Monday, February 18, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
संगठन सर्वोपरी होता है और इससे बडी ताकत नहीं-डा. श्रीकांतएक्शन मूढ में कांग्रेस,नए प्रभारी लोकसभा के उम्मीदवारों की सूचि तैयार करनें में जूटे,पार्टी पदाधिकारियों से ले रहे है प्रदेश अध्यक्ष की रायडॉक्टरों का एनपीए 20 प्रतिशत बढ़ामेले के अंतिम दिन रही भारी भीड़, रामकुमार के बैगपाईपर की धुन पर युवाओं की खूब मस्ती।रा.व.मा. विद्यालय बुडीन की दो छात्राओं का NMMS में हुआ चयनएग्री समिट-2019:राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 25 किसानों को 1 लाख रुपए राशि के साथ दिया कृषि रत्न पुरस्कारराज्य सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है-राम बिलास शर्मारातभर अंधेरे में डूबा रहता है सतनाली का मुख्य बाजार, स्ट्रीट लाइटें खराब होने से कस्बे की गलियां व मुख्य चौक रहते है अंधकारमय
 
 
Haryana

मंढियाली कांड की बरसी पर विशेष: प्रदेश का चर्चित किसान आंदोलन था मंढिय़ाली गोलीकांड

सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट | October 03, 2018 06:34 PM
सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट

मंढियाली कांड की बरसी पर विशेष:


प्रदेश का चर्चित किसान आंदोलन था मंढिय़ाली गोलीकांड


71 दिन तक अवरूद्ध रहा था रेवाड़ी-सादुलपुर रेल मार्ग


सतनाली मंडी (प्रिंस लांबा)।

 

हर वर्ष की भांति इस बार भी मंढिय़ाली कांड में शहीद हुए किसानों को श्रद्धांजलि देने के लिए बुधवार 10 अक्तूबर को किया जाएगा श्रद्धांजलि सभा का आयोजन। प्रदेश में बिजली समस्या को लेकर समय-समय पर विभिन्न सरकारों के कार्यकाल में अनेक आंदोलन हो चुके हैं तथा बिजली समस्या को लेकर सतनाली क्षेत्र के गांव मंढिय़ाली में भी इस तरह का एक आंदोलन पूर्व मुख्यमंत्री चौ. बंशीलाल की सरकार में हो चुका है। यह आंदोलन आज भी मंढिय़ाली कांड के नाम से जाना जाता है। आज भी पुलिस की गोलियों के सामने असहाय किसानों का मंजर याद कर क्षेत्रवासियों की आंखें नम हो जाती हैं तथा इस कांड में शहीद हुए किसानों को याद करने के लिए गांव बारड़ा की शहीद स्मारक पर हर वर्ष की भांति बुधवार 10 अक्तूबर को श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया जाएगा।



गौरतलब है कि सन् 1997 में तत्कालीन मुख्यमंत्री चौ. बंशीलाल की सरकार में सतनाली क्षेत्र के गांव नांवा, सोहड़ी, बासड़ी, श्यामपुरा, सतनाली, सुरेहती पिलानियां, सुरेहती मोडियाना, सुरेहती जाखल, डालनवास, गादड़वास, माधोगढ़, डिगरोता, सतनाली बास, ढ़ाणा सहीत दो दर्जन से अधिक गांवों के किसानों ने सरकार से बिजली-पानी की मांग की थी। सरकार ने यहां के किसानों की बिजली-पानी की मांग को नजर अंदाज कर दिया था। जिसके चलते किसानों ने धरने-प्रदर्शन आरंभ कर दिए। जब प्रशासन द्वारा धरने-प्रदर्शनों पर भी ध्यान नहीं दिया गया तो नतीजन मंढिय़ाली कांड का जन्म हुआ और इस गोलीकांड में पांच किसान शहीद हो गए। इस कांड ने सरकार का तख्ता पलट कर रख दिया और इसकी गूंज दिल्ली की संसद तक सुनाई दी थी।



इस आंदोलन में क्षेत्र के अनेक गांवों के किसान बिजली समस्या को लेकर आंदोलन कर रहे थे, उस समय सरकार ने किसानों की मांग को अनसुना कर किसानों पर गोलियां बरसवा दी थी जिसमें पांच किसान शहीद हो गए। इस गोलीकांड से किसानों का आंदोलन तो प्रभावित नहीं हुआ लेकिन मंढिय़ाली कांड की गूंज दिल्ली के गलियारों तक सुनाई दी थी और इस कांड ने उस समय की सरकार का तख्ता पलट कर रख दिया था। यहां के किसानों ने धीरे-धीरे धरने-प्रदर्शन करने आरंभ कर दिए। सरकार व अधिकारियों ने किसानों की मांग और धरने-प्रदर्शनों पर कोई ध्यान नहीं दिया। नतीजन किसानों ने रणनीति तैयार कर मंढिय़ाली कांड को जन्म दिया। मंढिय़ाली कांड के दौरान यहां के किसानों ने रेवाड़ी-सादुलपुर रेल मार्ग को 71 दिन तक अवरूद्ध रखा और इस कांड में पुलिस की गोलियों से पांच किसान शहीद हो गए थे।



मंढिय़ाली गोलीकांड में शहीद हुए किसानों की याद में हर वर्ष सतनाली क्षेत्र के बारड़ा गांव में श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया जाता है। जिसमें विभिन्न राजनैतिक व गैर-राजनैतिक संगठनों के लोग भाग लेकर किसानों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं। इस मौके पर गांव में शहीद स्मारक पर विभिन्न खेल प्रतियोगिताओं का आयोजन किया जाता है। लेकिन बड़े खेद की बात है कि हर वर्ष किसान संगठनों द्वारा शहीद किसानों की बरसी पर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित तो की जाती है लेकिन उनके परिवारों की कभी सुध नहीं ली जाती। किसान संगठनों द्वारा कार्यक्रम व खेल प्रतियोगिताओं के नाम पर राजनैतिक व गैर-राजनैतिक संगठनों द्वारा चंदा एकत्रित किया जाता है लेकिन आज तक शहीद किसानों के परिवारों को कभी भी आर्थिक सहायता नहीं दी गई।



मंढिय़ाली कांड में शहीद हुए किसानों की बरसी से एक हफ्ते पहले ही आती है शहीद स्मारक की याद:
यूं तो हर वर्ष 10 अक्तूबर को ही शहीदों को श्रद्धासुमन अर्पित किए जाते हैं लेकिन शहीद किसानों की याद में बनाए गए शहीद स्मारक को सालभर कोई किसान नेता देखने तक नहीं आता। देखरेख न होने के कारण स्मारक में झाड़-झखाड़ इतनी बुरी तरह पैदा हो जाते हैं कि उसके अंदर जाना तक मुश्किल हो जाता है। परंतु किसानों की बरसी से एक हफ्ता पहले शहीदों की प्रतिमाओं व स्मारक की साफ-सफाई पर ही ध्यान दिया जाता है, इसके अलावा शहीद स्मारक को कोई देखने की जहमत तक नहीं उठाता।


फोटो कैप्शन: शहीद हुए पांच किसानों की प्रतिमाएं।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
मेले के अंतिम दिन रही भारी भीड़, रामकुमार के बैगपाईपर की धुन पर युवाओं की खूब मस्ती।
राज्य सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है-राम बिलास शर्मा
गांव सारसा में हरी चुनरी चौपाल कार्यक्रम को किया शहीदों को समर्पित श्रद्धांजलि समारोह 2019के चुनावों में प्रदेश की जनता ने सता की बागडोर सौंपी तो हर वर्ग के लिए होंगे जनहित कार्य:- विधायिका नैना चौटाला बुजूर्गों की पैंशन 3000 रूपये व किसानों के कर्जे किए जायेंगे माफ
रातभर अंधेरे में डूबा रहता है सतनाली का मुख्य बाजार, स्ट्रीट लाइटें खराब होने से कस्बे की गलियां व मुख्य चौक रहते है अंधकारमय
शहीदों की याद में राजधानी दिल्ली के इंडिया गेट पर एक श्रद्धाजंलि सभा का आयोजन नरवाना आम आदमी पार्टी के व्यापार मंडल नरवाना हल्का अध्यक्ष दीनानाथ गर्ग ने किया आयोजन
अश्विन वैश्णवी पुलिस अधीक्षक ने किया सीसीटीवी कंट्रोल रूम का उद्घाटन
मिस्टर डीएवी मोनू गोयत व मिस डीएवी रितिका चुने गए
सैनिक शहीदों को वर्धमान स्कूल और जैन समाज ने दी श्रद्धांजली।
चंद्रशेखर आजाद विद्यालय के बच्चों ने शहीद सैनिकों को दी श्रद्धांजलि
रोटी दिवस के समापन कार्यक्रम में निशुल्क खाना कपड़े और दवाइयाँ वितरित की