Sunday, February 17, 2019
Follow us on
BREAKING NEWS
संगठन सर्वोपरी होता है और इससे बडी ताकत नहीं-डा. श्रीकांतएक्शन मूढ में कांग्रेस,नए प्रभारी लोकसभा के उम्मीदवारों की सूचि तैयार करनें में जूटे,पार्टी पदाधिकारियों से ले रहे है प्रदेश अध्यक्ष की रायडॉक्टरों का एनपीए 20 प्रतिशत बढ़ामेले के अंतिम दिन रही भारी भीड़, रामकुमार के बैगपाईपर की धुन पर युवाओं की खूब मस्ती।रा.व.मा. विद्यालय बुडीन की दो छात्राओं का NMMS में हुआ चयनएग्री समिट-2019:राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 25 किसानों को 1 लाख रुपए राशि के साथ दिया कृषि रत्न पुरस्कारराज्य सरकार पर्यटन को बढावा देने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है-राम बिलास शर्मारातभर अंधेरे में डूबा रहता है सतनाली का मुख्य बाजार, स्ट्रीट लाइटें खराब होने से कस्बे की गलियां व मुख्य चौक रहते है अंधकारमय
 
 
World

कत्थक लोक नृत्य के दीवाने है अंग्रेज

December 08, 2016 06:12 PM

कत्थक लोक नृत्य के दीवाने है अंग्रेज
 भारतीय संस्कृति और कला के दिवाने है कनाडा-रूस के लोग, भारतीय मूल के वैशाली व हेमंत कनाडा में अंग्रेजों को सिखाते कत्थक 
 कुरुक्षेत्र 8 दिसम्बर भारतीय संस्कृति और कत्थक लोक नृत्य के अंग्रेज दीवाने है, बेशक अंग्रेज हिन्दी को नहीं जानते लेकिन हिन्दूस्तान की संस्कृति को बहुत मोहब्बत करते है। इसलिए कनाडा में भारतीयों से ज्यादा कनाडा, रूस, चीन सहित अन्य देशों के लोग भारतीय लोक नृत्यों को बेहद शौक के साथ सीखते है। इन लोगों को भारतीय संस्कृति के रंग में रंगने के लिए ही पिछले 16 सालों से लगातार प्रयास कर रहे है।

 

 
> कनाडा में भारतीय संस्कृति का परचम फहराने वाली वैशाली और हेमंत ने वीरवार को कुरुक्षेत्र विकास बोर्ड कार्यालय में पत्रकारों से विशेष बातचीत की है। उन्होंने कहा कि कुरुक्षेत्र की पावन धरा पर अंतर्राष्ट्रीय गीता जयंती महोत्सव में महाभारत से जुड़े अहम लम्हों को तरोताजा करने के लिए पर्यटकों के लिए विशेष डांस ड्रामा तैयार करके लाएं है। इस मारकम्बा की प्रस्तुती का विषय जन्म से लेकर गीता ज्ञान रखा गया है। इस प्रस्तुती का प्रीमियर अगस्त माह में कनाडा में किया और कुरुक्षेत्र की भूमि पर दूसरी प्रस्तुती करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।

 


 उन्होंने कहा कि कनाडा में संस्कृति के अलग-अलग रंग है। लेकिन इन तमाम रंगों पर भारतीय संंस्कृति का रंग अलग नजर आता है। अब अंगे्रज भी हिन्दूस्तानियों को भारतीय संस्कृति के कारण विशेष तवज्जों देने लगे है।

 

अंग्रेज भारतीय संस्कृति को लेकर बहुत भावुक है और पवित्रता के साथ संस्कृति को सीखने का प्रयास करते है। अंग्रेजों को कत्थक नृत्य व वॉकल सिखाने के लिए पिछले 16 सालों से प्रशिक्षणशाला चलाई जा रही है। उन्होंने बताया कि अंग्रेजों पर भारतीय संस्कृति का प्रभाव है और भारतीयों पर अंग्रेजों का प्रभाव है।

 
Have something to say? Post your comment
 
More World News
बहनों ने कर ली अपने भाई से शादी..अब दोनों एक साथ मां बनी,
यूएस के विद्यार्थी सीखेगें भारतीय संस्कार व शिक्षा पद्धति
जेल में जब मेरे स्तन काटे गए !
ज्योतिसर का 5 हजार वर्ष पुराना वट वृक्ष देख गदगद हुई अमेरिका की शिक्षिका रेबिका पोलार्ड़
मनोहर लाल खटटर से मिला गर्वनर मैटबेविन की अध्यक्षता वाला 25 सदस्यीय अमेरिकी प्रतिनिधि मंडल
पिता करता था दिन में 4 बार रेप, इस वजह से कोर्ट में चिल्लाई लड़की- आई लव यू पापा
जेल में बंद रॉयटर्स के पत्रकारों की नहीं होगी रिहाई, हाईकोर्ट ने खारिज की अपील
अलीबाबा सिंगल्स डे सेलः 5 मिनट में ही बिक गया 21 हजार करोड़ का समान
जकार्ता से उड़ान भरने के 13 मिनट बाद क्रैश हुए इंडोनेशियाई लॉयन एयर के विमान में सवार सभी 189 यात्रियों और चालक दल के सदस्यों के मारे जाने की आशंका है
एनआरआई पति ने लंदन जाकर की दूसरी शादी, न्याय को भटक रही पहली पत्नी