Wednesday, October 24, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
नीलोखेडी में ज्वैलर्स की गोली मार की हत्या, आरोपी फराररावमावि सतनाली में सडक़ सुरक्षा प्रतियोगिता का हुआ आयोजनवरिष्ठ पत्रकार डॉ. एलसी वालिया का निधनधर्म का आदि स्रोत वेद के सिवाय कोई नहीं, आओ लोट चले पुन: वेदों की ओर: महन्त शुक्राईनाथस्वदेशी दिपावली के प्रति समाज को जागरूक करने के लिए चलाई मुहिम, बच्चों को दिलाई शपथजींद में 23 वर्षीय विवाहिता ने ट्रेन के सामने कूदकर किया सुसाइड, पति और ससुर पर मामला दर्जअग्रोहा की खुदाई के लिए भारत सरकार से रेजुलेशन पास करवाएंगे- डाॅ चंद्राशिक्षा भारती विद्यालय में बच्चों व शिक्षकों को दिलवाया स्वदेशी दिपावली मनाने का संकल्प
Fashion/Life Style

सेक्स और धन में क्या सम्बन्ध है ?

राजकुमार अग्रवाल | December 08, 2017 09:26 AM
राजकुमार अग्रवाल

प्रश्न :-- सेक्स और धन में क्या सम्बन्ध है ? Osho Naman ji 🙏👏🙏😍💋👍
ओशो :-- सम्बन्ध है। धन में शक्ति है, इसलिए धन का प्रयोग कई तरह से किया जा सकता है। धन से सेक्स खरीदा जा सकता है और यह सदियों से होता आ रहा है। राजाओं के पास हजारों पत्नियां हुआ करती थीं। बीसवीं सदी में ही केवल तीस चालीस साल पहले हैदराबाद के निज़ाम की पांच सौ पत्नियाँ थीं।

धन से सेक्स खरीदा जा सकता है और यह सदियों से होता आ रहा है। राजाओं के पास हजारों पत्नियां हुआ करती थीं। बीसवीं सदी में ही केवल तीस चालीस साल पहले हैदराबाद के निज़ाम की पांच सौ पत्नियाँ थीं।

कहा जाता है कि कृष्ण के पास सोलह हजार रानियां हुआ करती थीं। मैं सोचा करता हूँ कि यह कुछ ज्यादा ही बढ़ा चढ़ा कर कहा गया है परन्तु यदि चालीस साल पहले हैदराबाद के निज़ाम के पास पांच सौ रानियां हो सकती थीं, तो यह कुछ ज्यादा नहीं, केवल बत्तीस गुना ही तो अधिक हुई। यह संभव लगता है क्योंकि यदि आप पांच सौ पत्नियों को रखने की क्षमता रख सकते हो तो सोलह हजार की क्यों नहीं ?
संसार भर में राजाओं ने यही किया। स्त्रियों को भेड़-बकरियों की तरह इस्तेमाल किया गया। बड़े बड़े राजाओं के महलों में स्त्रियों को गिनती के हिसाब से पुकारा जाता था। अब इतने सारे नाम याद रखने तो बहुत कठिन थे। इसलिए राजा अपने नौकरों को ऐसे ही कहता था, 'चार सौ एक नंबर को ले आओ।' क्योंकि पाँच सौ नामों को कैसे याद रखा जा सकता है। इसलिए नंबर ही होते थे।
जैसे सिपाहियों के नंबर हुआ करते हैं उन्हें नामों से नहीं गिनती के हिसाब से पुकारा जाता है। और इस से काफी फर्क पड़ता है। क्योंकि नंबर तो गणित में होते हैं। और नंबर सांस नहीं लेते, नंबरों के दिल भी नहीं होते, न ही नंबरों की कोई आत्मा होती है। जब युद्ध में किसी सिपाही की मौत होती है तो नोटिस बोर्ड पर केवल ऐसे लिखा जाता है, 'नंबर पंद्रह की मौत हो गई है।' अब पंद्रह नंबर की मौत होना एक बात है यदि उस सिपाही का नाम लिखा जाता है तो बात एकदम बदल जाती है। तब उस नाम के व्यक्ति की एक पत्नी भी है जो विधवा हो गई। मरने वाले व्यक्ति के बच्चे भी हैं जो अनाथ हो गए। हो सकता है कि वह व्यक्ति अपने बूढ़े मां बाप का इकलौता सहारा हो। एक परिवार टूट जाता है। एक घर में अंधेरा छा जाता है परंतु जब कोई पंद्रह मरता है तो नंबर पंद्रह की न कोई पत्नी होती है, न बच्चे और न ही कोई उसके बूढ़े मां बाप हैं। नंबर पंद्रह केवल नंबर पंद्रह है बस और कुछ नहीं। नंबरों के जाने पर कुछ अफसोस नहीं करता। नंबर तो बदलते रहते हैं।

(SUBHEAD1)
इसी तरह पत्नियों के भी केवल नंबर ही हुआ करते थे और यह संख्या कितनी है, वह इस बात पर निर्भर था कि आपके पास कितना धन है।
वास्तव में पुराने जमाने में इसी बात से आपके धन का पता लगता था कि आपके पास स्त्रियों की गिनती कितनी अधिक है। धनी का यही मापदंड हुआ करता था।
सदियों से धन द्वारा स्त्रियों का शोषण होता आ रहा है। सारी दुनिया में वेश्यावृत्ति द्वारा दुःख भोगे गए हैं। मनुष्यता का इससे अधिक अपमान क्या होगा ? वेश्या के रूप में स्त्री को यंत्रवत बना दिया गया है, जिसे तुम पैसों से खरीद सकते हो।
लेकिन इसे पूर्णरूप से जान लिया जाए कि आप लोगों की पत्नियां भी इससे कुछ भिन्न नहीं हैं।
एक वेश्या को तुम टैक्सी की तरह इस्तेमाल करते हो और पत्नी को अपनी कार की तरह, हां, यह आपके पास स्थायी व्यवस्था है।अमीर लोग अपने धन के बलबूते पर ज्यादा कारें रख सकते हैं। मैं एक ऐसे व्यक्ति को जानता हूँ जिसके पास तीन सौ पैंसठ कारें थीं और एक कार तो सोने की थी। धन में शक्ति है क्योंकि धन से कुछ भी खरीदा जा सकता है। धन और सेक्स में अवश्य सम्बन्ध है।
एक बात और समझने जैसी है, जो सेक्स का दमन करता है वह अपनी ऊर्जा धन कमाने में खर्च करने लग जाता है क्योंकि धन सेक्स की जगह ले लेता है। धन ही उसका प्रेम बन जाता है, धन के लोभी को गौर से देखना। सौ रुपए के नोट को ऐसे छूता है जैसे उसकी प्रेमिका हो और जब सोने की तरफ देखता है तो उसकी आंखें कितनी रोमांटिक हो जाती हैं ... बड़े-बड़े कवि भी उसके सामने फीके पड़ जाते हैं। धन ही उसकी प्रेमिका होती है। वह धन की पूजा करता है। धन यानी देवी। भारत में धन की पूजा होती है, दीवाली के दिन थाली में रुपए रखकर पूजते हैं। बुद्धिमान लोग भी यह मूर्खता करते देखे गए हैं।
मनुष्य के पास एक ही ऊर्जा होती है : काम ऊर्जा। तुम्हारे पास कोई और तरह की ऊर्जाएं नहीं हैं। तुम जीवन के हर कार्य में इसी काम ऊर्जा को खर्च करते हो। यह ऊर्जा बहुत प्रबल होती है - वेगवान।मनुष्य धन की दौड़ में लगा रहता है, इस आशा से कि अधिक धन कमा कर वह सुंदर से सुंदर स्त्री के साथ सेक्स करने में सक्षम हो सकता है। उसे विविधता मिलेगी और चुनाव की स्वतंत्रता भी।
लेकिन वह व्यक्ति जिसकी काम ऊर्जा परिवर्तित होकर ऊपर की ओर बहना शुरू हो गई है, वह धन के पीछे नहीं दौड़ेगा। वह तरह-तरह की वासनाओं से मुक्त हो जाएगा, वह प्रसिद्धि के पीछे नहीं भागेगा। जैसे ही काम ऊर्जा निम्नतलों से ऊपर उठ जाती है, जैसे ही काम ऊर्जा प्रेम, प्रार्थना और ध्यान में परिवर्तित हो जाती है, तब हम क्षुद्र चीजों की ओर भागना बंद कर देते हैं।
याद रखो कि मैं न तो सेक्स के विरोध में हूँ और न धन के, हमेशा स्मरण रखो। परन्तु मैं चाहता हूँ कि तुम इन दोनों के पार चले जाओ। इन्हें सीढ़ी बना लो।
ओशो

Have something to say? Post your comment