Sunday, February 17, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
संगठन सर्वोपरी होता है और इससे बडी ताकत नहीं-डा. श्रीकांतएक्शन मूढ में कांग्रेस,नए प्रभारी लोकसभा के उम्मीदवारों की सूचि तैयार करनें में जूटे,पार्टी पदाधिकारियों से ले रहे है प्रदेश अध्यक्ष की रायडॉक्टरों का एनपीए 20 प्रतिशत बढ़ामेले के अंतिम दिन रही भारी भीड़, रामकुमार के बैगपाईपर की धुन पर युवाओं की खूब मस्ती।रा.व.मा. विद्यालय बुडीन की दो छात्राओं का NMMS में हुआ चयनएग्री समिट-2019:राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 25 किसानों को 1 लाख रुपए राशि के साथ दिया कृषि रत्न पुरस्कारराज्य सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है-राम बिलास शर्मारातभर अंधेरे में डूबा रहता है सतनाली का मुख्य बाजार, स्ट्रीट लाइटें खराब होने से कस्बे की गलियां व मुख्य चौक रहते है अंधकारमय
 
 
Literature

गणपति बप्पा मोर्या के जय घोष ने पूरे गांव को भक्ति के रंग में डूबो दिया।

अटल हिन्द ब्यूरो | September 03, 2017 07:10 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

 गणपति बप्पा मोर्या के जय घोष ने पूरे गांव को भक्ति के रंग में डूबो दिया।

रोहतक (3 सितम्बर) (रमन) : जिले के गांव लाहली में पूरे नौ दिन तक गणपति की सेवा कर आज ढोल नगाड़ो के साथ झूमते नाचते हुए ग्रामवासियों ने गांव के बाहर चल रही नहर में विसर्जन कर अपने गांव एवं परिवार की सुख शांति की कामना की। इस मौके पर महिलाओं एवं बच्चों का जोश देखते ही बनता था । ढोल की थाप पर नाचते हुए पांव एवं गणपति बप्पा मोर्या के जय घोष ने पूरे गांव को भक्ति के रंग में डूबो दिया। विसर्जन यात्रा में शामिल महिलाओं ने बताया कि गांव के मुख्य मंदिर में गणपति को बिठाने की पंरपरा काफी पुरानी है और हर वर्ष की भांति इस साल भी पूरी श्रद्धा के साथ सभी ने गणपति की सेवा कर अपने कर्तव्य का बखूबी निर्वहन किया। उन्होंने कहा कि यह महोत्सव पूरे गांव को एक सूत्र में बाँधने का कार्य करता है एवं सभी एक परिवार की तरह ही कार्यक्रम में शामिल होते है। यात्रा के अंतिम पड़ाव पर पहुंचने पर महिलाओं ने नहर में गणपति की मूर्ति के साथ डूबकी लगा कर परिवार की सुख शांति की कामना की एवं अगले बरस जल्दी आने की प्रार्थना कर गणपति बप्पा को विदा किया।

 
Have something to say? Post your comment
 
More Literature News
श्रीमद् भागवत कथा का प्रारंभ आज
मदहोश होकर लोग हुए आउट आफ कंट्रोल हरिनाम संकीर्तन में
अबकि बार मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी नहीं बल्कि 15 जनवरी को ही मान्य - पं. रामकिशन
सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा
कैथल में पूजा अर्चना के साथ हुआ श्री साई अमृत कथा का शुभारंभ
बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया
हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा
पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार
15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स
5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ