Tuesday, October 23, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
शिक्षा भारती विद्यालय में बच्चों व शिक्षकों को दिलवाया स्वदेशी दिपावली मनाने का संकल्पप्रिंस लाम्बा, मा. सुरेश, गणेश कौशिक व जयकरण शास्त्री को बुलंद आवाज अवार्ड, 2018 से नवाजा गयाशिक्षा मंत्री के विकास कार्यों की समीक्षा यात्रा पर बसरे कुलदीप यादवबिजली कर्मचारियों ने किया रोडवेज कर्मचारियों का समर्थन, किया रोष प्रकटबदमाशों ने बोला ठेके पर हमला, करिंदे के साथ मारपीटनशे की दलदल में धंसती डेरा संजय नगर का भावी युवा पीढ़ी।सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका महर्षि वाल्मीकि ने संपूर्ण मानवता के कल्याण के लिए रामायण के माध्यम से जीवन दर्शन दिया-बेदी
National

पूर्वांचल सेना ने दी फूलनदेवी को श्रद्धांजलि, कहा महिला सुरक्षा के मामले में पीछे मेरा देश

सुरजीत यादव | July 25, 2018 07:07 PM
सुरजीत यादव

पूर्वांचल सेना ने दी फूलनदेवी को श्रद्धांजलि, कहा महिला सुरक्षा के मामले में पीछे मेरा देश

गोरखपुरः 25 जुलाई, वीरांगना फूलन देवी के शहादत दिवस पर पूर्वांचल ने जिलाधिकारी कार्यालय पर प्रदर्शन कर “अत्याचार के प्रतिरोध की प्रतीक वीरांगना फूलन देवी“ की प्रतिमा प्रदेश के प्रत्येक जिले में स्थापित करने, वीरांगना फूलन देवी के जीवन संघर्ष को पाठ्यक्रमो में शामिल किये जाने और देश की वीर , साहसी महिलाओं के लिए वीरांगना फूलन देवी सम्मान व पुरस्कार शुरू किये जाने की माँगो का ज्ञापन जिलाधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री और प्रधानमंत्री को भेजा ।
वीरांगना फूलन देवी का जीवन संघर्ष पाठ्यक्रमों में हो सामिल
इसके पूर्व फूलन देवी अमर रहे, फूलन देवी को सम्मान दो आदि नारो के बीच पूर्वाचल सेंना के कार्यकर्ताओं ने फूलन देवी के चित्र पर पुष्प अर्पित कर उन्हें श्रद्धांजलि दी । इस अवसर पर पूर्वांचल सेंना के अध्यक्ष धीरेन्द्र प्रताप ने उपस्थित लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि पूर्व सांसद वीरांगना फूलन देवी का जीवन संघर्ष पूरी दुनियां के लोगो के लिए मिसाल है, कठिन से कठिन यातनाओ, उत्पीड़न को झेलते हुए अपने को मजबूती से खड़ा कर हर अत्याचार का मुँहतोड़ जवाब देना उन्हें एक लौह महिला के रूप में स्थापित करता है । उन्होंने कहा कि वर्तमान भारत मे महिलाओं पर लगातार बढ़ती हिंसा के पीछे “अपने साथ हो रहे हिंसा, अत्यचार का प्रतिरोध न करना भी एक बड़ी वजह है“ देश की महिलाओं में अत्याचार के प्रतिरोध हेतु क्रांतिधर्मीता जगाने के लिए वीरांगना फूलनदेवी जैसी लौह महिला को देश-समाज में समुचित सम्माम मिलना चाहिए ।


फूलन देवी के नाम से बहादुर बेटियों को किया जाय सम्मानित
उन्होंने कहा कि यह पूरे देश के लिए चिंतन और आत्ममंथन का समय है कि हमारा देश महिला सुरक्षा के मामले में पूरी दुनिया में सबसे निचले पायदान पर पहुँच गया हैं, आज स्थिति इतनी बदतर हो गई है कि विदेशों से महिलाएं भारत देश में आने से कतराने  लगी हैं । उन्होंने कहा देशभर के पाठ्यक्रमों में वीरांगना फूलन देवी के जीवन संघर्ष को पढ़ाते हुए प्रत्येक जिले में उनकी प्रतिमा स्थापित करते हुए वीरांगना फूलन देवी के नाम पर वीर महिलाओं को पुरस्कृत करने का कार्यक्रम सरकार द्वारा चलाए जाना चाहिए ऐसे उपक्रमों से हमारे देश की महिलाएं निर्भीक होंगी  उनके अंदर अपने ऊपर हो रहे अत्याचार का प्रतिरोध करने की क्षमता बढ़ेगी  और तब जाकर के हमारे देश की महिलाएं देश में बराबरी का प्रतिनिधित्व कर पाएंगी ।
रहे सामिल
कार्यक्रम का नेतृत्व पूर्वांचल सेना के जिला अध्यक्ष सुरेंद्र वाल्मीकि ने किया इस अवसर पर महासचिव प्रणय श्रीवास्तव, चंद्रेश आजमगढ़ी, इंद्रेश यादव, राजकुमार साहनी, सनी निषाद, अमित सिंघानिया, राधेश्याम निषाद, सुधीराम रावत, सचिन कुमार, सुधीर कुमार मोदनवाल, सोनू सिद्धार्थ, सत्येंद्र प्रताप, सोनू निषाद, अमलेश कनौजिया व बालमुकुंद वर्मा समेत तमाम कार्यकर्ता उपस्थित रहे ।

Have something to say? Post your comment
More National News
पत्रकार कौशिक बने राष्ट्रीय कार्यकारी अध्यक्ष
ब्रेकिंग-पंजाब के अमृतसर से दशहरे के दिन बड़े हादसे की ख़बर ,शोक में बदलीं विजयदशमी की खुशियाँ
नवरात्रि के सुअवसर पर हुआ नवाचार, किया गया फलाहार का आयोजन
मुम्बई-ईसाई मशीनरी द्वारा धर्म परिवर्तन का घिनौना खेल जोरो पर
डिजिटल फाउन्डेशन ने अमेठी मुसाफिरखाना के युवक को बनाया ठगी का शिकार आखिर पुलिस कब करेगी कार्यवाही
तीसरा मोर्चा मजबूत हुआ तो मायावती पीएम और इनेलो की सरकार बनने के लिए तैयार है : औमप्रकाश चौटाला
डिजिटल फाउन्डेशन के अन्य प्रदेशों से जुड़े तार, करोड़ों लेकर फरार
बेरोजगारों के पैसों से होती थी अय्यासी, हजारों को बनाया ठगी का शिकार, करोड़ो लेकर फरार
जीन्द-दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने मुख्य अतिथि के रूप में की शिरकत
श्राद्धपक्ष में ढूंढे नहीं मिलते कौवे कंक्रीट के जंगलों के कारण कौओं के अस्तित्व पर खतरा