Thursday, June 21, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
योग का नहीं किसी जाति धर्म से लेना देना - प्रभारी मंत्री, योग करने से होता है शारीरिक व मानसिक विकास- डीएम अमेठीघरौंडा जनस्वास्थ्य विभाग अधिकारियों के पसीने छूट , जताई मांगों पर सहमतिभारतीय जनता पार्टी किसान मोर्चा द्वारा नरवाना मण्डल में पौधारोपण का कार्यक्रम किया गया जींद-पति समेत पांच लोगों के खिलाफ दहेज उत्पीडऩ का मामला दर्ज फिर हंगामेदार रही नगरपालिका की बैठक -विकास न होने से खफा पार्षद को विरोध करना पड़ा मंहगा नरवाना युवा कांग्रेस ने फल बांटे मेला मंडी में योगाभ्यास की पायलट रिहर्सल मंगलवार को सम्पन्न हुई। चीका -विधायक बाजीगर पर लगाया चेयरपर्सन की कुर्सी हिलाने की साजिश रचने का आरोप
Literature

मां का दर्जा पिता से दस गुणा अधिक होता है: सुदीक्षा

संजय गर्ग | April 27, 2017 04:58 PM
संजय गर्ग
मां का दर्जा पिता से दस गुणा अधिक होता है: सुदीक्षा 
कथा के तीसरे दिन भारी संख्या में उमड़े श्रद्धालु 
लाडवा, 27 अप्रैल (संजय गर्ग): श्री सुश्री सुदीक्षा सरस्वती जी महाराज ने कहा कि प्रभु राम ने शबरी को नौ प्रकार की नवधा भक्ति बताई, प्रभ ने कहा कि आप भक्ति की मूर्ति हैं, तभी आपकी भक्ति से प्रसन्न होकर आपसे मिलने आया हुं। यह भक्ति संसार के लिए है। इसमें से जिस मनुष्य में एक भी गुण होगा, वह मेरा भक्त होगा। 
बृहस्पतिवार को ब्राह्मण धर्मशाला में चल रही श्री राम कथा के तीसरे दिन अपने प्रवचनों में श्री सुश्री सुदीक्षा सरस्वती महाराज जी बोल रही थी। उन्होंने कहा कि सबरी तरे अंदर तो नौ प्रकार के गुण हैं। लक्ष्मण जी ने प्रभु से एकांत देखकर भक्ति ओर ज्ञान के बारे में जानना चाहा। व्याख्या लंबी है, काफी समय लगेगा, थोडे समय में कहुं चित लगाकर सुनों, भक्ति व शबरी को दिए नवभक्ति के सूत्र समझाए। उन्होंने कहा कि शुभकर्म का समय नहीं होता। शुभकर्म अपना समय साथ लेकर आता है। शुभकर्म को कल पर न टालें, उन्होंने कहा कि मां का दर्जा पिता से दस गुणा बड़ा होता है। उन्होंने कहा कि सौतेली मां का रिश्ता मां से दस गुणा अधिक है। राम यदि केकयी की भी सहमति हो तो वन में जरुर जाओं, राम के वन जाने से आयौध्या का दुर्भाग्य जाग जाएगा औन वन में जाने से वन का भाग्य जाग जाएगा। कौशल्या माता ने मन मार कर राम को वन में जाने की आज्ञा दी। उन्होंने कहा कि  गुरु के आदेश को भी कभी न टाले, उसमें हेर-फेर न करें। महापुरुषों की वाणी सहज स्वभाव की होती है। जो संत ने कहा तुरंत कर डालों उसी में कल्याण है। इस अवसर पर ब्राह्मण सभा के प्रधान सोम प्रकाश शर्मा, प्रदीप गर्ग, जितेंद्र शर्मा, सतपाल धीमान,राजेश गर्ग, विनोद गर्ग, सुनील गर्ग, बृजेश शर्मा, पवन बंसल, अश्वनी शर्मा, सुनील चोपड़ा, शीशपाल, धर्मपाल, फेकीर चंद, राजेन्द्र धवन, सुभाष शर्मा, बलदेव अरोड़ा, सुरेश धवन, रोकी शर्मा, महेश गोसांई, अश्वनी गोसांई, जितेंद्र अत्री, मदन लाल सोनी, नरेंद्र सैन, नीरज गर्ग, कोशल सिंगला, शशि गोयल सहित भारी संख्या में श्रद्धालु उपस्थित थे।
Have something to say? Post your comment
More Literature News
सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज
गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा-स्वामी ज्ञानानंद
श्रद्धालुशक्तिपीठ श्रीदेवीकूप भद्रकाली मंदिर में विशाल भगवती जागरण संपन्न
नवरात्रों के 6वे दिन श्रद्धालुओं ने की माँ भगवती की आराधना
ओंकार महायज्ञ में बैठने से नहीं आता कभी असाहय रोग व अकाल कष्ट : शक्तिदेव
काली कमली वाला मेरा यार है, मेरे मन का मोहन तू दिलदार है
कैसे और कब मनाएं श्रीमहाशिवरात्रि 13 या 14 फरवरी को ?
एक पर्व के लिए दो-दो तिथियां भविष्य नहीं आएगी सामने
श्रीमद् भागवत कथा में दिखाया कृष्ण-सुदामा चरित्र नेकी कर दरिया में डाल: गोस्वामी
31 जनवरी को चंद्रग्रहण ग्रहण पूरे भारतवर्ष में दिखाई देगा, सुतक सुबह 08 बजकर 14 मिनट से शुरू होगा