Saturday, October 20, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
ब्रेकिंग-पंजाब के अमृतसर से दशहरे के दिन बड़े हादसे की ख़बर ,शोक में बदलीं विजयदशमी की खुशियाँअहीर रेजिमेंट यादव समाज का स्वाभिमान व अधिकार, केंद्र सरकार जल्द से जल्द करे इसका गठन: कुलदीप यादवरोडवेज कर्मचारियों के समर्थन में बिजली कर्मचारियों ने सरकार के खिलाफ किया विरोध-प्रदर्शनखालड़ा फेन जनसेवा ग्रुप द्वारा सम्मान समारोह में उत्कृष्ट खिलाडिय़ों को किया सम्मानितदुर्गा अष्टमी पर कन्या पूजा व भोजन ग्रहण करने के लिए श्रद्धालु ढूंढ़ते रहे कन्याएं!जयकरण शास्त्री नांगलमाला को मिलेगा बुलंद आवाज अवार्ड, 2018पहाड़ी माता का विशाल जागरण आजसमाजसेवी ओमशिव कौशिक को पितृशोक
Madhya Pradesh

नदी में नही बची रेत तो खोद रहे खेत, नहरों की तोड डाली पुलियाॅ

निर्णय तिवारी | June 17, 2017 09:26 PM
निर्णय तिवारी
नदी में नही बची रेत तो खोद रहे खेत, नहरों की तोड डाली पुलियाॅ
गौरिहार/छतरपुर /  केन नदी का सीना छलनी करने के बाद अब खेतों से रेत निकालने का कार्य लगातार जारी है अवैध रुप से हो रहे रेत उत्खनन की लगातार शिकायत के बाद भी प्रशासन द्वारा अभी तक कोई कार्यवाही नही की गई है। गौरिहार तहसील अन्तर्गत स्थित रेत खदान घुरारा (चुकेहटा) खदान संचालक द्वारा नियमों को ताक पर रख एक ओर जहाॅ मशीनों से करवाया जा रहा है वहीं दूसरी ओर पिछले एक माह से लगातार निजी भूमि में कई एकड रकवे से रेत निकाल कर गोरख धंधा चलाया जा रहा है। 
 
शिकायतों पर नही हो रही कार्यवाही
 
चुकेहटा रेत खदान में हर रोज खेत से रेत निकाल कर एक सैकडा से उपर ट्रक मशीनों से लोड होते है। दिन रात चलने वाले इस अवैध तरीके से संचालित कारोबार की तरफ जिम्मेदारो को न तो देखने की फुरसत है और न ही कार्यवाही करने की हिम्मत। ग्रामीणों ने अवैध तरीके से संचालित कारोबार की शिकायत जिला कलेक्टर से लेकर सी एम हेल्पलाइन, प्रधानमंत्री कार्यालय, सांसद वीरेन्द्र खटीक, नागेन्द्र सिंह और बाॅदा सांसद भैरो प्रसाद मिश्रा, खनिज सचिव म0प्र0 शासन, जल संसाधन विभाग में शिकायते की है किन्तु अभी तक ठेकेदार के विरुद्व कोई कार्यवाही नही हो सकी है।
 
खनिज विभाग का गोल मोल रवैया 
 
वर्तमान समय में क्षेत्र की लगभग हर खदान में अवैध गतिविधियां संचालित है जिसकी जानकारी खनिज विभाग को होते हुये भी कार्यवाही करने से कतरा रहा है। वैसे तो समय समय पर अवैध खनिज की गूंज विधानसभा में भी कई बार सुनाई दे चुकी है लेकिन नतीजा ढाक के तीन पात ही रहा। खनिज विभाग से बात करने पर एक ही जवाब सामने आता है कि हमारे पास स्टाप की कमी है हम कैसे सभी जगहो को देख सकते है वैसे समय-समय पर विभाग के नुमाइदें खदानों तक जाते जरुर है ताकि शिकायतकर्ता और आम जन को लगे कि इनके द्वारा जाॅच या कार्यवाही की जा रही है किन्तु हकीकत यह है कि ये कार्यवाही नही शुभ लाभ करने की नियत से ही खदानों में दाखिल होते है।
 
खेतों को बना दिया बावडी
 
घुरारा खदान के संचालक रामनरेश शर्मा द्वारा मौजा धुरारा के खसरा नम्बर 79, 87, 88, व 112/4 रकवा 2 हे0 भूमि जो कि राजरानी पिता पंचा पाल के नाम है से हजारों ट्रक रेत का उत्खनन कर डाला है इसी तरह म0प्र0 शासन खसरा नं0 273 से भी अवैध रेत निकालने का काम जारी है। जिससे खेत बावडी में तब्दील हो गये है। लेकिन प्रशासन द्वारा अभी तक न तो इसे रोकने के प्रयास किये गये और न ही कोई कार्यवाही की गई।
 
फर्जी पिटपास के सहारे निकलते परिवहन
 
खदान संचालक इन दिनों दोहरा मापदण्ड अपनाते हुये फर्जी पिटपास के जरिये परिवहन निकाल कर शासन को करोडों का चूना लगा रहे है साथ ही खेतों को खोखला कर पर्यावरण को भारी नुकसान पहुॅचानें में कोई कसर नही छोड रहे है। धुरारा रेत खदान वैसे तो पाॅच साल के लिये ठेके पर है किन्तु नदी में रेत की इतनी आवक नही है कि खदान संचालक पूरे समय रेत निकाल कर बेच सके यही कारण है कि इनके द्वारा लगातार अवैध उत्खनन किया जा रहा है।  
 
नहरों पर हुआ कुठाराघात
 
अंचल के अन्नदाता की जीवन दायिनी नहरों पर धुरारा रेत खदान के संचालक ने कुठाराघात किया है जिसके कारण नहरों के असत्वि पर खतरा मडराने लगा है। रेत का कारोबार करने वाले ने कई किलोमीटर लंबी नहरों की पटरियों को ट्रक निकाल कर चकनाचूर कर दिया है। जिससे कभी भी नहरें टूट सकती है जिसका खामियाजा क्षेत्र भर के किसानों को भोगना पड सकता है। बेतरतीब तरीके से चलने वाले परिवहन के कारण जगह जगह नहरों की पुलियां टूट चुकी है। विभाग की चुप्पी कई सवालों को खडे कर रही है क्योकि अभी तक इनके द्वारा कोई कार्यवाही नही की गई। इस संबंध में जब गौरिहार तहसीलदार राकेश शुक्ला से बात की गई तो उन्होनंे बात टालते हुये संवाददाता को खदान जाने की सलाह दे डाली इससे स्पष्ट होता है कि जिम्मेदारों को हो रहे अवैध कारोबार से कितना सरोकार है। 
 
 
किसने क्या कहा-------
--बिना स्वीकृति खेत से रेत निकालना और फर्जी अभिवहन पास जारी करना गैरकानूनी है मै कलेक्टर से इस बिषय में बात करुंगा ताकि जांच होकर उक्त ठेकेदार के बिरुद्व कार्यवाही हो सके।  आरडी प्रजापति बिधायक चंदला ।
         
अवैध उत्खनन के 7 प्रकरण बनाये जा चुके है जिन पर कार्यवाही लंबित है फर्जी अभिवहन पास अगर जारी हो रहे है तो जांच की जायेगी और सही पाये जाने पर कार्यवाही होगी। 
गनेश प्रसाद बिश्वकर्मा खनिज निरीक्षक 
 
 ---नहरो की पटरी से ट्रको की आवक जावक काफी हद तक रोकी गई है अगर पुलियों को नुकसान पहुॅचा है तो तो मै अमला भेज कर जांच करा लेता हूॅ और चिन्हित होने पर संबंधितों पर कार्यवाही की जायेगी।
 
 आई बी नायक ई. ई. जल संसाधन विभाग छतरपुर।
---मै आज ही टीम को भिजवाता हूॅ और अगर खेत से रेत का उत्खनन हो रहा होगा तो कडी कार्यवाही के साथ फर्जी पिटपास की भी जांच की जायेगी।- 
 
हेमकरण धुर्वे एस डी एम लवकुशनगर
 
Have something to say? Post your comment
More Madhya Pradesh News
इस्लामिया करीमिया कॉलेज इंदौर की छात्राओं ने दिया बिजली बचाने का संदेश ।
नगर में पर्याप्त भीषण पेयजल संकट के लिए जिम्मेवार कौन?
जिले में बिगडती कानून व्यवस्था पर अंकुश लगाने एसपी ने किए थोकबंद तबादले
44 वर्ष पुराने खजुराहो नृत्योतसव अतिथियों को तरस रहा है.....!!! बर्षो बाद राज्य पाल ने किया शुभारंभ
सूखाग्रस्त बुंदेलखंड के जख्मों पर गीत-संगीत के नाम पर किसानो से किया गया छल
सार्वजनिक स्थानों को गंदा करने पर हो सकती है कड़ी कार्यवाही
भाजपा जिला अध्यक्ष ने इलाज के लिये दी आर्थिक मदद
नैगुवां सरपंच के इशारे पर प्रधानमंत्री आवास योजना की राशि निकाली प्रधानमंत्री आवास योजना में खुलकर किया जा रहा है भ्रष्टाचार हो रही है धांधली
बुन्देलखंड,बेशकीमती महल पर प्राइवेट कंपनी का कब्जा, क्षेत्रवासियों ने की कार्यवाही मांग