Wednesday, April 24, 2019
BREAKING NEWS
नेताओ की निगाह में कार्यकर्ताओं की कोई हैसियत नहीं ,कोई कार्यकर्त्ता नेता बने ये सहन नहीं 10 लोकसभा क्षेत्रों से नामांकन प्रक्रिया के आखिरी दिन 163 उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल सोनीपत बनी सबसे हॉट सीट, राजनीति के दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव परदिल के अरमान आंसुओं में बह गए...राजकुमार सैनी नामांकन ही नहीं कर पाए दाखिल रामपाल माजरा ने किया अर्जुन चौटाला के चुनावी कार्यालय का उद्घाटन कर श्रीगणेश डेरा बाबा वडभाग सिंह के बाबा पर धोखाधड़ी का मामला दर्जजो पार्टी 72 हजार रूपए में श्रीमद्भगवत गीता को बेच सकते हैं , कुरूक्षेत्र से क्या न्याय कर पाएगी :- रणदीप सिंह सुरजेवालाजयहिंद के खिलाफ दर्ज हैं चार केसफरीदाबाद को गुंडाराज से मुक्ति दिलाएंगे पंडित नवीन जयहिंद:सिसोदियातरावड़ी नपा ने घोषित किया जहरीला जल, फिर भी पाली जा रही मछलियां

Political

जनता ने उठाए सवाल: "क्या महेंद्रगढ़ में कभी बन पाएगा जिला मुख्यालय?"

June 17, 2018 10:57 PM
सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट

जनता ने उठाए सवाल: "क्या महेंद्रगढ़ में कभी बन पाएगा जिला मुख्यालय?"
जिला मुख्यालय नारनौल में होने के कारण क्षेत्र के लोग विकास कार्यों को लेकर फिर रहे ठोकरे खाते


सतनाली मंडी (प्रिंस लांबा)।

 

जैसे-जैसे चुनाव का समय नजदीक आता जा रहा है वैसे-वैसे विभिन्न नेताओं को भी जनता की याद आती जा रही है। वैसा देखा जाए तो महेंद्रगढ़ विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लडऩे वाला प्रत्येक प्रत्याशी या नेता चाहे वे किसी पार्टी से हों या न हों महेंद्रगढ़ में जिला मुख्यालय बनवाने का दावा कर जनता को बहला-फुसलाकर वोट की राजनीति तो करते हैं परंतु सत्ता में आने के बाद उन्हें जिला मुख्यालय तो दूर जनता तक की याद नहीं आती। लेकिन अब महेंद्रगढ़ की जनता सजग हो चुकी है तथा वह किसी के बहकावे में आने वाली नहीं है। अब जनता राजनेताओं से सिर्फ यही सवाल कर रही है कि क्या महेंद्रगढ़ में कभी जिला मुख्यालय बन पाएगा? क्या लोगों को अपनी समस्याओं को लेकर ऐसे ही दर-दर की ठोकरे खानी पड़ेगीं? परंतु किसी भी नेता व प्रत्याशी के पास इन सवालों के जवाब नहीं हैं।

जनता का कहना है कि महेंद्रगढ़ जिला प्रदेश का सबसे पुराना जिला है। यह 19वीं शताब्दी से ही अपने अस्तित्व के लिए संघर्ष कर रहा है। महेंद्रगढ़ सिर्फ नाम से ही जिला बना हुआ है। अगर देखा जाए तो प्रदेश के किसी भी जिले का मुख्यालय केंद्र के अलावा कहीं नहीं है सिवाय महेंद्रगढ़ के।  यहां के निवासियों को अपने प्रशासनिक और राजस्व संबंधित सभी कार्यों के लिए 50 से 60 किलोमीटर दूर नारनौल में भटकने को मजबूर होना पड़ रहा है। वहीं इस जिले के बाद बने हरियाणा के दूसरे जिलों की उन्नति देख यह जिला अपने निवासियों की चिर निंद्रा पर आंसू बहा रहा है। वर्ष 1948 में पूर्णगठित महेंद्रगढ़ शहर में सरकारी कार्यालयों के लिए ईमारतों के अभाव में वैकल्पिक व्यवस्था के मध्यनजर कुछ समय के लिए नारनौल को जिला मुख्यालय बनाया गया था परंतु स्थानीय जनता की नासमझी और राजनैतिक दूर-दृष्टि के अभाव में यह वैकल्पिक व्यवस्था स्थायी हो गई।

नारनौल में जिला मुख्यालय होने से सतनाली क्षेत्र का विकास भी प्रभावित हुआ है। जिसको लेकर यहां के लोग समय-समय पर इस बारे में आवाज उठाते रहते हैं लेकिन उनकी ओर किसी भी सरकार ने ध्यान नहीं दिया। क्षेत्र के लोगों ने कहा कि संपूर्ण प्रदेश में सिर्फ महेंद्रगढ़ ही एकमात्र ऐसा जिला है जिसका मुख्यालय केंद्र में न होकर अन्य स्थान पर स्थापित है। जिससे यहां की जनता अपनी समस्याओं व विकास कार्यों को लेकर दर-दर की ठोकरे खा रही है। जिला मुख्यालय नारनौल में स्थापित होने के कारण वहां का विकास तो निरंतर हो रहा है परंतु जिले के अन्य कस्बों का विकास प्रभावित हो रहा है, जिससे लोग मूलभूत सुविधाओं के लिए भी तरसते नजर आ रहे हैं।

लोगों ने कहा कि महेंद्रगढ़ विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लडऩे वाले नेताओं तथा प्रत्याशियों का जनता से कोई लेना-देना नहीं है। वे तो सिर्फ चुनाव के समय जिला मुख्यालय के नाम पर वोट की राजनीति करते हैं तथा पावर मिलते ही सत्ता के नशे में इतने चूर हो जाते हैं कि उन्हें पांच वर्ष के कार्यकाल के दौरान अपने अलावा जनता की समस्याओं तथा दु:ख-दर्द के बारे में कुछ नहीं सुझता। सरकार द्वारा जल्द ही महेंद्रगढ़ में जिला मुख्यालय बनवाया जाना चाहिए ताकि विकास के लिए तरसते इस क्षेत्र का भी उद्धार हो सके।

Have something to say? Post your comment

More in Political

सोनीपत बनी सबसे हॉट सीट, राजनीति के दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर

श्रुति चौधरी के नामांकन पर उमड़ी भीड़ ने बदले राजनैतिक समीकरण

कृष्णपाल गुर्जर ने चुनावी सभा में मनमोहन गर्ग को दिया विधानसभा के लिये आशीर्वाद।

उचाना हल्का से अनुराग खटकड़ इनेलो के सबसे मजबूत उमीदवार

चुनावी समय में नेता पहुंचने लगे हैं पंडितों की शरण में जीत के लिए अपना रहे हैं ज्योतिष के टोटकें

चप्पल व झाडू मिलकर करेंगे विपक्षी पार्टियों का सफाया: दुष्यंत चौटाला

हिसार में भाजपा ने अपने पैरों पर मारी कुल्हाड़ी,बृजेंद्र सिंह को टिकट देकर हाथ आई जीत गंवाई

भाजपा की सोच दलित विरोधी: रणदीप सुरजेवाला

बाजार शुक्ल के अलग-अलग स्थानों पर सपा और भाजपा कार्यकर्ताओं ने बनाया बाबा साहब की जयन्ती

अवतार भड़ाना न घर के रहे, न घाट के टिकट कटने से कांग्रेस में वापसी हो गई बेकार