Friday, February 22, 2019
BREAKING NEWS

Literature

मां का दर्जा पिता से दस गुणा अधिक होता है: सुदीक्षा

April 27, 2017 04:58 PM
संजय गर्ग
मां का दर्जा पिता से दस गुणा अधिक होता है: सुदीक्षा 
कथा के तीसरे दिन भारी संख्या में उमड़े श्रद्धालु 
लाडवा, 27 अप्रैल (संजय गर्ग): श्री सुश्री सुदीक्षा सरस्वती जी महाराज ने कहा कि प्रभु राम ने शबरी को नौ प्रकार की नवधा भक्ति बताई, प्रभ ने कहा कि आप भक्ति की मूर्ति हैं, तभी आपकी भक्ति से प्रसन्न होकर आपसे मिलने आया हुं। यह भक्ति संसार के लिए है। इसमें से जिस मनुष्य में एक भी गुण होगा, वह मेरा भक्त होगा। 
बृहस्पतिवार को ब्राह्मण धर्मशाला में चल रही श्री राम कथा के तीसरे दिन अपने प्रवचनों में श्री सुश्री सुदीक्षा सरस्वती महाराज जी बोल रही थी। उन्होंने कहा कि सबरी तरे अंदर तो नौ प्रकार के गुण हैं। लक्ष्मण जी ने प्रभु से एकांत देखकर भक्ति ओर ज्ञान के बारे में जानना चाहा। व्याख्या लंबी है, काफी समय लगेगा, थोडे समय में कहुं चित लगाकर सुनों, भक्ति व शबरी को दिए नवभक्ति के सूत्र समझाए। उन्होंने कहा कि शुभकर्म का समय नहीं होता। शुभकर्म अपना समय साथ लेकर आता है। शुभकर्म को कल पर न टालें, उन्होंने कहा कि मां का दर्जा पिता से दस गुणा बड़ा होता है। उन्होंने कहा कि सौतेली मां का रिश्ता मां से दस गुणा अधिक है। राम यदि केकयी की भी सहमति हो तो वन में जरुर जाओं, राम के वन जाने से आयौध्या का दुर्भाग्य जाग जाएगा औन वन में जाने से वन का भाग्य जाग जाएगा। कौशल्या माता ने मन मार कर राम को वन में जाने की आज्ञा दी। उन्होंने कहा कि  गुरु के आदेश को भी कभी न टाले, उसमें हेर-फेर न करें। महापुरुषों की वाणी सहज स्वभाव की होती है। जो संत ने कहा तुरंत कर डालों उसी में कल्याण है। इस अवसर पर ब्राह्मण सभा के प्रधान सोम प्रकाश शर्मा, प्रदीप गर्ग, जितेंद्र शर्मा, सतपाल धीमान,राजेश गर्ग, विनोद गर्ग, सुनील गर्ग, बृजेश शर्मा, पवन बंसल, अश्वनी शर्मा, सुनील चोपड़ा, शीशपाल, धर्मपाल, फेकीर चंद, राजेन्द्र धवन, सुभाष शर्मा, बलदेव अरोड़ा, सुरेश धवन, रोकी शर्मा, महेश गोसांई, अश्वनी गोसांई, जितेंद्र अत्री, मदन लाल सोनी, नरेंद्र सैन, नीरज गर्ग, कोशल सिंगला, शशि गोयल सहित भारी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।

Have something to say? Post your comment

More in Literature

श्रीमद् भागवत कथा का प्रारंभ आज

मदहोश होकर लोग हुए आउट आफ कंट्रोल हरिनाम संकीर्तन में

अबकि बार मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी नहीं बल्कि 15 जनवरी को ही मान्य - पं. रामकिशन

सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा

कैथल में पूजा अर्चना के साथ हुआ श्री साई अमृत कथा का शुभारंभ

बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया

हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा

पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार

15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स

5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ