Wednesday, August 22, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
जिलास्तरीय बैडमिंटन प्रतियोगिता में मॉनटेसरी स्कूल के छात्र हितेष ने जीता सिल्वर मेडलगांव के विभिन्न सार्वजनिक स्थानों पर पौधारोपण कर पूर्व प्रधानमंत्री को दी श्रद्धांजलिअभाविप महेंद्रगढ़ द्वारा सभा का आयोजन कर अटल बिहारी वाजपेई को दी श्रद्धांजलिबकरीद के त्योहार को शान्तिपूर्ण ढंग से मनायें, अफवाहो पर न दे ध्यान-जिलाधिकारीअमेठीः समय से आय जाति निवास में लेखपाल नहीं लगा रहे रिपोर्ट, स्कॉलरशिप से छूट सकते हैं छात्रझूठे झमेले फैलाकर समाज में फूट डालने का कार्य कर रहे हैं नशाखोर भगवांधारीगांव जाट में किया गया मेले का आयोजन, विभिन्न खेल प्रतियोगिताएं संपन्ननरवाना-दो हजार ने नशा को की ना, नशा न करने का लिया संकल्प
Uttar Pradesh

क्या है शुकुल बाजार में खास, अधिकारियों को स्थानान्तरण नहीं आता रास ?

सुरजीत यादव | May 27, 2018 05:04 PM
सुरजीत यादव

क्या है शुकुल बाजार में खास, अधिकारियों को स्थानान्तरण नहीं आता रास ?

अमेठी। यह बुद्धिजीवियों के बीच होने वाली चर्चा का ही एक अंश है। जो अधिकारी व कर्मचारी के स्थानान्तरण और पुनरागमन के समय सुनने को मिल जाती हैं। इस क्षेत्र में ऐसी क्या खासियत है। जो अधिकारी व कर्मचारी को रास आ गई और क्षेत्र से अन्यत्र ट्ांसफर होने पर बेहद चिंतित देखे जाते हैं।

विकास क्षेत्र बाजार शुक्ल जनपद के आखिरी छोर पर गोमती के किनारे स्थिति हैं। ट्ांसफर और पोस्टिंग के बीच से गुजरना यह तो प्रशासनिक व्यवस्था की प्रक्रिया में है। किन्तु बाजार शुक्ल में जो अधिकारी व कर्मचारी पोस्ट होते हैं और समयावधि के बाद यदि स्थानान्तरण होने की बात आती हैं तो उन्हे बेहद चिंतित होते देखा जाता है । मिशाल के तौर पर बाल विकास परियोजना कार्यालय में लिपिक पद पर विजय मिश्र कार्यालय स्थापना से ही तैनात हैं। हाल ही में विकास क्षेत्र से अन्यत्र ब्लॉक को स्थानान्तरण हुआ है। कोई एक-दो तो इसी को व्यवस्थित करने में तनावग्रस्त दिखें। और कामयाब भी हो गये। और फिर बाजार शुकुल में ग्राम विकास अधिकारी पद पर कार्यरत हो गये। और कुछ तो दौड़-धूप के पश्चात् लौट आने का आश्वासन कहीं से पाने के बाद शानत तो हैं किन्तु पूर्ण शान्ति तो तभी है जब बाजार शुकुल पुनः लौट आये। यह तो ट्ांसफर और पोसि्ंट के चक्र में आने से और बाजार शुकुल छोड़ने की बात से उत्पन्न चिंता। एक बानगी है ग्राम विकास अधिकारियों, अध्यापाकों, या फिर थाना बाजार शुकुल में तैनात रहें सिपाहियों की। यह कोई नई बात नहीं है अक्सर ऐसा होता और वे फिर बाजार शुकुल में आकर पुनः वैसी ही राहत की सॉस लेते है। जैसे तड़पती मछली जल पाकर। वैसे पानी तो मछली का प्राण है। बिना इसके जीवन सम्भव नही है। परन्तु अधिकारियों व कर्मचारियों के लिए बाजार शुकुल में क्या खास है कि इस क्षेत्र अन्यत्र के लिए स्थानान्तरण रास नहीं आता । बहरहाल इसे तो वे अधिकारी व कर्मचारी ही जान सकते है जिसे इसकी लग गई है।

Have something to say? Post your comment
More Uttar Pradesh News
बकरीद के त्योहार को शान्तिपूर्ण ढंग से मनायें, अफवाहो पर न दे ध्यान-जिलाधिकारी
अमेठीः समय से आय जाति निवास में लेखपाल नहीं लगा रहे रिपोर्ट, स्कॉलरशिप से छूट सकते हैं छात्र
बेल्हा-तीन दिन में अवैध असलहा कर दे पुलिस के पास जमा नही होगी कोई कारवाही,उसके बाद छापेमारी में मिला तो खैर नही-आईजी मोहित अग्रवाल
मन्धाता-कांग्रेस कमेटी के ब्लाक अध्यक्ष धर्मेंद्र तिवारी की अध्यछता में दी गई पूर्व प्रधानमंत्री अटल जी को अश्र्वपूर्ण श्रंद्धांजलि
मान्धाता में ब्यापार मंडल के आह्वान पर ब्यापारियों ने की हड़ताल सभी दुकाने रही बन्द ब्यापारियों में भारी आक्रोश
मन्धाता-मां धनु विद्यापीठ इंटर कॉलेज में धूम धाम से मनाया गया 72 वा स्वतंत्रता दिवस समारोह
मान्धाता-सभी त्योहार शांतिपूर्ण तरीके से मनाये जाए-कोतवाल देवेंद्र प्रताप सिंह
प्रतापगढ़-कावड़ियों के ऊपर हो रही फूल वर्षा से तिलमिलाए एक युवक को फेसबुक पर टिप्पड़ी करना पड़ा महंगा ,संगीन अपराधों में मुकदमा दर्ज
अमेठीः बारिस से पाली गांव के किसानो का फसल हुआ जलमग्न, लाखो का नुकसान,कैसे होगी किसानों की दो गुनी आय ?
पत्रकारों के मान, सम्मान व अधिकार की लड़ाई लड़ने के लिए संगठन कटिबद्व- शील गहलौत