Monday, February 18, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
संगठन सर्वोपरी होता है और इससे बडी ताकत नहीं-डा. श्रीकांतएक्शन मूढ में कांग्रेस,नए प्रभारी लोकसभा के उम्मीदवारों की सूचि तैयार करनें में जूटे,पार्टी पदाधिकारियों से ले रहे है प्रदेश अध्यक्ष की रायडॉक्टरों का एनपीए 20 प्रतिशत बढ़ामेले के अंतिम दिन रही भारी भीड़, रामकुमार के बैगपाईपर की धुन पर युवाओं की खूब मस्ती।रा.व.मा. विद्यालय बुडीन की दो छात्राओं का NMMS में हुआ चयनएग्री समिट-2019:राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 25 किसानों को 1 लाख रुपए राशि के साथ दिया कृषि रत्न पुरस्कारराज्य सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है-राम बिलास शर्मारातभर अंधेरे में डूबा रहता है सतनाली का मुख्य बाजार, स्ट्रीट लाइटें खराब होने से कस्बे की गलियां व मुख्य चौक रहते है अंधकारमय
 
 
Haryana

कैथल-फल्गु मेले में श्रद्धालुओं पर पार्किंग फीस के बोझ की पड़ेगी मार,तानाशाही रवैये से पेश आते हैं पार्किंग वाले !

कृष्ण प्रजापति की रिपोर्ट | October 05, 2018 10:36 PM
कृष्ण प्रजापति की रिपोर्ट

कैथल-फल्गु मेले में श्रद्धालुओं पर पार्किंग फीस के बोझ की पड़ेगी मार

फल्गु मेले में आने वाले श्रद्धालुओं से 4 दिनों में ली जाएगी भारी-भरकम एंट्री फीस

अभी भी हालातो में नहीं हो रहा है सुधार, तानाशाही रवैये से पेश आते हैं पार्किंग वाले !

कैथल, 05 अक्टूबर (कृष्ण प्रजापति): फल्गु मेले में श्रद्धालुओं को बेहतर सुविधाएं देने के लाख दावे जिला प्रशासन कर रहा हो लेकिन श्रद्धालुओं को तंग करने में यहां का मेला प्रशासन कोई कसर नहीं छोड़ रहा है। इसका जीता जागता उदाहरण पिछले काफी दिनों से मेले में आने वाले श्रद्धालुओं के लिए असुविधाओं का बोलबाला है और काफी समस्याओं से श्रद्धालुओं को दो चार होना पड़ रहा है। इसके साथ साथ आज से आगामी 4 दिन तक फल्गु मेले में आने श्रद्धालुओं से भारी भरकम एंट्री फीस ली जाएगी। श्रद्धालुओं में इस बात का पूरा रोष है कि मेले में वैसे तो जिला प्रशासन आने के लिए बड़े-बड़े स्वागत द्वारा लगा रहा है, इसके साथ ही श्रद्धालुओं को मेले में एंट्री करने के लिए भारी-भरकम एंट्री फीस देने का जो तानाशाही फरमान जिला प्रशासन द्वारा दिया गया है उससे श्रद्धालुओं को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। मेले में आने वाले अनेक श्रद्धालुओं ने बताया कि पहले तो तीन-चार दिन किलोमीटर दूर श्रद्धालुओं के वाहनों को रोककर श्रद्धालुओं को पैदल चलने पर मजबूर किया जाएगा और वाहनों को वहां खड़ा करने के लिए उनसे मोटी पार्किंग फीस वसूली जाएगी जो फल्गु मेले के श्रद्धालुओं के साथ सरासर अन्याय है। श्रद्धालुओं ने रोष जाहिर करते हुए कहा कि एंट्री फीस के नाम पर श्रद्धालुओं से यह लूट बंद नहीं हुई तो कोई भी श्रद्धालु मेले में नहीं आएगा और सीएम मनोहर लाल खट्टर के सामने भी इस बात को रखा जाएगा क्योंकि जिला प्रशासन द्वारा मेले में आने वाले श्रद्धालुओं से किसी प्रकार का न तो सुझाव लिया जा रहा है और ना ही उनकी समस्याओं पर ध्यान दिया जा रहा है।

बॉक्स--- यह निर्धारित की गई है पार्किंग फीस

मेले में आने वाले वाहनों को पार्किंग एरिया में लगाने के बाद जो पार्किंग फीस ठेकेदार द्वारा निर्धारित की गई है उसके अनुसार बाइक के लिए 20 रुपये, कार जीप, बिना ट्रॉली के ट्रैक्टर के लिए 50 रुपए, मिनी बस, टाटा 407, ट्रैक्टर ट्रॉली के लिए 100 रूपए और बसों व ट्रको के लिए 200 रुपए पार्किंग फीस रखी गई है जोकि बहुत अधिक है। अगर श्रद्धालुओ की समस्याओं को देखते हुए जिला प्रशासन द्वारा इनके दाम कम नहीं किए गए तो वे इस मामले को सीएम के सामने रखेंगे क्योंकि कई श्रद्धलुओं ने सीधे तौर पर पार्किंग ठेकेदार को लाभ पहुंचाने व श्रद्धालुओं को तंग करने के आरोप लगाए हैं। उन्होंने बताया कि अगर मेला प्रशासन मेले में आने वाले श्रद्धालुओ से इस प्रकार का व्यवहार करेगा तो कौन श्रद्धालु मेला देखने आएंगे। ग्रामीण रणदीप आर्य फरल ने बताया कि जिले के अधिकारी विश्व प्रसिद्ध मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को तंग करने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे हैं। न तो मेले के लिए कोई समुचित व्यापक प्रबन्ध है और न कोई रूपरेखा। पिछली बार तो फरल गांव के ग्रामीणों को भी गांव में घुसने से रोका गया था जोकि जिला प्रशासन की सरेआम धक्काशाही को दर्शाता है। उन्होंने कहा कि मेले की निष्पक्ष जांच न करवाकर व श्रद्धालुओं को सुविधाओं देने के नाम पर बेवकूफ बनाकर झूठी वाहवाही प्रशासन द्वारा लूटी जा रही है।

बॉक्स-- वीआईपी घाट टूटे हुए, टूंटीयां लीक, सड़को की पुलिया आज भी टूटी पड़ी हैं

उधर मेले में जब हमने दौरा किया तो तीर्थ के वीआईपी घाट के कई पत्थर टूटे पड़े मिले, पानी बिल्कुल गन्दा हो चुका है। प्रशासन द्वारा श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए लगाई गई अधिकतर टूंटीयाँ लीक हैं जिनसे पानी बहता रहता है और पानी को बचाने के लिए जिला प्रशासन द्वारा कोई प्रबंध नहीं किए गए हैं। इसके अलावा मेले स्थल को जोड़ने वाली अधिकतर गांवो की सड़कों की पुलियां आज तक टूटी पड़ी है जिससे गिरकर श्रद्धालु रात में व दिन में भी घायल हो रहे हैं। श्रद्धालुओं की समस्या की तरफ जिला प्रशासन कोई ध्यान नहीं दे रहा है, ये सभी आरोप मेले में आए हुए श्रद्धालुओं ने लगाए हैं।

वर्जन --- मेला प्रशासक जगदीप सिंह

उधर जब इस बारे में मेला प्रशासक एसडीएम जगदीप सिंह से बात की गई तो उन्होंने बताया कि मेले में जो पार्किंग की गई है उसके लिए 15 दिन पहले टेंडर किया गया था पिछले 11 दिनों में किसी भी श्रद्धालु को रोका नहीं गया और 4 दिनों में मेले में आने वाले श्रद्धालुओं की भीड़ ना हो इसलिए श्रद्धालुओं के वाहनों को रोका जाएगा। फीस कम करने के सवाल पर उन्होंने कहा कि एंट्री फीस को किसी भी प्रकार से कम नहीं किया जा सकता। मेले की सभी कमियों को प्रतिदिन निरीक्षण करके दूर किया जा रहा है ताकि श्रद्धालुओं को कोई दिक्कत न आए

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
मेले के अंतिम दिन रही भारी भीड़, रामकुमार के बैगपाईपर की धुन पर युवाओं की खूब मस्ती।
राज्य सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है-राम बिलास शर्मा
गांव सारसा में हरी चुनरी चौपाल कार्यक्रम को किया शहीदों को समर्पित श्रद्धांजलि समारोह 2019के चुनावों में प्रदेश की जनता ने सता की बागडोर सौंपी तो हर वर्ग के लिए होंगे जनहित कार्य:- विधायिका नैना चौटाला बुजूर्गों की पैंशन 3000 रूपये व किसानों के कर्जे किए जायेंगे माफ
रातभर अंधेरे में डूबा रहता है सतनाली का मुख्य बाजार, स्ट्रीट लाइटें खराब होने से कस्बे की गलियां व मुख्य चौक रहते है अंधकारमय
शहीदों की याद में राजधानी दिल्ली के इंडिया गेट पर एक श्रद्धाजंलि सभा का आयोजन नरवाना आम आदमी पार्टी के व्यापार मंडल नरवाना हल्का अध्यक्ष दीनानाथ गर्ग ने किया आयोजन
अश्विन वैश्णवी पुलिस अधीक्षक ने किया सीसीटीवी कंट्रोल रूम का उद्घाटन
मिस्टर डीएवी मोनू गोयत व मिस डीएवी रितिका चुने गए
सैनिक शहीदों को वर्धमान स्कूल और जैन समाज ने दी श्रद्धांजली।
चंद्रशेखर आजाद विद्यालय के बच्चों ने शहीद सैनिकों को दी श्रद्धांजलि
रोटी दिवस के समापन कार्यक्रम में निशुल्क खाना कपड़े और दवाइयाँ वितरित की