Wednesday, April 24, 2019
BREAKING NEWS
नेताओ की निगाह में कार्यकर्ताओं की कोई हैसियत नहीं ,कोई कार्यकर्त्ता नेता बने ये सहन नहीं 10 लोकसभा क्षेत्रों से नामांकन प्रक्रिया के आखिरी दिन 163 उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल सोनीपत बनी सबसे हॉट सीट, राजनीति के दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव परदिल के अरमान आंसुओं में बह गए...राजकुमार सैनी नामांकन ही नहीं कर पाए दाखिल रामपाल माजरा ने किया अर्जुन चौटाला के चुनावी कार्यालय का उद्घाटन कर श्रीगणेश डेरा बाबा वडभाग सिंह के बाबा पर धोखाधड़ी का मामला दर्जजो पार्टी 72 हजार रूपए में श्रीमद्भगवत गीता को बेच सकते हैं , कुरूक्षेत्र से क्या न्याय कर पाएगी :- रणदीप सिंह सुरजेवालाजयहिंद के खिलाफ दर्ज हैं चार केसफरीदाबाद को गुंडाराज से मुक्ति दिलाएंगे पंडित नवीन जयहिंद:सिसोदियातरावड़ी नपा ने घोषित किया जहरीला जल, फिर भी पाली जा रही मछलियां

Political

सेवानिवृत आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी के कांग्रेस में शामिल होने से बदलने लगे सैमीकरण,तंवर खेमे को मिला बल,

June 16, 2018 07:50 PM
ईश्वर धामू

सेवानिवृत आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी के कांग्रेस में शामिल होने से बदलने लगे सैमीकरण
तंवर खेमे को मिला बल, तंवर विरोधी गुट बदलने लगा अपनी रणनीति
ईश्वर धामु
भिवानी। हरियाणा के चर्चित आईएएस अधिकारी प्रदीप कासनी सेवानिवृति के बाद कांग्रेस में क्या शामिल हुए कि पार्टी के सैमीकरण ही बदलते नजर आने लगे है। कासनी के लिए सोशल मीडिया पर तरह-तरह के कॉमेंट आ रहे हैं। क्योकि सर्विस में रहते हुए ही प्रदीप कासनी सोशल मीडिया पर काफी सक्रिए रहे हैं। अब सेवा निवृति के बाद तो उनके लिखने में पैनापन आ गया है। सामयिक मुद्दे पर सटीक टिप्पणी और किसी भी मुद्दे पर साहित्यिक अंदाज में अभिव्यक्ति सोशल मीडिया में उनकी पहचान बन चुकी थी। सोशल मीडिया में बराबर आ रही टिप्पणियों से इतना तो आभास हो रहा था कि वें देर-सवेर से सक्रिए राजनीति में आयेंगे। सेवानिवृति के प्रारम्भ में लगता था कि वें इनेलो में जा सकते हैं। ऐसा उनके जातीय सैमीकरण के कारण भी कयास लगाए जा रहे थे। परन्तु उन्होने कांग्रेस में शामिल होकर चर्चाकारों का राजनैतिक गणित ही बिगाड़ दिया। इतना ही नहीं कांग्रेस में भी उन्होने प्रदेश अध्यक्ष अशोक तंवर केे नेतृत्व में प्रवेश पाया। उन्होने कांग्रेस के सभी नेताओं को अपने कद का अहसास राहुल गांधी से मुलाकात करके करवा दिया। हालांकि कुछ चर्चाकार यह भी कह रहे हैं कि उनको भूपेन्द्र हुड्डा के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल होना चाहिए था। पर अपने राजनैतिक ज्ञान और सुझबुझ से प्रदीप कासनी ने एक सही निर्णय लिया। क्योकि अब से पहले जो भी नेता कांग्रेस में भूपेन्द्र सिंह हुड्डा के नेतृत्व में शामिल हुए, उनकी एंट्री पर पार्टी में ही कई सवाल पैदा हो गए थे। निसंदेह एक विचारवान, साहित्यप्रेमी और राजनैतिक पारिवारिक पृष्ठभूमि वाले इस अधिकारी का कांग्रेस में आने का पार्टी को बड़ा लाभ मिलेगा। यह आज चर्चा का विषय नहीं है कि कासनी चुनाव लड़ेंगे या नहीं? पर ऐसे समय में जब कांग्रेस में भंयकर गुटबंदी चल रही है और पार्टी का एक बड़ा व प्रभावी गुट अपनी पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष का जम कर विरोध कर रहा है, तो निसंदेह ऐसे में पार्टी में नव आगंतुक प्रदीप कासनी की नैतिक जिम्मेदारी बढ़ जाती है कि वें अपने नेतृत्व को कैसे और क्या सहारा दे सकते हैं? क्योकि एक प्रशासनिक अधिकारी होने के कारण उनको सरकार के सम्पर्क तारों का ज्ञान है तो अपने समय के प्रखर और प्रभावी जननेता रहे धर्मसिंह कासनी का बेटा होने के कारण वें राजनैतिक दांव-पैचै की भी पूरी जानकारी रखते हैं। यही कारण है कि उनके अशोक तंवर के नेतृत्व में कांग्रेस में शामिल होने से तंवर विरोधी खेमे में बचैनी पैदा हो गई है। तंवर विरोधी खेमे को यह थोड़ा भी आभास नहीं हो पाया कि प्रदीप कासनी कांग्रेस में आ रहे हैं। कासनी के आने से अशोक तंवर का जाटों द्वारा किए जाने वाले विरोध के तेवर ढ़ीले पड़ जायेंगे। इतना ही नहीं कासनी के अपने क्षेत्र के समर्थक अब निसंदेह तंवर के समर्थन में आयेगें। यह बताया गया है कि शीध्र ही कासनी को पार्टी में एक बड़ा और महत्वपूर्ण पद दिया जा रहा है। पद मिलने के बाद वें अपना शक्ति प्रदर्शन करेंगे। इसके बाद ही राजनैतिक बदलाव की तस्वीर उभर कर सामने आयेगी।

Have something to say? Post your comment

More in Political

सोनीपत बनी सबसे हॉट सीट, राजनीति के दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर

श्रुति चौधरी के नामांकन पर उमड़ी भीड़ ने बदले राजनैतिक समीकरण

कृष्णपाल गुर्जर ने चुनावी सभा में मनमोहन गर्ग को दिया विधानसभा के लिये आशीर्वाद।

उचाना हल्का से अनुराग खटकड़ इनेलो के सबसे मजबूत उमीदवार

चुनावी समय में नेता पहुंचने लगे हैं पंडितों की शरण में जीत के लिए अपना रहे हैं ज्योतिष के टोटकें

चप्पल व झाडू मिलकर करेंगे विपक्षी पार्टियों का सफाया: दुष्यंत चौटाला

हिसार में भाजपा ने अपने पैरों पर मारी कुल्हाड़ी,बृजेंद्र सिंह को टिकट देकर हाथ आई जीत गंवाई

भाजपा की सोच दलित विरोधी: रणदीप सुरजेवाला

बाजार शुक्ल के अलग-अलग स्थानों पर सपा और भाजपा कार्यकर्ताओं ने बनाया बाबा साहब की जयन्ती

अवतार भड़ाना न घर के रहे, न घाट के टिकट कटने से कांग्रेस में वापसी हो गई बेकार