Friday, August 17, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
ढांड के बीपीआर स्कूल में राजकीय अवकाश के बावजूद लहराता रहा राष्ट्रीय ध्वजजब नए सांसदों को राजनीतिक शुचिता का पाठ पढाने हरियाणा आए वाजपेयीकन्या जन्म पर कुआं पूजन का आयोजन कर लोगों को किया प्रेरित18 अगस्त को हरियाणा बंद को लेकर किसानों व व्यापारियों से साधा संपर्कभारत में कोई नहीं है छोटा या बड़ा, सबको मिलकर करना चाहिए देशहित में कार्य: अमित यादववीर शहीदों की याद में तिरंगा यात्रा निकाल हर्षोल्लास व जोश के साथ मनाया गया स्वतंत्रता दिवससावधान, क्षेत्र में एक बार फिर पशु चोर गिरोह सक्रिय, गांव बारड़ा से चुराई दो भैंसगुरूकुल में मिलती है संस्कारवान शिक्षा: दुष्यंत चौटाला
Literature

शिवरात्रि पर्व को लेकर शहर हुआ शिवमय आज होगा शिवलिंग का जलाभिषेक

रणबीर रोहिल्ला | July 20, 2017 06:03 PM
रणबीर रोहिल्ला
शिवरात्रि पर्व को लेकर शहर हुआ शिवमय
आज होगा शिवलिंग का जलाभिषेक
 
रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।
श्रावणमास कृष्णपक्ष में भगवान शिव का जलाभिषेक करने के लिए हरिद्वार से कांवड में गंगाजल लेकर आए शिवभक्त अपने-अपने मंदिरों में पहुंच गए हैं। शहर बम-बम भोले के उदघोषों से गूंज उठा व शहर शिवमय हो गया। भगवान शिव के भक्त शिवलिंग का जलाभिषेक करने के लिए मंदिरों में पहुंच गए। हरिद्वार से पवित्र गंगा जल भरकर शिवरात्रि के दिन भोले शंकर के शिवलिंग पर जलाभिषेक करने वाले कावडिय़ों के सब मनोरथ पूर्ण होते हंै। शहर के विभिन्न मंदिरों व शिवालयों को विशेष तौर पर सजाया गया था।  
सावन की शिवरात्रि नजदीक आते ही सोनीपत जिले सें गुजरने वाले कांवडिय़ों का आगमन शुरू हो जाताा है। कई श्रद्धालुओं ने कांवडिय़ों के भोजन, पानी और दूसरी आवश्यकता की पूर्ति के लिए जगह-जगह शिविरों की स्थापना की है। जहां 24 घंटे कांवडिय़ों को सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही है। 
हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी हरिद्वार से गंगाजल लाकर अपने-अपने शिवालयों या अपने मनोती स्थलों पर जल चढ़ाने के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु पैदल कांवड़ लेकर आ रहे हैं। श्रद्धालुओं में भारी उत्साह दिखाई दे रहा है और वे बोल बम के नारों के बीच अपनी मंजिल की ओर बढ़ रहे हैं। बोल बम का नारा है बाबा एक सहारा है, जयकारा वीर बजरंगे हर-हर महादेव आदि जयकारे लगाते हुए कांवडिय़ों की टोलियां अपने गंतव्य की ओर बढ़े उत्साह के साथ बढ़ रही हैं। सोनीपत के गढ़मिरकपुर बार्डर से इन दिनों हजारों कांवडि़ए प्रदेश में प्रवेश करके अपनी-अपनी मंजिलों की ओर रवाना हो रहे हैं। वीरवार को  दूर-दराज के क्षेत्रों के कांवडि़ए सोनीपत से अपने अगले पड़ाव के लिए निकले। कुछ कांवडिय़ों ने उत्तरप्रदेश व उत्तरांचल सरकार द्वारा कांवडिय़ों का मार्ग बदलने की कड़े शब्दों में निंदा की ओर बताया कि उन्हें रास्ते में कोई भी सुविधाएं नहीं मिली, किन्तु हरियाणा में उन्हें श्रद्धालुओं द्वारा उन्हें भरपूर सुविधाएं उपलब्ध कराई जा रही हैं।  
शिवालयों में बढ़ जाती है भीड़ 
सावन माह में शिवालयों में श्रद्धालुओं की भीड़ बढ़ जाती है। भगवान शिव शंकर भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए सावन का महीना अतिउत्तम माना गया है। सावन माह में शिवभक्तों द्वारा की जाने वाली भगवान शिव की आराधना, जयकारे और धार्मिक आयोजन ऐसा शिवमय वातावरण बना देते हैं कि उसके प्रभाव से ईश भक्ति से दूर रहने वाले लोगों के मन में भी शिवभक्ति और श्रद्धा की लहर पैदा हो जाती है। शहर के शम्भू दयाल शिवालय, प्राचीन शिव मंदिर मिशन रोड, रेलवे घट्टी शिव मंदिर, भूरेबाबा मंदिर, अग्रवाल धर्मशाला स्थित मंदिर, गीता भवन मंदिर सहित शहर के अन्य मंदिरों में बेहतर ढंग से सजाया गया था। 
डाक कावडिय़ों की रही भीड़
 शिवरात्रि व्रत से एक दिन पहले जहां पैदल कावडिय़ों की भीड़ बढ़ गई। वहीं डाक कावडिय़ों के अपने गणतव्य तक जाने के लिए शहर में भीड़ बढ़ गई। जिससे पुलिस को काफी परेशानी झेलनी  पड़ी। इतना ही नहीं कावडिय़ों को देखने के लिए दर्शकों की भीड़ भी उतनी ही दिखाई दी। ध्यान रहे पिछले कुछ दिनों से कावडिय़ों का आवगमन शुरु हो गया था, जिसके चलते जिले की सामाजिक संस्थाओं ने भी कावडिय़ों के ठहरने खाने पीने से लेकर नहाने का तक इंतजाम कर रखा था।  
Have something to say? Post your comment
More Literature News
सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज
गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा-स्वामी ज्ञानानंद
श्रद्धालुशक्तिपीठ श्रीदेवीकूप भद्रकाली मंदिर में विशाल भगवती जागरण संपन्न
नवरात्रों के 6वे दिन श्रद्धालुओं ने की माँ भगवती की आराधना
ओंकार महायज्ञ में बैठने से नहीं आता कभी असाहय रोग व अकाल कष्ट : शक्तिदेव
काली कमली वाला मेरा यार है, मेरे मन का मोहन तू दिलदार है
कैसे और कब मनाएं श्रीमहाशिवरात्रि 13 या 14 फरवरी को ?
एक पर्व के लिए दो-दो तिथियां भविष्य नहीं आएगी सामने
श्रीमद् भागवत कथा में दिखाया कृष्ण-सुदामा चरित्र नेकी कर दरिया में डाल: गोस्वामी
31 जनवरी को चंद्रग्रहण ग्रहण पूरे भारतवर्ष में दिखाई देगा, सुतक सुबह 08 बजकर 14 मिनट से शुरू होगा