Thursday, January 24, 2019
Follow us on
Haryana

कलायत-प्रधानगी को लेकर कमल खिलाने की तैयारी में भाजपा

कलायत से तरसेम की रिपोर्ट | June 11, 2018 07:34 PM
कलायत से तरसेम की रिपोर्ट

कलायत-प्रधानगी को लेकर कमल खिलाने की तैयारी में भाजपा
पालिका की प्रधानगी को लेकर फूंक-फूंक कर रखे जा रहे कदम
सर्वसम्मति से प्रधान बनाने की तैयार की जा रही है खास नीति
कैथल नगर परिषद चुनाव में कांग्रेस से मात खा चुकी है भाजपा
कलायत।
कैथल नगर परिषद प्रधान चुनाव में करारी शिकस्त के बाद भाजपा स्थानीय राजनीति के मसलों में फूंक-फूंक कर कदम रख रही है। पार्षदों की गुटबाजी की आड़ में भाजपा को फिर से विश्वासघात का कड़वा स्वाद न चखना पड़े इसके लिए भाजपा ने पहले से ही रणनीति तैयार कर रही है। इसी कड़ी में सोमवार को कलायत में वार्ड 6 की पार्षद रजनी राणा के पति अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा प्रधान महासचिव सलिंद्र राणा द्वारा पार्षद मिलन समारोह का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में मुख्यातिथि के तौर पर भाजपा जिला अध्यक्ष अशोक ढांड ने शिरकत की। इसके अलावा स्वच्छ भारत मिशन चेयरमैन सुभाष चंद्र, जिला जींद भाजपा अध्यक्ष अमरपाल राणा, अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के कार्यकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष महेंद्र तंवर, भाजपा किसान मोर्चा जिलाध्यक्ष अजीत चहल, जिला परिषद उपाध्यक्ष मुनीष कठवाड़, विनोद राणा थंबड़, डा. प्रीतम सिंह कौलेखां, जितेंद्र राणा पुंडरी, डा. हरीश गर्ग और दूसरे पार्टी नेता विशिष्ट रूप से मौजूद रहे। चंडीगढ़-हिसार राष्ट्रीय मार्ग पर स्थित एवरेस्ट होटल में जन समूह को संबोधित करते हुए भाजपा जिलाध्यक्ष अशोक ढांड ने कहा कि उनका मकसद सर्वसम्मति से पदाधिकारियों का चुनाव संपन्न करवाना है। सरकार, संगठन और पार्टी क्षेत्र के लोगों पर किसी प्रकार का निर्णय जबरन नहीं थोपेगी। मकसद उम्मीदों पर खरा उतरने वाले पार्षद को चौधर की कमान सौंपना है। विकास और जन कल्याणकारी नीतियों को प्रभावी ढंग से क्रियान्वित करने के लिए गुटबाजी के अध्यायों को बंद करना अनिवार्य भी है। कलायत क्षेत्र को अरसे से विकास की दरकार रही है। इस दिशा में प्रदेश मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने सौगातों का जो पिटारा कलायत नगर के लिए खोला है उससे हर तरफ विकास ही विकास नजर आ रहे है। बदलाव का यह दौर पूर्ववर्ती सरकारों और वर्तमान सरकार की कार्यप्रणाली की तस्वीर बखूबी ढंग से साफ कर रहा है। स्थानीय स्वशासन प्रणाली को सशक्त करने के लिए प्रतिनिधियों को एक मंच पर लाना वक्त की मांग है। स्थानीय सियासत में उठा-पटक का असर साफ तौर से विकास कार्यों पर नजर आता है। सरकार नहीं चाहती कि प्रतिनिधि अलग-अलग डगर के राही बने। इस विजन और मिशन को लेकर सर्वसम्मति का महकता कमल खिलाने की भूमि तैयार करने के लिए सभी वर्गों की सहभागिता जरूरी है।

मिलन समारोह में नजर नहीं आई महिला पार्षद:
कलायत में आयोजित मिलन समारोह में महिला पार्षद नजर नहीं आई। आठ महिला पार्षदोंं के स्थान पर परिवार के लोगों का जिला अध्यक्ष अशोक ढांड द्वारा पुष्प माला से अभिवादन किया गया। इस मंजर ने यह दर्शा दिया कि अभी नारी के हाथ सियासत की कमान आने में अभी ओर समय लग सकता है।

सियासत के ज्ञाताओं को उलझा रहा पार्षदों का गणित:
नगरपालिका चुनाव के बाद पार्षदों द्वारा क्रमवार जलपान और मैत्री भोज का आयोजन करवाने का सिलसिला जारी है। इसके पीछे मुख्य मकसद पालिका प्रधानगी को लेकर शक्ति प्रदर्शन है। सभी आयोजनों में करीब-करीब सभी पार्षद या उनके प्रतिनिधियों के पहुंचने से सियासत के ज्ञाताओं को भी समझ नहीं आ रहा कि कोन पार्षद किसके साथ है।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
फतेहपुर बिल्लोच एम्स की शाखा को इंतज़ार अगली सरकार का???
लड़कियां किसी भी क्षेत्र में पीछे नहीं प्रदीप दहिया।
मांगे राम गुप्ता से समर्थन की अभी भी उम्मीद राजनीतिक दलों को
सीएम के गोद लिए गांव की तस्वीर देखकर आप रह जाएंगे हैरान !
मुख्यमंत्री ने गुरुग्राम में अचानक किया विकास कार्यों का निरीक्षण - अचानक पहुंचे द्वारका एक्सप्रैस-वे के निर्माण की प्रगति को देखने,
जनस्वास्थय विभाग मौन, समस्या सुलझाए कौन
प्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने पर किए जाऐगें किसानों के कर्ज माफ : चीमा
विकास के पक्षधर लेकिन पहले हो दुकानदारों की व्यवस्था : संदीप
शीशे गलती से टूटते हैं और रिश्ते गलतफहमियों से-दुष्यंत
इलाके के तस्वीर व तकदीर बदलने का चुनाव है - सुरजेवाला