Tuesday, October 23, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
शिक्षा भारती विद्यालय में बच्चों व शिक्षकों को दिलवाया स्वदेशी दिपावली मनाने का संकल्पप्रिंस लाम्बा, मा. सुरेश, गणेश कौशिक व जयकरण शास्त्री को बुलंद आवाज अवार्ड, 2018 से नवाजा गयाशिक्षा मंत्री के विकास कार्यों की समीक्षा यात्रा पर बसरे कुलदीप यादवबिजली कर्मचारियों ने किया रोडवेज कर्मचारियों का समर्थन, किया रोष प्रकटबदमाशों ने बोला ठेके पर हमला, करिंदे के साथ मारपीटनशे की दलदल में धंसती डेरा संजय नगर का भावी युवा पीढ़ी।सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका महर्षि वाल्मीकि ने संपूर्ण मानवता के कल्याण के लिए रामायण के माध्यम से जीवन दर्शन दिया-बेदी
Literature

धूमधाम से मनाई गई भगवान परशुराम जंयती चित नहीं चरित्र देखते भगवान: सुदीक्षा सरस्वती

संजय गर्ग | April 28, 2017 05:09 PM
संजय गर्ग
धूमधाम से मनाई गई भगवान परशुराम जंयती 
चित नहीं चरित्र देखते भगवान: सुदीक्षा सरस्वती
लाडवा, 28 अप्रैल (संजय गर्ग): संत देवी सुदीक्षा सरस्वती जी महाराज ने कहा कि भगवान श्रीराम चित नहीं चरित्र देखते हैं और चरित्रवान व्यक्ति को ही वह पसंद करते हैं। उन्होंने कहा कि अपने चरित्र को ऐसा बनाओ की कोई उंगली न उठा सके। उन्होंने कहा कि मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम ने रावण जैसे विद्वान, पंडित, योद्धा को भी इसी कारण मारना पड़ा, क्योंकि इन सब गुणों के बावजूद रावण चरित्र अच्छा नहीं था।
संत देवी सुदीक्षा सरस्वती जी शुक्रवार को लाडवा की ब्राह्मणों वाली धर्मशाला में श्रीरम कथा उत्सव के दौरान चौथेें दिन की कथा सुना रही थी। उन्होंने श्रीराम चरित मानस के प्रसंगों का वर्णन करते हुए कहा कि मनुष्य के जीवन मेंं उतार चढ़ाव आते रहते हैं, लेकिन उसे कभी भी हार नहीं माननी चाहिए और जीवन में आने वाले कष्टों से सूझबूझ के साथ निपटना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसे समय में धैर्य से काम लेना जरूरी है। उन्होंने कहा कि जब भगवान श्रीराम को लंका पर चढ़ाई के लिए समुंद्र पार करना था तो तीन मार्गों से सेना लंका पहुंची थी। उन्होंने बताया कि श्रीराम चरित मानस में स्वामी तुलसी दास जी ने बताया है कि कुछ नल और नील द्वारा बनाए गए रास्ते से लंका तक पहुंचे तो कुछ वायु मार्ग से उडक़र व कुछ जल मार्ग तैरकर ही लंका पहुंच गए थे। सुश्री सुदीक्षा सरस्वती जी ने इसे पश्चात वर्णन करते हुए कहा कि श्रीराम चरित मानस में उस झांकी को स्वामी तुलसी दस जी ने सर्वोत्तम का दर्जा दिया है, जिसमें पुल पार करने के उपरांत सुग्रीव को बैठा देखकर भगवान श्रीराम उनकी गोद में सिर रखकर लेट जाते हैं और उनको लेटा देखकर युवराज अंगद व हनुमान जी उनकी सेवा में लग जाते हैं। श्रीराम मंत्रणा के लिए विभीषण को अपने कान के पास बुलाते हैं और लक्ष्मण जी कुछ दूरी पर धनुष व बाण लेकर बैठ जाते हैं। कथा के बाद धर्मशाला में भगवान परशुराम जंयती भी धूमधाम से मनाई गई। ब्राहम्ण समाज के लोगों ने भगवान परशुराम के चित्र पर फूल चढ़ाकर उनकी पूजा-अर्चना की। वहीं धर्मशाला में परशुराम जंयती के उपल्क्ष में समाजसेवी पंकज गोयल तरावड़ी द्वारा एक लोगों के लिए वाटर कूलर भी लगवाया गया। जिसका उद्घाटन देवी सुदीक्षा जी महाराज ने किया। इस अवसर पर ब्राह्मण सभा के प्रधान सोम प्रकाश शर्मा, पं. जगदीश राम शर्मा,  प्रदीप गर्ग, अशोक पपनेजा, जितेंद्र शर्मा, सतपाल धीमान, विनोद गर्ग, सुनील गर्ग, बिजेश शर्मा, पवन बंसल, सुरेश शर्मा, रोकी शर्मा, योगेन्द्र काम्बोज, संजीव शर्मा, श्याम लाल बंसल, अश्वनी गोसांई, मदन लाल सोनी, नरेंद्र सेन, नीरज गर्ग, कौशल सिंगला, शशि गोयल सहित भारी संख्या में भारी संख्या में सहारनपुर, तरावड़ी, शाहबाद समेत कई अन्य स्थानों से आए श्रद्धालुओं उपस्थित थे।
Have something to say? Post your comment
More Literature News
सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका
सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज
गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा-स्वामी ज्ञानानंद
श्रद्धालुशक्तिपीठ श्रीदेवीकूप भद्रकाली मंदिर में विशाल भगवती जागरण संपन्न
नवरात्रों के 6वे दिन श्रद्धालुओं ने की माँ भगवती की आराधना
ओंकार महायज्ञ में बैठने से नहीं आता कभी असाहय रोग व अकाल कष्ट : शक्तिदेव
काली कमली वाला मेरा यार है, मेरे मन का मोहन तू दिलदार है
कैसे और कब मनाएं श्रीमहाशिवरात्रि 13 या 14 फरवरी को ?
एक पर्व के लिए दो-दो तिथियां भविष्य नहीं आएगी सामने
श्रीमद् भागवत कथा में दिखाया कृष्ण-सुदामा चरित्र नेकी कर दरिया में डाल: गोस्वामी