Sunday, May 27, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
घरौंडा-बसताड़ा टोल पर चली गोली, 2 घायल।चौधर का पल्लू पकडऩा है तो बीरेंद्र सिंह का पकड़ो: मनोहर लालराजीव जैन ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस कहा, सरकार लोकतंत्र के चौथे स्तंभ को कर रही मजबूतनरवाना व दनौदा एस.ओ. के सभी ग्रामीण डाक कर्मचारी लगातार पांचवे दिन भी हड़ताल पर आदर्श बाल मंदिर उच्च विद्यालय नरवाना के प्रांगण में कैरियर काऊंसलिंग व मोटीवेशन सेमीनार का आयोजन कियासफाई का जायजा लेने कैथल डीसी निकली सड़कों ,गलियों मेंकैथल-अधिकारी अपनी कार्यप्रणाली में बदलाव लाएं तथा गंभीरता से अपनी डियूटी निभाएं -डीसीहरियाणा में श्रमिकों के न्यूनतम मासिक और दैनिक वेतन (वेजिज) में वृद्धि करने की घोषणा
Entertainment

..तू सामने आता है तो तेरा सजदा कर लेता हूं

रणबीर रोहिल्ला | November 06, 2017 06:20 PM
रणबीर रोहिल्ला
..तू सामने आता है तो तेरा सजदा कर लेता हूं
विजय वर्धन की कविताओं और पदमजीत अहलावत के मुरथल यूनिवर्सिटी के सभागार में आयोजित हुआ कार्यक्रम सजदा
फोटो  06एसएनपी1 : सोनीपत। विजय वर्धन की शायरी कार्यक्रम में मौजूद शायर। 
रणबीर  रोहिल्ला, सोनीपत। न नमाज आती है मुझे न वजू आता है, तू सामने आता है तो तेरा सजदा कर लेता हूं। मशहूर शायर मोहम्मद अली जहूर की इन लाइनों को जब वरिष्ठ आईएएस अधिकारी विजय वर्धन ने पेश किया तो दीनबंधु छोटूराम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्विद्यालय के सभागार में मौजूद हजारों लोगों की भीड़ ने वाहवाही के साथ उनका स्वागत किया। रविवार शाम को यूनिवर्सिटी में यह मौका था विजय वर्धन की शायरी और मशहूर गायक पदमजीत अहलावत के गीतों की जुगलबंदी का। 
मशहूर शायर गुलजार साहब के साथ हुई बातचीत को शब्दों में बयां करते हुए वर्धन ने कहा कि दो लब्ज कागज पर उतार कर चीख भी लेता हूं और आवाज भी नहीं आती। उन्होंने कहा कि कुछ लम्हे हमेशा जिंदा रहते हैं बूढ़े नहीं होते रिश्तों की तरह, उनके चेहरे पर झुर्रिया नहीं गिरती, वो चलते रहते हैं गिरते रहते हैं। 
कार्यक्रम में मां के महत्व को दिखाते हुए उन्होंने शब्दों में बयां किया और कहा कि मैने जन्नत नहीं मां देखी हैं। जज्बातों को कुरेदते हुए श्री वर्धन ने कहा कि हमारे ही दिल में ठिकाना चाहिए था तो फिर तूझे जरा पहले बताना चाहिए था, चलो हम ही सही सारी बुराईयों के सबब, मगर तूझे भी जरा सा निभाना चाहिए था, अगर नसीब में तारीखियां ही लिखी थी तो फिर चराग हवाओं में जलाना चाहिए था। पुराने दिनों को याद करते हुए उन्होंने कहा कि सफर में लौट जाना चाहता है एक परिंदा आशियाना चाहता है। कोई स्कूल की घंटी बजा दे कोई एक बच्चा मुस्कराना चाहता है। हमारा हक दबा रखा है जिसने सुना है वो मौलवी हज पर जाना चाहता है। इसी बीच मशहूर गायक पदमजीत अहलावत ने अपने गीतों के माध्यम से प्रस्तुती दी। सूफियाना अंदाज में दी इस प्रस्तुती में उन्होंने पुराने दिनों की याद दिलाई। इसके साथ ही हरियाणवी चुटकुलों के माध्यम से भी उन्होंने दर्शकों को गुदगुदाने को मजबूर कर दिया।   
Have something to say? Post your comment
More Entertainment News
हरियाणवी हास्य कलाकार झंडू ने जागरण में जमाया रंग
आ देखें जरा किसमें कितना है दम जल्दी ही आदर्श स्कूल का रणदीप दिखेगा टीवी पर
नरवाना,वेदांता इन्टरनैशनल स्कूल में ड्राईंग प्रतियोगिता का आयोजन।
नानक शाह फकीर फिल्म की रिलीज ना किए जाने की मांग को लेकर सिख समाज ने सौंपा ज्ञापन
जींद की दीवान बाल कृष्ण रंगशाला में हुआ जानी चोर सॉग का शानदार प्रदर्शन
पर्वतारोही सचिन बेस्ट यूथ अवार्ड से सम्मानित
एक बार फिर से सुभाष मांगता है देश : सौरभ सुमन जैन
प्रेमियों के लिए खास प्रबल योग है इस वेलेंटाइन डे पर....
जिला में शुरू हुआ फिल्म बोनांजा, विद्यार्थियों को दिखाई जायेंगी प्रेरक फिल्में
कोर्ट का आदेश ,मनोहर सरकार ने ना चाहते हुए कहा जो सिनेमा मालिक पद्मावत चलाना चाहते हैं उनको पूरी सुरक्षा दी जाएगी