Monday, May 21, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
करनाल-गुंडों ने महिलाओं को बालों से पकड़कर जमकर घसीटा वह बुरी तरह मारा और उनके परिवार का सारा सामान बाहर निकाल कर सड़क पर फेंक दियागांव टीक में चल रहे दो दिवशीय आर्या महिला प्रशिक्षण सत्र का हुआ समापन139 अधिकारियों व कर्मचारियों सहित 47 अन्य व्यक्तियों को भ्रष्टाचार की विभिन्न धाराओं में कठोर करावास की सजा हुई शहरवासियों की जिद ने किया शहर को गंदगी से मुक्त बच्चों से लेकर बुजुर्गों तक ने खुद उठाई झाडू सिंगोवाल में नशा विरोधी जागरूकता सप्ताह मनाया गयामुख्यमंत्री ने पूछा पहले की तरह किसी ने नौकरी के लिए पैसे और पर्ची तो नहीं दी, जवाब मिला नहीं प्रबंधक समिति ने किया टॉपर छात्रों को सम्मानित जनता अपने डंडे से तोड़ेगी भाजपा की गिल्ली- डाॅ सुशील गुप्ता ।
Literature

नवरात्रों के 6वे दिन श्रद्धालुओं ने की माँ भगवती की आराधना

अटल हिन्द ब्यूरो | March 24, 2018 08:45 AM
अटल हिन्द ब्यूरो

नवरात्रों के 6वे दिन श्रद्धालुओं ने की माँ भगवती की आराधना
सन्नी मग्गू
जींद, 23 मार्च
मां के दर पर मन्नत मांगने की, नाक रगडऩे की, झोली फैलाने की जितनी जरूरत है उससे कहीं अधिक जरूरी है कि हम अपनी पात्रता को विकसित करें, अर्थात् सत्पात्र बनकर हम मां के दर पर आएं, फिर देखो किस प्रकार चहुंओर से आपके उपर मां की कृपा बरसती है। उक्त पंक्तियां आचार्य पवन शर्मा ने माता वैष्णवी धाम में आयोजित नवार्ण महायज्ञ की पांचवीं रात्रि में उपस्थित मातृभक्तों के समक्ष अपने वक्तव्य में कहे । मुख्यमंत्री के निजी सचिव राजेश गोयल ने इस अवसर पर विषेश रूप से उपस्थित रहकर मां वैष्णवी की पूजा-अर्चना कर मां के पवित्र यज्ञ कुण्ड में आहुति अर्पित कर मां का आषीर्वाद प्राप्त किया। उन्होंने अपने संदेश में उपस्थित मातृभक्तों को नववर्ष व नवरात्र की शुुभकामना दी व मां के चरणों में सम्पूर्ण वसुन्धरा के लिए मंगलकामना की। उनके अलावा सोमवीर पहलवान, विनोद चन्दा, डा.एम.एल.गेरा, आर.एन.गिरोतरा, सुशील गुप्ता, डा.संजय शर्मा, नीलम डोडा, रणसिंह सैनी, सुरेष गर्ग लोन वाले, परमजीत गुम्बर, आर.के.कोहली, सुषील सिंगला ने सपरिवार मां स्कन्दमाता की पूजा-अर्चना कर नवार्ण महायज्ञ में आहुति दी। आचार्य ने कहा मां का आशीर्वाद यदि पाना है तो अपनी पात्रता को प्रमाणित करो क्योंकि मां की कृपा कभी भी कुपात्रों पर नहीं बरसती। उन्होंने कहा मां तो उस बादल की भांति है जो प्यासी भूमि को हरी-भरी कर देने के लिए बिना कीमत पानी बरसाता है किन्तु उस पानी से चट्टानों पर एक तिनका भी पैदा नहीं हो पाता। आचार्य ने कहा जिस प्रकार से नदी के बहने से उसके किनारे गीले हो जाते हैं, जमीन गीली हो जाती है किन्तु जो चट्टान का टुकड़ा नदी के बीच में सैंकड़ों वर्षों से पड़ा हुआ है उसे जरा तोडक़र तो देखिए नदी का कोई अनुग्रह वह प्राप्त नहीं कर पाया क्योंकि वह पत्थर जो है । हरीश एलाबादी, सुदर्शन गिरधर, सुभाश अनेजा, सुरेन्द्र आहुजा, सतपाल गुलाटी, मुनीष अरोड़ा, मुरारी परूथी, हरीश गिरधर, जवाहर परबंदा, आशुतोष शर्मा, हरीश परूथी, श्याम छाबड़ा, सुरेन्द्र सिंगला, डा.अष्विनी मिढ़ा, अशोक गुलाटी, विरेश मोंगा, सुखदयाल सिंह, सुरेश कोचर, राकेश ऑबराय, सतीश गुम्बर, अशोक नागी, राजेन्द्र अरोड़ा, हरीश मलिक, सूरज नागपाल, परमजीत सेठी, अमित मुंझाल, भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

Have something to say? Post your comment
More Literature News
सत्संग से हमारा मन भगवान की याद में रम जाता है- ब्रहमचारिणी साध्वी ऋषि महाराज
गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा-स्वामी ज्ञानानंद
श्रद्धालुशक्तिपीठ श्रीदेवीकूप भद्रकाली मंदिर में विशाल भगवती जागरण संपन्न
ओंकार महायज्ञ में बैठने से नहीं आता कभी असाहय रोग व अकाल कष्ट : शक्तिदेव
काली कमली वाला मेरा यार है, मेरे मन का मोहन तू दिलदार है
कैसे और कब मनाएं श्रीमहाशिवरात्रि 13 या 14 फरवरी को ?
एक पर्व के लिए दो-दो तिथियां भविष्य नहीं आएगी सामने
श्रीमद् भागवत कथा में दिखाया कृष्ण-सुदामा चरित्र नेकी कर दरिया में डाल: गोस्वामी
31 जनवरी को चंद्रग्रहण ग्रहण पूरे भारतवर्ष में दिखाई देगा, सुतक सुबह 08 बजकर 14 मिनट से शुरू होगा
111 श्री रामायण पाठों का हुआ शुभारंभ