Wednesday, June 20, 2018
Follow us on
Uttar Pradesh

अमेठी में पिछड़ी जाति छात्रा को महाविद्यालय प्रबन्धन ने बनाया ठगी का शिकार

सुरजीत यादव | March 26, 2018 08:35 PM
सुरजीत यादव

अमेठी में पिछड़ी जाति छात्रा को महाविद्यालय प्रबन्धन ने बनाया ठगी का शिकार
अमेठी - उत्तर प्रदेश में सरकारे शिक्षा को बेहतर बनाने के लिए चाहे जितना दावा कर रही हो लेकिन अमेठी में एक ऐसा महाविद्यालय जिसने पिछड़ी जाति छात्रा की कैरियर पर दॉव लगा दिया । दो वर्ष तक गुमराह करके ठगी का शिकार बनाया । इससे तो साफ जाहिर है कि शिक्षा का बजारीकरण इस कदर किया जा रहा है कि एक होनहार छात्रा के सारे मेहनत पर पानी फेर दिया । इतना ही नहीं विद्यालय प्रबन्धन द्वारा अब धमकी भी दी जा रही है।।


ठगी की शिकार हुयी छात्रा
आपको बता दें कि जनपद अमेठी के शुकुल बाजार के एक पीड़ित मानसिंह ने बताया कि पीड़ित ने अपनी पुत्री खुशबू पाल की स्नातक की पढ़ायी के श्रीमती दशरथ देवी महाविद्यालय आदर्श नगर में संस्थागत दाखिला बीएससी प्रथम सत्र 2016-2017 में कराया था। फीस भुगतान जारिये ग्रामीण बैंक की आदर्श नगर शाखा में दिनॉक 05 सितम्बर 2016 जमा किया। छात्रा नियमित विद्यालय जाती रही । किन्तु जब परीक्षा का समय आया तो प्रवेश पत्र के लिए महाविद्यालय प्रबन्धन द्वारा स्कूल के चक्कर कटवाये। छात्रा के बार-बार अनुग्रह करने पर महाविद्यालय के प्रधानाचार्य एवं प्रबन्धक छात्रा को संयुक्त रूप से अनुक्रमांक 17460742 का प्रवेश पत्र देकर छात्रा की परीक्षा शान्ती स्मारक स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान सैमसी रूदौली फैजाबाद में दिलाया गया ।

नहीं आया अंकपत्र, प्रवेश पत्र था फर्जी
छात्रा ने भले ही शान्ती स्मारक स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान परीक्षा दिया हो लेकिन मार्कशीट के लिए फिर से दो-दो महाविद्यालयों के चक्कर काटती रही । लेकिन मार्क तो नहीं मिला और बीएससी द्वितीय में पुनः दाखिला ले लिया गया। जब छात्रा विद्यालय प्रवेश पत्र लाने गई तो छात्रा तो छात्रा शान्ती स्मारक स्नातकोत्तर महाविद्यालय शिक्षण एवं प्रशिक्षण संस्थान के क्लर्क द्वारा बताया गया कि छात्रा का प्रवेश पत्र फर्जी था। ऐसे में सवाल उठता है कि जिस फर्जी प्रवेश पत्र पर परीक्षा दिलायी गई वह प्रवेश पत्र कैसे जारी हुआ और छात्रा ने फर्जी प्रवेश पत्र बीएससी प्रथम वर्ष की सभी विषयों की परीक्षा भी दे दी, कक्ष निरीक्षक, केन्द्र व्यावस्थाक से किसी परीक्षा अधिकारी को पता भी नहीं चला। छात्रा का दावा है की जॉच में उपस्थति पत्रिका का जॉच किया जाय तो उसका हस्ताक्षर भी मिलेगा।

दो वर्ष तक किया गया गुमराह
दशरथ देवी महाविद्यालय के प्रधानाचार्य एवं प्रबन्धक मिली भगत इस घिनौनी अपराध से छात्रा तो दो तक गुमराह किया गया और छात्रा के भविष्य के साथ खेलवाड़ किया गया है। छात्रा ने यह बताया कि उक्त विद्यालय के प्रबन्धक एवं प्रधानाचार्य के भयवश छात्र व छात्रा अपना मुंह नहीं खोलते हमारी जैसी कई छात्राओं गुमराह कर फर्जी  प्रवेश पत्र देकर परीक्षा तो दिला दी जाती है लेकिन उनका अंकपत्र नहीं आता है।


भ्रष्टाचारी महाविद्यालय की अन्य खबर पार्ट-2 में

Have something to say? Post your comment
More Uttar Pradesh News
सीएमओ साहब ! अस्पताल तो फार्मासिस्ट चला रहा है, गौर तो करेंगें ?
एक व्यक्ति, एक वृक्ष, योजना में जनसहभागिता की आवश्यकता डीएम अमेठी
1862 में बना था मुग़लसराय स्टेशन इतिहास के पन्नों में दर्ज
राष्ट्रीय पर्यावरण सुरक्षा संघ ने विश्व पर्यावरण दिवस 5 जून को ग्रीन डे के रूप में मनाया
दहेज न मिलने पर ससुराल वालों ने उठाया खौफनाक कदम
माता सीता का अपमान संपूर्ण नारी जाति एवं सनातन धर्म का अपमान है :-ओम प्रकाश पांडे अनिरुद्ध रामानुज दास
पीस कमेटी की बैठक में पहुॅचे भाजपा जिलाध्यक्ष उमाशंकर पाण्डेय जानिए क्या हुयी चर्चा
प्रतापगढ़-भजन संध्या पर खुब थिरके श्रोतागण ,लिया भजनों का आनन्द
प्रतापगढ़-विश्व तम्बाकू निषेध दिवस के अवसर पर विधिक साक्षरता गोष्ठी का आयोजन
क्या है शुकुल बाजार में खास, अधिकारियों को स्थानान्तरण नहीं आता रास ?