Monday, July 16, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
एम.बी.बी.एस. में चयनित विक्रम यादव को सरताज जनसेवा ग्रुप द्वारा किया गया सम्मानितसतनाली के राजकीय महाविद्यालय में किया दो दिवसीय अभिमुख कार्यक्रम का आयोजनडेंगू व मलेरिया को लेकर जागा स्वास्थ्य विभागनांगल सिरोही में आयोजित शिविर में तीसरे दिन लोगों को किया योग के प्रति जागरूकडीएम अमेठी ने जिला कृषि अधिकारी एवं एलडीएम को लगायी फटकार, फसल ऋण मोचन योजना में लापरवाही का मामलाहृदय गति रूकने से मालड़ा सराय के लाडले सैनिक लीलाराम का निधनआपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाने को लेकर मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को सौंपा ज्ञापनलम्बोरा एकेडमी में पौधारोपण कर बच्चों को किया पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक
Political

सेवानिवृत आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी के कांग्रेस में शामिल होने से बदलने लगे सैमीकरण,तंवर खेमे को मिला बल,

ईश्वर धामू | June 16, 2018 07:50 PM
ईश्वर धामू

सेवानिवृत आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी के कांग्रेस में शामिल होने से बदलने लगे सैमीकरण
तंवर खेमे को मिला बल, तंवर विरोधी गुट बदलने लगा अपनी रणनीति
ईश्वर धामु
भिवानी। हरियाणा के चर्चित आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी सेवानिवृति के बाद कांग्रेस में क्या शामिल हुए कि पार्टी के सैमीकरण ही बदलते नजर आने लगे है। कासनी के लिए सोशल मीडिया पर तरह-तरह के कॉमेंट आ रहे हैं। क्योकि सर्विस में रहते हुए ही प्रदीप कासनी सोशल मीडिया पर काफी सक्रिए रहे हैं। अब सेवा निवृति के बाद तो उनके लिखने में पैनापन आ गया है। सामयिक मुद्दे पर सटीक टिप्पणी और किसी भी मुद्दे पर साहित्यिक अंदाज में अभिव्यक्ति सोशल मीडिया में उनकी पहचान बन चुकी थी। सोशल मीडिया में बराबर आ रही टिप्पणियों से इतना तो आभास हो रहा था कि वें देर-सवेर से सक्रिए राजनीति में आयेंगे। सेवानिवृति के प्रारम्भ में लगता था कि वें इनेलो में जा सकते हैं। ऐसा उनके जातीय सैमीकरण के कारण भी कयास लगाए जा रहे थे। परन्तु उन्होने कांग्रेस में शामिल होकर चर्चाकारों का राजनैतिक गणित ही बिगाड़ दिया। इतना ही नहीं कांग्रेस में भी उन्होने प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर केे नेतृत्व में प्रवेश पाया। उन्होने कांग्रेस के सभी नेताओं को अपने कद का अहसास राहुल गांधी से मुलाकात करके करवा दिया। हालांकि कुछ चर्चाकार यह भी कह रहे हैं कि उनको भूपेन्द्र हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल होना चाहिए था। पर अपने राजनैतिक ज्ञान और सुझबुझ से प्रदीप कासनी ने एक सही निर्णय लिया। क्योकि अब से पहले जो भी नेता कांग्रेस में भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में शामिल हुए, उनकी एंट्री पर पार्टी में ही कई सवाल पैदा हो गए थे। निसंदेह एक विचारवान, साहित्यप्रेमी और राजनैतिक पारिवारिक पृष्ठभूमि वाले इस अधिकारी का कांग्रेस में आने का पार्टी को बड़ा लाभ मिलेगा। यह आज चर्चा का विषय नहीं है कि कासनी चुनाव लड़ेंगे या नहीं? पर ऐसे समय में जब कांग्रेस में भंयकर गुटबंदी चल रही है और पार्टी का एक बड़ा व प्रभावी गुट अपनी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष का जम कर विरोध कर रहा है, तो निसंदेह ऐसे में पार्टी में नव आगंतुक प्रदीप कासनी की नैतिक जिम्मेदारी बढ़ जाती है कि वें अपने नेतृत्व को कैसे और क्या सहारा दे सकते हैं? क्योकि एक प्रशासनिक अधिकारी होने के कारण उनको सरकार के सम्पर्क तारों का ज्ञान है तो अपने समय के प्रखर और प्रभावी जननेता रहे धर्मसिंह कासनी का बेटा होने के कारण वें राजनैतिक दांव-पैचै की भी पूरी जानकारी रखते हैं। यही कारण है कि उनके अशोक तंवर के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल होने से तंवर विरोधी खेमे में बचैनी पैदा हो गई है। तंवर विरोधी खेमे को यह थोड़ा भी आभास नहीं हो पाया कि प्रदीप कासनी कांग्रेस में आ रहे हैं। कासनी के आने से अशोक तंवर का जाटों द्वारा किए जाने वाले विरोध के तेवर ढ़ीले पड़ जायेंगे। इतना ही नहीं कासनी के अपने क्षेत्र के समर्थक अब निसंदेह तंवर के समर्थन में आयेगें। यह बताया गया है कि शीध्र ही कासनी को पार्टी में एक बड़ा और महत्वपूर्ण पद दिया जा रहा है। पद मिलने के बाद वें अपना शक्ति प्रदर्शन करेंगे। इसके बाद ही राजनैतिक बदलाव की तस्वीर उभर कर सामने आयेगी।

Have something to say? Post your comment
More Political News
इनेलो की बढ़ती लोकप्रियता को देखकर बोखलाई विपक्षी पार्टियां: लम्बोरा
गरीबों का जीवन स्तर सुधारने हेतु केंद्र सरकार ने लागू की हैं अनेकों लाभदायक योजनाएं: कंवर सिंह यादव
ओछी मानसिकता के कुछ लोग लगे पार्टी को बदनाम करने
जनमानस की मांग, विधानसभा से चुनाव लडऩे के लिए पूरी तरह तैयार: सत्यवीर झूकिया
कांग्रेस को झटका: बलाना के पूर्व सरपंच प्रकाश गुर्जर ने कांग्रेस छोड़ इनेलो पार्टी का थामा दामन
विपक्षी पार्टियां लगा लें पूरा जोर आने वाला समय होगा इनेलो-बसपा का
हरियाणा में 10 की 10 लोकसभा सीटें और 90 में से 80 विधानसभा सीटें भाजपा जीतेगी : ढुल
अगर कंवर सिंह यादव महेंद्रगढ़ से लड़ते हैं चुनाव तो बिगड़ सकते हैं विधानसभा के समीकरण
जनता ने उठाए सवाल: "क्या महेंद्रगढ़ में कभी बन पाएगा जिला मुख्यालय?"
रणबीर मान से कलायत विस को अलविदा करने की चर्चाओं पर लगाया विराम