Monday, June 18, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
चोरीशुदा जनरेटर तथा वारदात में प्रयुक्त पीकअप गाडी सहित दो आरोपी गिरफतार, पुत्रवधु की करतूत भी उजागर ,48 घंटों के भीतर ही पुलिस कंवाली में हुई बुजुर्ग महिला की हत्या की गुत्थी सुलझाईपुलिस कर्मी तमाशबीन बने थे कर दिए गए निलम्बित , नौजवान पर चाकूओं से हो रहा था हमलाकुरूक्षेत्र में मिठ्ठा राम बनाते है भगवान,भगवान को बनाने वाले निर्धनशहर नरवाना पुलिस सीआइए जींद ने दो कुख्यात अपराधियों को टोहाना मोड़ नरवाना से किया काबू , तोशाम सिलेण्डर में लगी आग ,समान जला मकान मालिक आग की चपेट में झुलसा जापान में आयोजित चैंपियनशीप में ढाणी भालोठिया के बेटे ने जीता कांस्य पदकजनता ने उठाए सवाल: "क्या महेंद्रगढ़ में कभी बन पाएगा जिला मुख्यालय?"
Literature

19 अक्तूबर ,वीरवार ,दीवाली पर पूजन के विशेष मुहूर्त , पूजा विधि तथा उपाय

अटल हिन्द ब्यूरो | October 17, 2017 06:30 PM
अटल हिन्द ब्यूरो
19 अक्तूबर ,वीरवार ,दीवाली पर पूजन के विशेष मुहूर्त , पूजा विधि तथा उपाय
 
दीवाली के पांच पर्व 17 अक्तूबर धनतेरस से आंरभ हो चुके हैं। 18 को नरक चतुर्दशी थी । 19 को दीपावली और 20 को गोवर्धन पूजा , विश्वकर्मा पूजा  तथा 21 को भाई दूज है।
आइये प्रदूषण रहित दीवाली का संकल्प लें और सबका जीवन  प्रकाशमय रहे यह कामना करें ।
इस साल , वीरवार के दिन चित्रा नक्षत्र , व तुला राशि में दीवाली पड़ने और बुध -आदित्य योग होने के कारण व्यापार में काफी वृद्धि होगी। व्यापारियों के लिए पूरा साल शुभ एवं लाभकारी रहेगा।इस साल के संवत  के मंत्री भी गुरु है अतः इस बार लक्ष्मी पूजन से सभी को धन, वैभव, संपत्ति एवं शिक्षा  की दृष्टि से  विशेष लाभ प्राप्त होगा।  खाद्य सामग्री, धातुओं, वाहनों आदि के व्यापारियों को बहुत लाभ होगा।  
दीवाली पर पूर्ण कालसर्प दोष व्याप्त होना और सूर्य का नीच राशि तुला में होने  तथा राहू का कर्क राशि में होना एक तरह से दीवाली को ग्रहण ग्रस्त कहा जा सकता है जो देश की सुरक्षा के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं। 
अमावस्या रात्रि 24.42 तक रहेगी। 
 
दीवाली पूजन का शुभ समय सायंकाल  स्थिर लग्न वृषभ    माने गए हैं।
शुभ चौघड़िया - - 6.37 बजे  से 08.01 तक
लाभ का चौघड़िया- 12.15 से 13.35 तक
अमृत का चौघड़िया - 13.35 से 15.01 तक
शुभ का चौघड़िया - 16.24 से 17.48 तक
अमृत का चौघड़िया -17.48 से 19.25 तक 

प्रदोष काल- 17.48 से 20.22 तक
स्थिर बृष लग्न में घर में पूजा का समयः- सायं 19.15 से  से 21.08 तक
निशीथ कालः 20.22से 22.55 तक
महा निशीथ काल- 22.56 से 25.30 तक 

महालक्ष्मी पूजा- दीवाली 19 अक्तूबर ,वीरवार: दीवाली पर क्या करें ?
ऽघर की साफ सफाई करें । प्रवेश द्वार पर घी और सिंदूर से ओम ्या स्वास्तिक का चिन्ह बनाएं।
ऽसायंकाल खीलें ,बतासे,अखरोट,पांच मिठाई,कोई फल पहले मंदिर में दीपक जला कर चढ़ाएं।
ऽदीवाली वाले दिन मिटट्ी या चांदी की लक्ष्मी जी की मूर्ति खरीदें। एक नया झाड़ू लेकर किचन में रखें ।
ऽलक्ष्मी पूजन करें
ऽबहियों ,खातों, पुस्तकों,पैन,स्टेशनरी, तराजू ,कंप्यूटर या वो वस्तु जिसे आप रोजगार के लिए प्रयोग करते हैं उनकी पूजा करें।
इस मंत्र का जाप करते जाएं-
ओम् श्रीं हृीं श्रीं महालक्ष्म्यैे नमः

चंद्र राशि अनुसार क्या करें  दीवाली  पर ?
1.मेष: राशि का स्वामी मंगल है। दीवाली पर लक्ष्मी जी की पूजा लाल वस्त्र पहन कर करें ,यह दीवाली मंगलमय रहेगी।  
विद्युत या इलेक्ट्र्निक उपकरण , सोने के बिस्कुट , सोने की कोई चीज, भूमि खरीद सकते हैं। पीपल के 5 पत्तों पर मिठाई रख कर पेड़ के नीचे रख आएं और अपनी मनोकामना भी बोल आएं।

2.बृष:  मकान या वाहन  का क्रय शुक्रवार को अत्यंत शुभ रहेगा। यदि आवास की समस्या है तो दीवाली पर भूखे को भोजन और गाय को गुड़ खिलाएं। खीलें , गुड़ के बने खिलौने ओर सूखे मेवे गरीबों में बांटें। अपना पर्स बदल लें। उसमें लाल रंग के लिफाफे में एक कागज पर अपनी मनोकामना जैसे विवाह , नौकरी, धनागमन आदि लिख कर रखें । 


3.मिथुनः टी वी, लैपटॉप, मोबाईल, इंटरनेट कनैक्शन, यात्रा टिकट, रिजार्ट की बुकिंग। यदि व्यापार या जॉब में तरक्क्ी चाहते हैं तो दीवाली की रात कच्चा सूत , केसर में रंग कर अपने दूकान या ऑफिस के किसी उपकरण , कंप्यूटर, तिजोरी आदि पर बांध दें। हरे रंग की मिठाई या पिस्ता उपहार में दें ।

4.कर्कः चांदी या चांदी के बर्तन, फ्रिज , वाटर प्योरिफायर या वाटर कूलर खरीद सकते हैं। दो गोमती चक्र पर केसर का तिलक लगा कर ,एक चांदी की डिब्बी में बंद करके पूजा स्थान पर रख दें। सुख समृद्धि की राह अपने आप बन जाएगी।

5.सिंहः प्रवेश द्वार पर सिंदूर से स्वास्तिक बनाएं या ओम गणेशाय नमः या शुभ लाभ लिखें।दिया जलाएं। सोने के आभूषण या गोल्ड क्वाएन खरीदना धन वृद्धि करेगा। बृषभ लग्न में ही दीवाली पूजन करें तो लाभ दायक रहेगा।

6.कन्याः  प्रवेश द्वार पर अशोक या आम के पत्तों का वंदनवार लगाएं। नया मोबाइल, ब्रॉड बैंड कनेक्शन, टीवी तथा संचार संबंधी उपकरण खरीदें। ,पैन,स्टेशनरी,कंप्यूटर,कैल्कुलेटर,बही,खाते आदि पर केसर युक्त चंदन से स्वास्तिक बनाएं ,मौली लपेटें,सरस्वती जी का ध्यान करें।विद्यार्थी अपनी पुस्तकों,नोट बुक पर भी ऐसा ही करें। 

7.तुलाः आपकी ही राशि में आज की दीवाली है। इस अवसर पर चांदी,वाहन, डायमंड खरीदें और वर्षांत तक मालामाल हो जाएं। दीवाली की रात 9 बत्ती वाला घी का दीपक जलाएं। लक्ष्मी पूजन में अपने घर के धन व आभूषण भी पूजंे । बर्फी उपहार में दें।ं 

8.बृश्चिकः  आज घर से बाहर निकलते ही कोई सुहागिन स्त्री पारंपरिक परिधान में दिख जाए तो समझें महालक्ष्मी की पूर्ण कृपा बरसने बाली है। आप लाल वस्त्र ही पहनें और लाल रंग का इलैक्ट्र्ानिक गीफट लाईटें , दिये, मेवे आदि दें।

9.धनुः लक्ष्मी जी का सोने का सिक्का या मूर्ति सामर्थ्यानुसार खरीद कर पूजा स्थान पर स्थापित करें। रात को हल्दी की 11 गांठें पीले कपड़े में बांध कर घर के लाकर में रख लें। लक्ष्मी - गणेश जी की मूर्ति के आगे घी का दीपक जलाएं।

10.मकरःयदि वाहन या गृहपयोगी बर्तन या बिजली के यंत्र,फर्नीचर खरीदना चाहें तो काले रंग के लें। लक्ष्मी जी का ऐसा चित्र पूजा में रखें जिसमें वे बैठी हुई हों। पूजन में दक्षिणावर्ती शंख रखें, बरकत रहेगी। दीवाली पर जलता हुआ दीपक भूल से भी न बुझाएं।

11. कुंभः वाहन काले ,नीले या ग्रे कलर का लें। आज एक नया फूलवाला झाड़ू अवश्य खरीदें । उसी से घर की सफाई करें । प्रवेश द्वार पा कुमकुम से स्वास्तिक का चिन्ह बना लें। काले गुलाब जामुन या काले, ग्रे , नेवी ब्लू कलर के कपड़े उपहार दे सकते हैं। 

12.मीनः प्रापर्टी का ब्याना देना या बुकिंग दीर्घकालीन निवेश के लिए सर्वोत्तम मुहूर्त। हो सके तो किसी किन्नर से हरे रंग का नोट या एक रुपया लेकर  अपने खजाने में रख लें । बरकत रहेगी। परिवार में रुके विवाह शीघ्र होंगे।धन वृद्धि हेतु ,चांदी की गोल डिब्बी में , शहद व नागकेसर भरकर धन स्थान पर रख दें।

मदन गुप्ता सपाटू, ज्योतिषाचार्य ,चंडीगढ़, 98156-19620, 0172-2702790,2577458
196-सैक्टर 20ए,चंडीगढ़-20
Have something to say? Post your comment
More Literature News
सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज
गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा-स्वामी ज्ञानानंद
श्रद्धालुशक्तिपीठ श्रीदेवीकूप भद्रकाली मंदिर में विशाल भगवती जागरण संपन्न
नवरात्रों के 6वे दिन श्रद्धालुओं ने की माँ भगवती की आराधना
ओंकार महायज्ञ में बैठने से नहीं आता कभी असाहय रोग व अकाल कष्ट : शक्तिदेव
काली कमली वाला मेरा यार है, मेरे मन का मोहन तू दिलदार है
कैसे और कब मनाएं श्रीमहाशिवरात्रि 13 या 14 फरवरी को ?
एक पर्व के लिए दो-दो तिथियां भविष्य नहीं आएगी सामने
श्रीमद् भागवत कथा में दिखाया कृष्ण-सुदामा चरित्र नेकी कर दरिया में डाल: गोस्वामी
31 जनवरी को चंद्रग्रहण ग्रहण पूरे भारतवर्ष में दिखाई देगा, सुतक सुबह 08 बजकर 14 मिनट से शुरू होगा