Monday, July 16, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
एम.बी.बी.एस. में चयनित विक्रम यादव को सरताज जनसेवा ग्रुप द्वारा किया गया सम्मानितसतनाली के राजकीय महाविद्यालय में किया दो दिवसीय अभिमुख कार्यक्रम का आयोजनडेंगू व मलेरिया को लेकर जागा स्वास्थ्य विभागनांगल सिरोही में आयोजित शिविर में तीसरे दिन लोगों को किया योग के प्रति जागरूकडीएम अमेठी ने जिला कृषि अधिकारी एवं एलडीएम को लगायी फटकार, फसल ऋण मोचन योजना में लापरवाही का मामलाहृदय गति रूकने से मालड़ा सराय के लाडले सैनिक लीलाराम का निधनआपराधिक घटनाओं पर अंकुश लगाने को लेकर मुख्यमंत्री के नाम एसडीएम को सौंपा ज्ञापनलम्बोरा एकेडमी में पौधारोपण कर बच्चों को किया पर्यावरण संरक्षण के प्रति जागरूक
Health

सतनाली पीएचसी के नए भवन निर्माण व बेहतर चिकित्सा सुविधा देना भूले शिक्षा मंत्री

सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट | June 29, 2018 09:23 PM
सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट

सतनाली पीएचसी के नए भवन निर्माण व बेहतर चिकित्सा सुविधा देना भूले शिक्षा मंत्री
वर्षों से अस्पताल का खंडहर भवन बहा रहा अपनी बदहाली पर आंसू


सतनाली मंडी (प्रिंस लांबा)।

 

सतनाली पीएचसी को सीएचसी का दर्जा देना भूले शिक्षा मंत्री। सालों पहले सतनाली में बनाया गया यह पीएचसी भवन बिल्कुल खस्ताहाल हो चुका है। हल्की बरसात में ही यह स्वास्थ्य केंद्र तालाब का रूप धारण कर लेता है। ग्रामीणों ने नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि जब बीजेपी सरकार सत्ता में आई थी तो क्षेत्र के लोगों में आश जगी थी कि पूर्व की सरकारों ने तो अपना कार्यकाल सिर्फ घोषणाओं में ही निकाल दिया परंतु बीजेपी सरकार के वरिष्ठ नेता शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा इस जर्जर अस्पताल की जरूर सुध लेंगे, परंतु 4 वर्ष का समय बीतने के बाद अब यहां की जनता सोच रही है कि यह शिक्षा मंत्री का सिर्फ लोगों को गुमराह करने का जुमला है या उनका दुर्भाग्य। कारण जो भी हो लेकिन इतना जरूर है कि जिस सीएचसी सुविधा के लिए लंबे समय से इंतजार कर रहे सतनाली के इस खंडहर अस्पताल को अगली सरकार आने तक और इंतजार करना पड़ेगा।

ग्रामीणों ने कहा कि राज्य व केंद्र सरकार भले ही स्वास्थ्य सेवा को प्रत्येक व्यक्ति तक पहुंचाने का दावा कर रही हो या फिर स्वास्थ्य केंद्रों में कैमरे लगाकर उन्हें हाईटेक बना रही हो लेकिन सतनाली के इस खंडहर अस्पताल की जमीनी हकीकत कुछ ओर ही बयां कर रही है। प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर के बाद अगर बीजेपी सरकार में किसी पावरफूल नेता का नाम आता है तो वह शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा का ही है। लेकिन इसके बावजूद भी शिक्षा मंत्री अपने क्षेत्र तक का विकास नहीं करवा पा रहे हैं। इससे तो पूर्व की सरकारें ही बेहतर थी जिन्होंने जिले में अनेकों विकास कार्य की गंगा बहा दी थी।

उन्होंने कहा कि शिक्षा मंत्री की अनदेखी के चलते क्षेत्र बेहतर चिकित्सा सुविधाओं के लिए तरस रहा है। इस खंडहर अस्पताल में न तो कोई सुविधा उपलब्ध है और न ही स्टॉफ पूरा है। ऐसे में अगर कोई दुर्घटना हो जाती है तो इस अस्पताल में प्राथमिक उपचार तक की चिकित्सा सुविधा उपलब्ध नहीं है। जिस कारण कई बार तो दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति महेंद्रगढ़ पहुंचते-पहुंचते रास्ते में ही अपना दम तोड़ देते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार सतनाली पीएचसी के जर्जर भवन को नया बनवाने पर तो जोर दे नहीं रही है वहीं इस खंडहर भवन को हाईटेक बनाकर व सफेदी करवाकर खानापूर्ति कर रही है।

ग्रामीणों ने कहा कि इस खंडहर पीएचसी में ईलाज के लिए सुविधाओं के साथ-साथ स्टॉफ का टोटा है। यहां पर 6 डॉक्टरों की पोस्ट खाली होने के कारण एकमात्र डॉक्टर के सहारे पीएचसी चलाया जा रहा है। ऐसे में सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है क्षेत्र के लोगों की कैसी चिकित्सा सुविधा मिल पा रही है। कस्बा स्थित पीएचसी में आसपास के लगभग 35 गांवों के लोग ईलाज के लिए आते हैं। लेकिन यहां पिछले कई वर्षों से चिकित्सा सुविधाओं की कमी के चलते लोगों को निजी चिक्तिसकों व प्राईवेट नर्सिंग होम में अपना ईलाज करवाने को मजबूर होना पड़ रहा है। उपस्वास्थ्य केंद्र की लचर स्थिति से निजी क्लीनिक, नर्सिंग होम जांच व ईलाज के नाम पर मरीजों का शोषण कर रहे हैं।

इस बारे में पीएचसी प्रभारी डॉ. मनीष से बात की तो उन्होंने बताया कि फिलहाल अस्पताल में एक ही डॉक्टर कार्यरत है। इसके अतिरिक्त 6 एमओ, एक एसएमओ व एक डेंन्टल सर्जन के पद खाली हैं। डॉ. ने बताया कि पीएचसी के नए भवन निर्माण के लिए हमने कागजी कार्रवाई पूरी करके चंडीगढ़ भेज दिया है।

 


फोटो कैप्शन: सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र का दृश्य।

Have something to say? Post your comment