Sunday, February 17, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
संगठन सर्वोपरी होता है और इससे बडी ताकत नहीं-डा. श्रीकांतएक्शन मूढ में कांग्रेस,नए प्रभारी लोकसभा के उम्मीदवारों की सूचि तैयार करनें में जूटे,पार्टी पदाधिकारियों से ले रहे है प्रदेश अध्यक्ष की रायडॉक्टरों का एनपीए 20 प्रतिशत बढ़ामेले के अंतिम दिन रही भारी भीड़, रामकुमार के बैगपाईपर की धुन पर युवाओं की खूब मस्ती।रा.व.मा. विद्यालय बुडीन की दो छात्राओं का NMMS में हुआ चयनएग्री समिट-2019:राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 25 किसानों को 1 लाख रुपए राशि के साथ दिया कृषि रत्न पुरस्कारराज्य सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है-राम बिलास शर्मारातभर अंधेरे में डूबा रहता है सतनाली का मुख्य बाजार, स्ट्रीट लाइटें खराब होने से कस्बे की गलियां व मुख्य चौक रहते है अंधकारमय
 
 
Haryana

प्राचीन ग्रंथों में से एक है श्रीमद्भागवत, जो बताता है जीवन का महत्त्व: कुलदीप यादव

सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट | October 07, 2018 06:31 PM
सतनाली से प्रिंस लांबा की रिपोर्ट

महेंद्रगढ़ में किया गया श्रीमद्भागवत गीता का आयोजन, पहुंचे सैकड़ों श्रद्धालु
प्राचीन ग्रंथों में से एक है श्रीमद्भागवत, जो बताता है जीवन का महत्त्व: कुलदीप यादव


महेंद्रगढ़ (प्रिंस लांबा)।

 

रविवार को शहर में श्रीद्भागवद कथा का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्यातिथि के रूप में सरताज जनसेवा ग्रुप पीआरओ कुलदीप यादव उपस्थित रहे। सैकड़ों श्रद्धालुओं ने कथा का मनन किया।

इस अवसर पर कुलदीप यादव ने उपस्थितजनों को संबोधित करते हुए कहा कि हमारे जीवन में धर्म-कर्म का बहुत महत्त्व होता है क्योंकि यहीं हमें जीवन का आधार प्रदान करते हैं। भारत एक धार्मिक देश है। यहां के प्राचीन ग्रंथ हमें स्वच्छ जीवन जीने, सत्य व अहिंसा का पाठ पढ़ाते हैं। इन्हीं प्राचीन ग्रंथों में से एक है श्रीमद्भागवद, जो प्रत्येक व्यक्ति को जीवन का महत्त्व बताता है। इसमें लिखा है कि हे मानव, तू किस बात का घमंड करता है। खाली हाथ आया था और खाली हाथ ही चला जाएगा। जो आज तुम्हारा है, कल किसी और का था तथा परसों किसी और का होगा। इसीलिए, जो कुछ भी तू करता है, उसे ईश्वर को अर्पण करता चल।

उन्होंने कहा कि भागवद पुराण हिंदुओं के 18 पुराणों में से एक है। इसका मुख्य विषय भक्ति योग है। इस पुराण में भगवान श्रीकृष्ण को सभी देवों का देव या स्वयं भगवान के रूप में वर्णित किया गया है। इसके अतिरिक्त भागवद पुराण में भक्ति का निरूपण भी किया गया है। परंपरागत तौर पर भागवद पुराण के रचयिता महर्षि वेदव्यास को माना जाता है। भगवान की विभिन्न कथाओं के सार का श्रीमद्भागवद महापुराण मोक्ष प्रदान करने वाला है। श्रीमद्भागवद कथा सुनने से प्राणी की मुक्ति हो जाती है और वह इस जन्म-मरण के चक्र से मुक्त हो जाता है। इस मौके पर उन्होंने युवाओं को अपनी संस्कृति के प्रति जागरूक करते हुए कहा कि आज हम पर पाश्चात्य संस्कृति का जोर है तथा हम अपने संस्कारों व प्राचीन संस्कृति को भूलते जा रहे हैं। प्रत्येक युवा को आगे बढक़र अपनी संस्कृति का संरक्षण करना होगा तभी संस्कारों को जीवित रखना संभव है।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Haryana News
मेले के अंतिम दिन रही भारी भीड़, रामकुमार के बैगपाईपर की धुन पर युवाओं की खूब मस्ती।
राज्य सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है-राम बिलास शर्मा
गांव सारसा में हरी चुनरी चौपाल कार्यक्रम को किया शहीदों को समर्पित श्रद्धांजलि समारोह 2019के चुनावों में प्रदेश की जनता ने सता की बागडोर सौंपी तो हर वर्ग के लिए होंगे जनहित कार्य:- विधायिका नैना चौटाला बुजूर्गों की पैंशन 3000 रूपये व किसानों के कर्जे किए जायेंगे माफ
रातभर अंधेरे में डूबा रहता है सतनाली का मुख्य बाजार, स्ट्रीट लाइटें खराब होने से कस्बे की गलियां व मुख्य चौक रहते है अंधकारमय
शहीदों की याद में राजधानी दिल्ली के इंडिया गेट पर एक श्रद्धाजंलि सभा का आयोजन नरवाना आम आदमी पार्टी के व्यापार मंडल नरवाना हल्का अध्यक्ष दीनानाथ गर्ग ने किया आयोजन
अश्विन वैश्णवी पुलिस अधीक्षक ने किया सीसीटीवी कंट्रोल रूम का उद्घाटन
मिस्टर डीएवी मोनू गोयत व मिस डीएवी रितिका चुने गए
सैनिक शहीदों को वर्धमान स्कूल और जैन समाज ने दी श्रद्धांजली।
चंद्रशेखर आजाद विद्यालय के बच्चों ने शहीद सैनिकों को दी श्रद्धांजलि
रोटी दिवस के समापन कार्यक्रम में निशुल्क खाना कपड़े और दवाइयाँ वितरित की