Friday, February 22, 2019
BREAKING NEWS

Political

जब नए सांसदों को राजनीतिक शुचिता का पाठ पढाने हरियाणा आए वाजपेयी

August 17, 2018 06:57 PM
रणबीर रोहिल्ला

जब नए सांसदों को राजनीतिक शुचिता का पाठ पढाने हरियाणा आए वाजपेयी
सूर्या साधना केंद्र, झिंझौली में आयोजित हुआ था तीन दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग
13 महीने चली सरकार की मजबूत नींव चाहते थे अटल बिहारी वाजपेयी

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।

सरकारें आएंगी, सरकारें जाएंगी, पार्टियां बनेंगी, बिगडेंगी, लेकिन देश का लोकतंत्र जिंदा रहना चाहिए। भारत का लोकतंत्र अमर रहना चाहिए। महज 13 दिन की सरकार चलाने के अनुभव के बाद भाजपा के शिखर पुरूष अटल बिहारी वाजपेयी की रूह से निकले इन शब्दों पर वह हमेशा अटल रहे। वर्ष 1998 में एक बार फिर से प्रधानमंत्री पद पर आसीन होकर अटल बिहारी वाजपेयी दिल्ली से सटे सोनीपत में आए तो अपनी पार्टी के नए सांसदों को राजनीतिक शुचिता का पाठ पढाने के लिए।
वर्तमान मुख्यमंत्री मनोहर लाल के मीडिया सलाहकार राजीव जैन उन दिनों तत्कालीन मुख्यमंत्री बंसीलाल के मीडिया सलाहकार होते थे। वीरवार को दिल्ली में भाजपा के शिखर पुरुष एवं राष्ट्र सेवा में तल्लीन रहे पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की अंतिम यात्रा में शामिल होने के लिए निकले भावुक राजीव जैन बोले कि वाजपेयी जी ने अपने जीवन में इतनी चिंता सरकार की नहीं की, जितनी उनको राजनीतिक शुचिता की थी। 13 दिन की सरकार चलाने के कडवे अनुभव के बाद वर्ष 1998 में पुन: केंद्र में प्रधानमंत्री बनने के बाद अटल बिहारी वाजपेयी अपनी सरकार की नींव को मजबूत करना चाहते थे, हालांकि यह सरकार भी 13 महीने ही चल पाई थी। उन्होंने भाजपा की टिकट पर जीतकर लोकसभा पहुंचे सदस्यों के लिए तीन दिवसीय प्रशिक्षण वर्ग दिल्ली के सटे सोनीपत के झिंझौली में आयोजित किया। सूर्या साधना केंद्र, झिंझौली में नए सांसदों के लिए प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने पूरा एक दिन का समय निकाला और उनकी विचारधारा और संबोधन का केंद्र बिंदु केवल राजनीतिक शुचिता रही। उनका मानना था कि आपसी राजनीतिक हितों की पूर्ति से देश का बडा नुकसान हो रहा है। बहुत से देशों के उदाहरण थे, जो भारत के बाद आजाद हुए और तत्कालीन दौर में भारत से अच्छी तरक्की कर रहे थे। आपसी हितों को छोडकर राष्ट्रसेवा की ओर बढने तथा देश को सशक्त बनाने के सपने को पूरा करने के लिए वाजपेयी ने सांसदों को निज हित का राष्ट्र हित में त्याग करने का आह्वान किया था। राजनीतिक शुचिता उनके जीवन चरित्र की रीढ थी, यही कारण है कि उन्होंने सत्ता को सेवा का माध्यम बनाने और अन्य लोकसभा सदस्यों को भी इस राह पर अग्रसर होने की राह दिखाई और पथ प्रदर्शक की अहम भूमिका निभाई।

Have something to say? Post your comment

More in Political

ग्रुप-डी की भर्तियों के मुद्दे विपक्ष ने सरकार को घेरा: एमए, बीएड लग रहे माली व चपड़ासी

भूमि अधिग्रहण के मुद्दे पर विधानसभा में हंगामा

हरियाणा में कौन-कौन नेता होंगे भाजपा में शामिल ??? भाजपा प्रदेश की सियासत में हड़कंप मचाने को तैयार

अशोक तंवर ही रहेंगे हरियाणा कांग्रेस के बॉस, पूर्व सीएम भूपेंद्र सिंह हुड्डा ने कहा

केजरीवाल के गृहक्षेत्र लोहारू में सुभाष पंवार पर दांव खेल सकती है आम आदमी पार्टी

अभय चौटाला में अपने ही पार्टी नेताओं को बताया ठग

एक्शन मूढ में कांग्रेस,नए प्रभारी लोकसभा के उम्मीदवारों की सूचि तैयार करनें में जूटे,पार्टी पदाधिकारियों से ले रहे है प्रदेश अध्यक्ष की राय

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष पर कांग्रेस हाईकमान की बेरूखी से बढ रही है हुड्डा सर्मथकों की धडकनें

नौटंकी करने जा रहे हैं आप लोग फरीदाबाद भाजपा वालों?

उत्तर हरियाणा में धंसेगा भाजपा का विजय रथ! अंबाला कुरुक्षेत्र, करनाल लोकसभा सीटें बनी भाजपा के लिए बड़ी सिरदर्दी