के नेतृत्व का फार्मूला लागू किया जाए। उन्होंने कहा कि सामूहिक नेतृत्व के फार्मूले को लेकर जो चर्चा चल रही है, वह हरियाणा में कारगर नहीं है। दहिया ने कहा कि यहां मध्यप्रदेश का नहीं, बल्कि पंजाब का ही फार्मूला लागू करना होगा और पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा को नेतृत्व की कमान देगी होगी।
यहां जारी एक बयान में जयतीर्थ दहिया ने कहा कि सामूहिक नेतृत्व की जरूरत उन राज्यों में होती है, जहां किसी एक नेता का प्रभाव ना हो या फिर राज्य जातियों में बंटा हो। हरियाणा मे ऐसा कुछ नहीं है और यहां पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा सर्वमान्य नेता के तौर पर विकल्प मौजूद हैं। इनकी अगुवाई में सारे नेता एक ही मंच पर एकत्रित हो सकते हैं। दूसरा हरियाणा इतना बड़ा राज्य भी नहीं है, जहां कई नेतृत्व की जरूरत हो। ऐसे में सामूहिक नेतृत्व का फार्मूला यहां कारगर साबित हो ही नहीं सकता है।
राई विधायक दहिया ने कहा कि यहां तो पंजाब की तरह एक की नेता को नेतृत्व की कमान देनी होगी, तभी कांग्रेस का राज और सत्ता में वापसी संभव है। उन्होंने कहा कि इसके लिए पूर्व सीएम हुड्डा के अलावा कोई विकल्प मौजूदा स्थिति में है ही नहीं। इस बाबत पहले ही जब पार्टी पदाधिकारी हाईकमान को लिखित में एक फैसला दे चुके हैं, तो फिर सामूहिक नेतृत्व की मांग या इस तरह के विचार का कोई औचित्य भी नहीं बनता है। हाईकमान को जनभावनाओं के अनुरूप फैसला लेना चाहिए।

Have something to say? Post your comment
More Political News
जनता ने उठाए सवाल: "क्या महेंद्रगढ़ में कभी बन पाएगा जिला मुख्यालय?"
सेवानिवृत आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी के कांग्रेस में शामिल होने से बदलने लगे सैमीकरण,तंवर खेमे को मिला बल,
रणबीर मान से कलायत विस को अलविदा करने की चर्चाओं पर लगाया विराम
आम आदमी पार्टी राजनिति बदलने नहीं सिस्टम बदलने आई है : पवन हिंदुस्तानी
कलायत की चौधर,सुरजेवाला, जयप्रकाश, रामपाल माजरा और दूसरे दिग्गज रच रहे चक्रव्यूह रचना
कलायत नगरपालिका कलायत की प्रधानगी को लेकर मुकाबला भाजपा बनाम भाजपा में !
भाजपा सरकार से हर वर्ग दु:खी - डॉ० मनोज नैन
सुरजेवाला को अगर सीएम बनाने का इतना ही शौक है तो अपने बाप को क्यों नही बना देता सीएम
इनेलो-बसपा की अग्रिपरीक्षा-जींद में एसवाईएल के पानी को लेकर इनेलो के जेल भरो आंदोलन
कैथल-सोशल मीडिया पर रणधीर गोलन पूंडरी द्वारा भाजपा पार्टी छोड़ने की पोस्ट हुई वायरल,