Monday, July 16, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
एम.बी.बी.एस. में चयनित विक्रम यादव को सरताज जनसेवा ग्रुप द्वारा किया गया सम्मानितसतनाली के राजकीय महाविद्यालय में किया दो दिवसीय अभिमुख कार्यक्रम का आयोजनडेंगू व मलेरिया को लेकर जागा स्वास्थ्य विभागनांगल सिरोही में आयोजित शिविर में तीसरे दिन लोगों को किया योग के प्रति जागरूकडीएम अमेठी ने जिला कृषि अधिकारी एवं एलडीएम को लगायी फटकार, फसल ऋण मोचन योजना में लापरवाही का मामलाहृदय गति रूकने से मालड़ा सराय के लाडले सैनिक लीलाराम का निधनआपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाने को लेकर मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को सौंपा ज्ञापनलम्बोरा एकेडमी में पौधारोपण कर बच्चों को किया पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक
Haryana

चार लाख में बिकी खटकड़ की सपना

अटल हिन्द ब्यूरो | June 27, 2018 07:16 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

चार लाख में बिकी खटकड़ की सपना
उचाना।
खटकड़ गांव के हवा सिंह की मुर्राह नस्ल की भैंस को जींद के ओम नगर में कबाड़ी मार्केट में रहने वाले सुरेंद्र सिंह चार लाख रुपए में खरीदा। मुर्राह नस्ल की भैंस को हवा सिंह, परिवार के सदस्य सपना के नाम से पुकारते थे। चार लाख रुपए की भैंस बिकने का गांव के लोगों को पता चला कि हवा सिंह की चार लाख की भैंस को देखने के लिए ग्रामीण भी पहुंचे।
हवा सिंह ने बताया कि मुर्राह नस्ल क भैंस 16 लीटर के आस-पास दूध देती थी। अब यह 22 से 25 लीटर तक दूध देगी। भैंस की जो कीमत मिली है वह आम तौर पर खरीदी जाने वाली गाडिय़ों से अधिक है। मुर्राह नस्ल की भैंस पशु पालकों के लिए काला सोना बन रही है। पशु पालकों में मुर्राह नस्ल की भैंस पालने को लेकर रूझान बढ़ा है।

Have something to say? Post your comment
More Haryana News
एम.बी.बी.एस. में चयनित विक्रम यादव को सरताज जनसेवा ग्रुप द्वारा किया गया सम्मानित
सतनाली के राजकीय महाविद्यालय में किया दो दिवसीय अभिमुख कार्यक्रम का आयोजन
डेंगू व मलेरिया को लेकर जागा स्वास्थ्य विभाग
नांगल सिरोही में आयोजित शिविर में तीसरे दिन लोगों को किया योग के प्रति जागरूक
हृदय गति रूकने से मालड़ा सराय के लाडले सैनिक लीलाराम का निधन
लम्बोरा एकेडमी में पौधारोपण कर बच्चों को किया पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक
स्कूल व बारात की बस में जबरदस्त टक्कर, आधा दर्जन बच्चे घायल
दीप प्रज्वलित कर किया 5 दिवसीय नि:शुल्क योग शिविर का शुभारंभ
शिक्षक नहीं, कैसे हो पढ़ाई, शिक्षा मंत्री के गृहक्षेत्र के इस स्कूल को है शिक्षकों का इंतजार
मौत की सवारी बन बच्चों को ढो रही हैं जर्जर स्कूली बस