Saturday, December 15, 2018
Follow us on
Literature

100वें सकीर्तन व भजन संध्या का आयोजन किया

संजय गर्ग | August 01, 2017 05:01 PM
संजय गर्ग
लाडवा, 1 अगस्त(संजय गर्ग): लाडवा की श्री राधा कृष्ण सेवा मंडल द्वारा अनाजमंडी में एक भव्य 100वें सकीर्तन व भजन संध्या का आयोजन किया गया। जिसमें भारी संख्या में श्रद्वालु ने राधा कृष्ण के भजनों को सुना व मंडल द्वारा निकाली गई राधा कृष्ण व सुदामा आदि की सुंदर-सुंदर झांकियां भी प्रस्तुत की गई। 
भजन संध्या का शुभारंभ बाबा बंसी वाले वृद्वाश्रम के प्रधान अशोक पपनेजा ने दीप प्रज्जवलित करके किया। मंडल के सदस्यों द्वारा भजन संध्या के दौरान सुंदर-सुंदर भजन भी सुनाए गए। वहीं मुझे नचना श्याम दे नाल पर श्रद्वालु अपने आप को थिरकने से नहीं रोक सकें और जमकर थिरके। भजन संध्या के दौरान श्रद्वालुओं पर गुलाब जल व पुष्पों की वर्षा भी की गई। वहीं मंडल के संस्थापक जसवंत अरोड़ा ने जानकारी देते हुए बताया कि मंडल की ओर से अनाजमंडी में यह 100वां सकीर्तन व भजन संध्या का आयोजन किया गया है। उन्होंने बताया कि इससे पहले मंडल के द्वारा शहर व आस-पास के क्षेत्र में 99 सकीर्तन नि:शुल्क किये जा चुके हैं। उन्होंने कहा कि मंडल के पास सकीर्तन व भजन संध्या के दौरान जो भी चढ़ावे व दान के रूप में राशि आती है उसे वह शहर की श्री कृष्ण गौशाला में गायों के चारे के लिए भेेंट कर दिया जाता है। उन्होंने बताया कि अब तक मंडल की ओर से लगभग तीन लाख रूपए की राशि चारे के लिए दी गई है। वहीं भजन संध्या के दौरान मंडल की ओर से मुख्यातिथि, समाजसेवी व मंडल के मासिक सदस्यों को स्मृति चिन्ह भेेंट कर सम्मानित भी किया गया। इस अवसर पर मंडल के प्रधान दीपक अरोड़ा, राम, संदीप, विपन, विशाल, मनोज, मनीष, अभिनव, नीरज, मोहित, प्रिन्स, रवि, पवन, राकेश, मान सिंह सहित भारी संख्या में भजन संध्या में श्रद्वालु उपस्थित थे। 
Have something to say? Post your comment
More Literature News
बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया
हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा
पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार
15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स
5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ
बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2
सोनीपत-बाबा जिन्दा मेले में हजारों भक्तों ने माथा टेका
सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज
गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा-स्वामी ज्ञानानंद
श्रद्धालुशक्तिपीठ श्रीदेवीकूप भद्रकाली मंदिर में विशाल भगवती जागरण संपन्न