Saturday, December 15, 2018
Follow us on
Literature

पापों के नाश व धर्म की रक्षा हेतू प्रभु लेेते हैं अवतार: साध्वी मेरूदेवा

संजय गर्ग | May 26, 2017 06:18 PM
संजय गर्ग
पापों के नाश व धर्म की रक्षा हेतू प्रभु लेेते हैं अवतार: साध्वी मेरूदेवा 
आज की नारी किसी भी क्षेत्र में नहीं हैं पीछे
लाडवा, 26 मई (संजय गर्ग): दिव्य ज्योति संस्थान संचालक आशुतोष जी महाराज की परम शिष्या साध्वी सुश्री मेरूदेवा भारती ने कहा कि द्वापर युग में बढ़ते पापों का नाश करने व धर्म की रक्षा करने हेतू अवतार लिया था। 
साध्वी सुश्री मेरूदेवा भारती संस्थान द्वारा आयोजित श्री मद्भागवत कथा के पांचवे दिन की कथा के दौरान अपने प्रवचनों में बोल रही थी। उन्होंने भगवान श्री कृष्ण जी की लीलाओं का वर्णन करजे हुए कहा कि भगवान की हर लीला का अपना एक महत्व होता हैं। परंतु हम मानव उन कि  इन लीलाओं को बिना किसी सच्चे गुरू की कृपा के समक्ष नहीं सकते। उन्होंने कहा कि वैदिक काल में गुरूकुल मानव निर्माणस्थली होते हैं। परंतु आज की शिक्षा प्रणाली केवल एक पक्ष को उजागर करती हैं। यदि हम अपने बच्चों को सम्पूर्ण किकास चाहते हैं तो आध्यात्मिक शिक्षा भी जरूरी हैं। उन्होंने नारी के महत्व पर प्रकाश डालते हुए कहा कि वैदिक काल में नारी का स्थान बहुत ऊंचा था परंतु आज कन्या के जन्म से पहले ही उसकी हत्या करवाई जा रही हैं। जिसमें नारी का रोल ज्यादा हैं। उन्होंने कहा कि आज नारी भला किस क्षेत्र में पीछे हैं। इसलिए हमें अपनी मानसिकता बदलनी होगी। इससे पूर्व मुख्य यजमान सुभाष हड़तानिया के साथ-साथ गोपाल सोनी, बुधराम गोयल, पवन सिंघल, राजेश गर्ग ने सजमान के रूप में पूजन कार्यक्रम में भाग लिया। जब कि समाजसेवी प्रदीप गर्ग, मार्किट कमेटी के सचिव जसबीर सिंह, राजेश गुप्ता, राधेश्याम ठेकेदार, ने मुख्यतिथि के रूप में दीप प्रज्जवलित कर कथा का शुभारंभ करवाया। इस अवसर पर स्वामी ज्ञानानंद, स्वामी प्रकाशनंद, डा. ऋषिपाल, नरेश फौजी, हरिन्द्र सिंघल, सतपाल शर्मा मथाना सहित अनेक गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे। 
Have something to say? Post your comment
More Literature News
बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया
हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा
पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार
15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स
5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ
बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2
सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका
सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज
गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा-स्वामी ज्ञानानंद
श्रद्धालुशक्तिपीठ श्रीदेवीकूप भद्रकाली मंदिर में विशाल भगवती जागरण संपन्न