Saturday, February 23, 2019
BREAKING NEWS
अमेठी के शुकुल बाजार थाना क्षेत्र में तालाब से हो रहा अवैध खननइसंपेक्टर संदीप मोर सीआईए -56 के निरीक्षक नियुक्तहिमाचल के मुख्यमंत्री ने की रा.व.मा.पा सरोआ में अखण्ड शिक्षा ज्योति-मेरे स्कूल से निकले मोती कार्यक्रम की अध्यक्षतापूर्व सरपंच व दो पंचों को कोर्ट ने सुनाई 2 साल की सजा, जानिये क्या है पूरा मामलाजिला अस्पताल में नही है कुत्ते काटे का इंजेक्शन -- सीएमएसएनएचएम कर्मचारियों को सीएम की दो टूक काम पर लौटें, नहीं तो दूसरे युवा उनकी जगह लाइन मेंडेढ़ दर्जन भाजपा विधायकों पर लटकी तलवारतरावड़ी में ईलाज के दौरान युवती की मौत पर परिजनों ने किया हंगामाबटाला-निजी स्कूल की बस पलटी,करीब दो दर्जन बच्चे घायलसीएससी कैसे करायेगी आर्थिक जनगणना का कार्य, विद्युत मीटर लगाने का नहीं मिला पारिश्रामिक

Entertainment

हिंदी और मराठी फिल्मों की अदाकारा- रीमा लागू कानिधन

May 18, 2017 04:40 PM
लाल बिहारी लाल

हिंदी और मराठी फिल्मों की अदाकारा- रीमा लागू कानिधन
लाल बिहारी लाल
नई दिल्ली। हिंदी औरमराठी फिल्मों की अभिनेत्री रीमा लागू का जन्म एक मराठी परिवार में नागपुर में1958 में हुआ था। इनकी माता मंदाकनी भदभड़े मराठी थियेटर की जानी मानी अभिनेत्रीथी। रीमा के बचपन का नाम नयन भदभड़े था। इनकी शिक्षा स्थानीय हाई स्कूल में हीहुई। इन्होनें बाल कलाकार के रुप में 9 फिल्में कर ली। इनके परिवार वाले आगे पढ़ानाचाहते थे पर पारिवारिक माहौल के कारण ही ये अभिनेभी बन गई। सन 1870-80 के दशक मेंमराठी थियेटर के कलाकार विवेक लागू से इनकी शादी हुई ।इन्होंने शादी के बाद अपनानाम बदलकर रीमा लागू कर लिया।
उन्होने1980 में कलयुग,आक्रोश,नासुर आदि जैसी फिल्मे की पर समय से पहले ही बालीवूड के निर्देशकोंने इन्हें माँ बना दिया जिसका मलाल इन्हें मरते दम तक रहा। माँ की भूमिका में कुछप्रमुख फिल्में रही उनमें- मैने प्यार किया, आशिकी, साजन, हम आपके हैं कौन, वास्तव,कुछ-कुछ होता है, कल हो ना हो, हम सब साथ-साथ आदी है। इन्होनें हिन्दी धारावाहिकोंमें भी काफी काम किया है – उनमें- 1985 में खानदान,1994 में डी.ड़ी. नेशनल औऱ सबटी.वी. पर प्रसारित श्रीमान-श्रीमती में कोकिलायानी की कोकी की यादगार भूमिका जिससे इनकी पहचान भारत के हर घर मे होने लगी। फिर1994-2000 तक डी.ड़ी नेशनल औऱ स्टार प्लस पर प्रसारित धारावाहिक में देविका वर्मा की भुमिका में काफी मशहूर हुईजिसके लिए इन्हें पहला टी.वी पुरस्कार का बेस्ट अदाकारा का पुरस्कार मिला। फिर1997 में जी टी.वी के लिए दो और दो पाँच की फिर धड़कन अभी वर्तमान में नामकरण मेंदमयंती मेहता की भूमिका निभा रही थी। रीमा अपने फिल्मीं कैरियर में 95 से ज्यादा फिल्में की। आज रीमाभौतिक रुप से दिल का दौड़ा पड़ने के कारण हमलोगों के बीच नहीं रही पर अपने अदाकारीके दम पर आज भी हर भारतीय के दिलों में जिंदा है।

Have something to say? Post your comment

More in Entertainment

अशोक मैमोरियल पब्लिक स्कूल फरीदाबाद के विद्यार्थियों ने सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया

संभोग के संबंध में सोचता रहता है, बड़ा सुख मन में पाता है।

लड़की का कितने लोगों से प्रेम-संबंध रहा

शहीद भगत सिंह प्रतिमा पर माल्यार्पण करके मनाया वैलेंटाइन डे

पेड चैलन बंद होने पर आपरेटर्स और उपभोक्ताओं में भारी रोष

किसी से प्रेम करते हैं तो "जताइए" और वैलेंटाइन डे इसके लिए सबसे अच्छा दिन है।

आदमी की कामवासना, लगती है, पशुओं से भी नीचे गिर जाती है। क्या कारण होगा?"

संभार्य थियेटर फेस्टिवल - दूसरे दिन नाटक काला ताजमहल का हुआ मंचन

संभार्य थियेटर फेस्टिवल - पहले दिन नाटक विद्रोही का हुआ मंचन

अमेरिका में फिल्म-टेलीविजन हैं, तब तक कोई पुरुष किसी स्त्री से तृप्त नहीं होगा