Wednesday, April 24, 2019
BREAKING NEWS
नेताओ की निगाह में कार्यकर्ताओं की कोई हैसियत नहीं ,कोई कार्यकर्त्ता नेता बने ये सहन नहीं 10 लोकसभा क्षेत्रों से नामांकन प्रक्रिया के आखिरी दिन 163 उम्मीदवारों ने नामांकन पत्र दाखिल सोनीपत बनी सबसे हॉट सीट, राजनीति के दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव परदिल के अरमान आंसुओं में बह गए...राजकुमार सैनी नामांकन ही नहीं कर पाए दाखिल रामपाल माजरा ने किया अर्जुन चौटाला के चुनावी कार्यालय का उद्घाटन कर श्रीगणेश डेरा बाबा वडभाग सिंह के बाबा पर धोखाधड़ी का मामला दर्जजो पार्टी 72 हजार रूपए में श्रीमद्भगवत गीता को बेच सकते हैं , कुरूक्षेत्र से क्या न्याय कर पाएगी :- रणदीप सिंह सुरजेवालाजयहिंद के खिलाफ दर्ज हैं चार केसफरीदाबाद को गुंडाराज से मुक्ति दिलाएंगे पंडित नवीन जयहिंद:सिसोदियातरावड़ी नपा ने घोषित किया जहरीला जल, फिर भी पाली जा रही मछलियां

Entertainment

बरकत" गाने के माध्यम से युवाओं ने दिखाई किसान की पीड़ा

July 12, 2017 06:16 PM
प्रदीप दलाल

बरकत" गाने के माध्यम से युवाओं ने दिखाई किसान की पीड़ा

बरकत गाने को यू ट्यूब पर बरकत गाने को लाखों लोगों ने देखा

युवाओं ने कहा हरियाणवी कल्चर को जिंदा करना है उनका उद्देश्य

 

कैथल(प्रदीप दलाल) पूरे विश्व के लिए अन्न पैदा वाले किसान के हाथ हमेशा खाली के खाली रह जाते हैं। धरतीपुत्र किसानों की पीड़ा से हमारे देश में हर कोई वाकिफ है, इसी पीड़ा को समझते हुए कुछ युवाओं ने इसे हरियाणवी गाने का रुप दिया है। जिसमें किसानो के जमीनी हालात को दिखाया गया है। उन्होंने इस गाने को बरकत नाम दिया है, क्योंकि किसान की जिंदगी में कभी बरकत नहीं होती। उसी बरकत के लिए वह ना जाने कितनी मेहनत करता है लेकिन उसके बाद भी सरकार की अनदेखी और प्रकृति की मार से हमेशा उसे जूझना पड़ता है और अंत में वह हारकर अपनी जिंदगी को ही खत्म कर लेता है। इसी असलियत को इन युवाओं ने एक गाने के माध्यम से प्रस्तुत किया है। बरकत गाने कि इस वीडियो को यूट्यूब पर लाखों लोग देख चुके हैं और शेयर कर चुके हैं। युवाओं ने गाने की धुन को हरियाणवी ट्रेडिशन राग में बनाया है और वीडियो को सिनेमेटिक लुक दिया है। सोशल मीडिया पर लोग युवाओं द्वारा बनाए गए गाने बरकत की खूब तारीफ कर रहे हैं। सभी युवाओं ने इस गाने के लिए खास मेहनत की थी जो युवाओं द्वारा बनाए गए वीडियो सॉन्ग में दिखाई भी देती है। इन युवाओं का यही कहना है कि वर्तमान समय में हरियाणवी गानों में अश्लीलता और फूहड़ता को परोसा जाता है लेकिन उन्होंने अपने गाने के माध्यम से कोशिश की है कि वह किसान की जमीनी हकीकत को दिखा सकें। इस गाने का निर्देशन आदित्य रोहिला ने किया है और गाने को अपनी आवाज दी है विक्रम मलिक और आदित्य रोहिला ने, गाने का यूजिक आदित्य और रविंद्र सिंह रवि ने दिया है। इसके बोल और डायरेक्शन मोहन बेताब ने की है। जबकि गाने की एडिटिंग एमपी सेगा, पंकज शाह और अमन गिल ने की है। डीओपी कहर रंधावा और भूपिंदर सिंह की है। गाने के प्रोड्यूसर दिनेश जांगड़ा और गुरमीत चौधरी हैं।

Have something to say? Post your comment

More in Entertainment

मौसी ने अपनी ही भांजी के साथ करवाया दुष्कर्म

छोड़ा खुला कैमरा, आकर देखा तो दोस्त के साथ पत्नी का दिखा अतरंग वीडियो

महिला आयोग ने देह व्यापार के रैकेट का किया भंडाफोड़, चार नाबालिग लड़कियां मुक्त कराईं

सोनू सिंह के सौजन्य हुआ होली मिलन समारोह, पहुंचे कई दलों के राजनीतिक दिग्गज

राजौंद -पुलिस कर्मी महिला से साथ मिले आपत्तिजनक अवस्था में , ग्रामीणों ने जमकर की धुनाई

बिना दहेज केवल 1 रुपया लेकर भाजपा नेत्री के बेटे ने कर ली शादी

स्टूडेंट बिना बुलाए शादी या पार्टियों में खाना खाने पहुंचे तो कार्रवाई होगी

दो युवतियों ने आपस में समलैंगिक शादी

प्रयास मैंटली चिल्ड्रन स्कूल एंव ओपन शैल्टर होम मेंहोली उत्सव मनाया

होली खुशी और रंगों का त्यौहार, मनाएं सादगी से : उपायुक्त डॉ. प्रियंका सोनी