Monday, December 10, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
30 साल का लड़का प्रदेश की राजनीति में बहुत धमाकेदार एंट्री मार गया ,दुष्यंत ने चाचा अभय को जींद में दी मात कांग्रेस की सरकार आने पर नही रहेगी हल्के मे कोई भी समस्या बाकी : संदीप गर्गपॉजिटिव विचार है खुशहाल जीवन का आधार - ब्रहमाकुमार ओंकार चंदपृथला से जननायक जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता अरविन्द भरद्वाज सेकड़ो गाडी और बसों को लेकर जींद रैली में पहुँचे।सादलपुर-सिवानी रूट पर आज ट्रेनें रहेगी बाधित आम जनता के लिए पर्याप्त ट्रेनें व बसें भी उपलब्ध नहीं करवा पा रही सरकारें, वीआईपी सुविधाओं पर इतना खर्च क्यों व कब तक ?भारत में दो प्रधानमंत्रियों को छोड़कर जितने भी प्रधानमंत्री हुए है वो मुस्लमान ही हुए है:दिनेश भारती बिजली निगमों के लिए दिसंबर माह एक ऐतिहासिक माह : शत्रुजीत कपूर
Uttar Pradesh

विवेक हत्याकांड : पुलिस वाले चिल्लाते हुए कार के सामने आए और गोली मार भाग गए

अटल हिन्द ब्यूरो | September 30, 2018 04:35 AM
अटल हिन्द ब्यूरो

विवेक हत्याकांड : सना ने बताई सच्चाई, कहा- पुलिस वाले चिल्लाते हुए कार के सामने आए और गोली मार भाग गए लखनऊ: मल्टीनेशनल कंपनी एपल में मैनेजर के पद पर तैनात विवेक तिवारी की कार नहीं रोके जाने पर यूपी पुलिस द्वारा गोली मार दिए जाने के मामले की एकमात्र चश्मदीद गवाह सना खान भी मीडिया के सामने आई हैं. पुलिस की मौजूदगी में सना ने घटना के बारे में बताया है कि कैसे और किन परिस्थितियों में पुलिस ने विवेक तिवारी पर गोली चला दी. सना ने बताया कि पुलिस वाले अचानक सामने आए और गोली मारकर भाग गए. सना खान ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि एपल फोन की लॉन्चिंग के बाद हम घर जा रहे थे. विवेक सर के पास कार थी, इसलिए उन्होंने पहले मुझे पहले मेरे घर छोड़ने को कहा. हम गोमती नगर में थे. इसी दौरान दो पुलिस वाले हमारी गाड़ी को रोकने का प्रयास करने लगे. विवेक सर ने अकेले और महिला साथ होने के कारण कार नहीं रोकी. उन्हें लगा कि पता नहीं कौन है. कार तेज नहीं चल रही थी. फिर अचानक दोनों पुलिस वाले कार के सामने आ गए. एक ने डंडा लिए था, दूसरे के पास बंदूक थी. दोनों में से एक ने गाड़ी के शीशे पर लाठी मारी. इसके बाद दो ढाई मीटर दूरी से बिना कुछ कहे चिल्लाते हुए गोली मार दी. गोली विवेक सर को लग जाती है. इसके बाद भी वह गाड़ी चलाते रहते हैं, जब वह बेहोश हुए तो गाड़ी आगे पिलर में टकरा गई. सना ने बताया कि इसके बाद वो दो पुलिस वाले कहीं नजर नहीं आते हैं. फिर मैं कार से उतरी. कल इत्तेफाक से मेरा फोन घर पर ही छूट गया था. मैंने वहां खड़े ट्रक वालों से और गुजरने वाले लोगों से मदद के लिए फोन मांगा ताकि किसी को फोन कर सके, लेकिन चीखने चिल्लाने के बाद भी किसी ने उसकी मदद नहीं की. सना बताती है कि थोड़ी देर बाद पुलिस आई और विवेक सर को लोहिया अस्पताल ले गई. और उसे जीप में बैठा लिया. सना का कहना है कि सुबह चार बजे तक पुलिस उसे जीप में बैठाकर घुमाती रही, कई थानों में ले गई. सना ने कहा कि वहां कोई एक्सीडेंट नहीं हुआ न ही पुलिस वालों पर कार चढ़ाई. ये बात गलत है.

Have something to say? Post your comment
More Uttar Pradesh News
सपा कार्यालय पर जिला उपाध्यक्ष का कार्यकताओं ने किया स्वागत
विकास कार्यों की गई समीक्षा बैठक, एक्काताजपुर भी रहा फिसड्डी, सचिवों के वेतन रोकने के दिए निर्देश
मान्धाता-कमल सन्देश पद यात्रा में शामिल हुए कई भाजपा नेता व कार्यकर्ता
मान्धाता पुलिस के सूझ बूझ से बची ब्यापारी की जान ब्रेकिंगप्रतापगढ़-भारतीय जनता पार्टी के जिलाध्यक्ष ओमप्रकाश त्रिपाठी हटाये गए
रायबरेली किसानो के भारी समूह ने किया नेशनल हाइवे 24-बी को जाम किया
बीजेपी विधायक के पति ने कहा मुझे सी एम योगी से जान का खतरा
गोंडा-शनिवार को डीएम ने स्कूल अस्पताल, धन क्रय केन्द्रों सहित कई जगहों की ताबड़तोड़ छापेमारी
सुल्तानपुर जिलाधिकारी महोदय खनन पर कर रहें नजर अंदाज भूमाफियाओं कें आगे प्रदेश सरकार की बोलती हुयी बंद
प्रतापगढ़-[आर०डी०आर०पी०एस० महाविद्यालय मान्धाता में महादंगल ,महायुद्ध 18 नवम्बर को]