Thursday, January 24, 2019
Follow us on
Entertainment

एक बार फिर से सुभाष मांगता है देश : सौरभ सुमन जैन

रणबीर रोहिल्ला | February 23, 2018 08:19 PM
रणबीर रोहिल्ला

एक बार फिर से सुभाष मांगता है देश : सौरभ सुमन जैन
आगे हर कदम बढ़ेंगी जीवीएम की लड़कियां: डा. सुनील जोगी
जीवीएम में हास्य कवि सम्मेलन में कवियों ने उड़ाया हर रंग
डा. ओपी परूथी के नेतृत्व में संस्था को पहुंचायेंगे बुलंदियों पर : रवि परूथी
ज्वलंत समस्याओं पर कटाक्ष करते हुए व्यवस्था परिवर्तन पर दिया जोर

रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।

जीवीएम गल्र्ज कालेज में आयोजित हास्य कवि सम्मेलन में कवियों ने हर रंग उड़ाया, जिसमें हास्य के साथ वीर रस, समस्याओं व नीतियों पर कटाक्ष, प्रेम रस आदि शामिल रहे। कवियों ने ज्वलंत समस्याओं पर करारा कटाक्ष करते हुए व्यवस्था परिवर्तन की आवश्यकता पर भी जोर दिया।
जीवीएम में शुक्रवार को आयोजित 7वें हास्य कवि सम्मेलन का शुभारंभ मुख्य अतिथि के रूप में जीवीएम संस्था के वरिष्ठ उप-प्रधान एवं प्रमुख समाजसेवी रवि परूथी ने किया। समारोह की अध्यक्षता संस्था के प्रधान डा. ओपी परूथी ने की। उन्होंने प्राचार्या डा. ज्योति जुनेजा के साथ मिलकर मुख्य अतिथि तथा आमंत्रित कवियों को पुष्पगुच्छ भेंट कर स्वागत करते हुए स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया। हास्य कवि सम्मेलन केवल श्रोताओं को गुदगुदाने तक सीमित नहीं रहा। सम्मेलन में लगभग हर प्रकार की समस्याओं को उठाया गया। कवि सौरभ सुमन जैन ने राजनेताओं पर तीखा प्रहार बोलते हुए नेताजी सुभाष चंद्र बोस की आवश्यकता पर कुछ इस प्रकार बल दिया- एक बार फिर से सुभाष मांगता है देश। पद्मश्री डा. सुनील जोगी ने मेजबान कालेज की लड़कियों पर कविता प्रस्तुत की- आगे हर कदम बढ़ेंगी जीवीएम की लड़कियां। साथ ही जोगी ने सुनाया- पसीने को पूजो तो गरीबी भाग जाएगी, जरा सा मुस्कुरादो बदनसीबी भग जाएगी।। डा. अनामिका अंबर ने माँ सरस्वती के 108 नामों का उच्चारण एक स्वर में करने के उपरांत मधुर कविता प्रस्तुत की- ये दरिया भी नहीं लेकिन समंदर चाहिए, जरा देखा अनामिका सा अंबर चाहिए। कवयित्री पूनम वर्मा ने गजल की सुरीली प्रस्तुति दी- गजल गीतों की गंगा से चुरा कर रंग लाए हैं, समय की दौड़ से हमने यहां कुछ पल चुराए हैं।। कवि प्रमोद तिवारी ने बदलते रिश्तों पर कविता सुनाते हुए रिश्तों की बेहतरी पर बल दिया- राहों में भी रिश्ते बन जाते हैं, ये रिश्ते भी मंजिल तक जाते हैं।। साथ ही सुनाया- याद बहुत आते हैं वो गुड्डे-गुडिय़ों वाले दिन। डा. विनीत पांडे ने राष्ट्र के समक्ष चुनौतियों को उकेरते हुए देश के जवानों को अपनी प्रस्तुति में कुछ यूं सलाम किया-देशभक्ति का मतलब कुछ करने से है, सीमा पर मरने से हैं।। डा. जोगिंद्र मोर ने जीवीएम कालेज से अभिभूत होकर पंक्तियां पढ़ी- गीता है विद्या है मंदिर है, सच में ये अनुशासन का मंदिर है।। कवि सम्मेलन का संचालन करने वाले हास्य कवि जगबीर राठी ने हरियाणवी अंदाज में श्रोताओं को खूब गुदगुदाते हुए कुछ गंभीर रचना की प्रस्तुति दी- मां-बाप नै बुरा कदे न कहियो, चाहे लाख उनका कसूर होवै।। हास्य कवि सम्मेलन का छात्राओं ने पूरा लुत्फ उठाते हुए कवियों का अपनी तालियों की गूंज से पूरा साथ दिया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि समाजसेवी रवि परूथी ने इस मौके पर प्रबंधन समिति तथा कालेज की बेटियों का आर्शीवाद लेते हुए कहा कि यदि जनता उन्हें सेवा का मौका देती है वे जीवीएम संस्था को प्रधान डा. ओपी परूथी के नेतृत्व में बुलंदियों पर ले जायेंगे। उन्होंने कहा कि वे लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरेंगे तथा नेताओं के प्रति नकारात्मक सोच को परिवर्तित करने में कोई कसर नहीं छोड़ेंगे। कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे संस्था के प्रधान डा. ओपी परूथी ने सफल आयोजन के लिए सबका आभार प्रकट करते हुए कहा कि शिक्षण क्षेत्र में छात्राओं को हर प्रकार की बेहतरीन सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं। संस्था छात्राओं के चहुंमुखी विकास को समर्पित है।

Have something to say? Post your comment
More Entertainment News
संभार्य थियेटर फेस्टिवल - पहले दिन नाटक विद्रोही का हुआ मंचन
अमेरिका में फिल्म-टेलीविजन हैं, तब तक कोई पुरुष किसी स्त्री से तृप्त नहीं होगा
20 साल बडे जीजा के साथ करवाई रही थी 15 वर्षीय नाबालिग लडक़ी की शादी, शादी रूकी
फिल्में दिलाऐंगी मुल्तानी भाषा को अलग पहचान : रमेश मल्हौत्रा
मेहनत पहुंचाएगी टीवी के परदे पर : बीरबल खोसला
जर्मनी के कलाकारों के मुख से भी निकला एंडी हरियाणा
मशहूर हरियाणवी सिंगर मासूम शर्मा कल कैथल में
दुनिया में अश्लील पोस्टर नहीं लगेंगे। अश्लील किताबें नहीं छपेगी
उम्र के आखिरी पड़ाव में समझ आई प्यार की कीमत, ‘‘द लास्ट डिसीजन’’ने दिया संदेश
स्कूलो में बच्चों की एक कलास थियेटर की भी लगनी चाहिए- अभिनेता यशपाल शर्मा।