Thursday, January 24, 2019
Follow us on
Literature

गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा-स्वामी ज्ञानानंद

अटल हिन्द ब्यूरो | March 27, 2018 05:40 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा-स्वामी ज्ञानानंद
सन्नी मग्गू
जींद, 27 मार्च
हिन्दू नववर्ष एवं रामनवमी महोत्सव पर स्थानीय हिन्दू कन्या महाविद्यालय में एक कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें गीता मनीषी, स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज ने अपने वचनों की अमृत वर्षा से कार्यक्रम में पहुंचे श्रद्वालुओं को निहाल कर दिया। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री के निजी सचिव राजेश गोयल विशेष अतिथि के रूप में पहुंचे। गीता मनीषी, स्वामी ज्ञानानंद जी महाराज ने इस सामाजिक सरोकार से जुड़े कार्यक्रम में कहा कि गीता मनुष्य को कर्म करने का संदेश देती है। गीता में मनुष्य जीवन का रहस्य छिपा है। जो व्यक्ति गीता में दिये गये संदेश को आत्मसात कर लेता है, वह अपने जीवन की सार्थकता को प्राप्त कर लेता है। इस महान गं्रथ में हमें कर्म करने का संदेश दिया है। कर्म करने के बाद उसका फल उस परम पिता परमात्मा के हाथ में रहता है। इसलिए हमें निष्काम भाव से अपना कर्म करते रहना चाहिए। यहीं संदेश भगवान श्री कृष्ण युद्ध के मैदान में अर्जुन को दिया था। गीता मनीषी ने कहा कि आज हम सामाजिक सरोकारों को भुलाते जा रहे है। हम अपने निजी स्वार्थों में ही उलझें रहते है और कई बार तो जिन्दगी का असली मकसद ही भूल जाते है। उन्होंने कहा कि परम पिता परामात्मा ने हमें इस धरा पर अच्छे कर्म करने के लिए भेजा है। हमें चौरासी के चक्र से बचने के लिए अच्छे कर्म करने चाहिए ताकि जीवन मरण का चक्र ही खत्म हो जाये। इस मौके पर मुख्यमंत्री के निजी सचिव राजेश गोयल ने कहा कि गीता में हमारे जीवन का सार छिपा है। उन्होंने लोगों को नववर्ष की शुभकामनाएं देते हुए कहा कि हिन्दू नववर्ष हम सब के लिए समृद्धि भरा हो। धरा पर प्रत्येक प्राणी सुखद जीवन जीये, ऐसी मंगल कामना है। कार्यक्रम में नगर पार्षद अनिल नागपाल ने उपस्थित लोगों का धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि भाग दौड़ की इस जिन्दगी में प्रत्येक मनुष्य लगा हुआ है। हमें चाहिए कि उस परम पिता परमात्मा का ध्यान रखते हुए समाज के प्रत्येक वर्ग के लोगों के साथ समरसता का व्यवहार करना चाहिए।

Have something to say? Post your comment
More Literature News
मदहोश होकर लोग हुए आउट आफ कंट्रोल हरिनाम संकीर्तन में
अबकि बार मकर संक्रांति पर्व 14 जनवरी नहीं बल्कि 15 जनवरी को ही मान्य - पं. रामकिशन
सांई के जीवन से साधारण इंसान को अच्छा मनुष्य बनने में प्रेरणा मिलती है : सुमित पोंदा
कैथल में पूजा अर्चना के साथ हुआ श्री साई अमृत कथा का शुभारंभ
बोले सो निहाल-सत श्री अकाल धर्म हेत साका जिन किया, शीश दीया पर सिर न दिया
हजरत इलाही बू अली शाह कलंदर साहिब की दरगाह पर इन्द्री में चल रहें सालाना उर्स मुबारक व भंडारे पर आज एक विशेष शोभा-यात्रा
पूर्वाचलियों को छठ पूजा की बधाई देने आधा दर्जन स्थानों पर पहुंचे मुख्यमंत्री के मीडिया सलाहकार
15 नवंबर को मनाया जाएगा शाह कलंदर का सालाना उर्स
5 नवंबर से दीवाली के पंच पर्व आरंभ
बुढ़ापा अनुभवों का वो पीटारा है जो बहुत चोटें खाने के बाद ही मिलता है: अचल मुनि 2