Thursday, January 24, 2019
Follow us on
National

भारत की स्वतंत्रता की समर्थक थी निवेदिता : प्रो. अनायत

रणबीर रोहिल्ला | March 27, 2018 06:15 PM
रणबीर रोहिल्ला

भगिनी निवेदिता ने किया था अपना जीवन गरीबों की सेवा में समर्पित : पदमश्री निवेदिता


भारत की स्वतंत्रता की समर्थक थी निवेदिता : प्रो. अनायत


रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।

स्वामी विवेकानंद केंद्र, कन्याकुमारी की उपाध्यक्ष पदमश्री निवेदिता ने कहा कि भगिनी निवेदिता का मानना था कि मानव सेवा ही भगवान् की सच्ची सेवा है। उनके मन में मानव प्रेम और सेवा इतना बसा था कि अपना देश छोड़ वे भारत आ गयीं और फिर यहीं की हो कर रह गयीं। उन्होंने कहा कि निवेदिता की इसी सेवा भावना और त्याग के कारण उन्हें भारत में बहुत आदर और सम्मान दिया जाता है और देश में जिन विदेशियों पर गर्व किया जाता है उनमें भगिनी निवेदिता का नाम शायद सबसे पहले आता है।
पदमश्री निवेदिता दीनबंधु छोटू राम विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विश्वविद्यालय, मुरथल में विवेकानंद केंद्र (कन्याकुमारी) की सोनीपत ईकाई द्वारा आयोजित भगिनी निवेदिता-भारत के लिए संपूर्ण समर्पण विषय पर आयोजित व्याख्यान में बतौर मुख्यातिथि के तौर पर संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि स्वामी विवेकानंदजी को याद करने पर सिस्टर निवेदिता का याद आना स्वाभाविक है। वे न केवल स्वामीजी की शिष्या थीं, वरन् पूरे भारतवासियों की स्नेहमयी बहन थीं। सिस्टर निवेदिता का असली नाम मार्गरेट एलिजाबेथ नोबुल था। 28 अक्टूबर 1867 को आयरलैंड में जन्मी मार्गरेट नोबुल का भारतप्रेम अवर्णनीय है। कुलपति प्रो. राजेंद्र कुमार अनायत ने कहा कि निवेदिता का मतलब पूर्ण रुप से समर्पण। निवेदिता ने अपने नाम के भांति पूरे जीवन को समाज सेवा में लगा दिया। स्वामी विवेकानन्द की शिष्या भगिनी निवेदिता का जन्म 28 अक्टूबर, 1867 को आयरलैंड में हुआ था। उन्होंने कहा कि वे एक अंग्रेज-आइरिश सामाजिक कार्यकर्ता, लेखक एवं एक महान शिक्षिका थीं। भारत के प्रति अपार श्रद्धा और प्रेम के चलते वे आज भी प्रत्येक भारतवासी के लिए देशभक्ति की महान प्रेरणा का स्रोत है। प्रो. अनायत ने कहा कि भगिनी निवेदिता भारत की स्वतंत्रता की जोरदार समर्थक थीं और अरविंदो घोष जैसे राष्ट्रवादियों से उनका घनिष्ठ सम्पर्क था। धीरे-धीरे निवेदिता का ध्यान भारत की स्वाधीनता की ओर गया। भगिनी निवेदिता ने न केवल भारत के स्वतंत्रता आन्दोलन को वैचारिक समर्थन दिया बल्कि महिला शिक्षा के क्षेत्र में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया। उन्होंने कहा कि सभी को भगिनी निवेदिता के जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए, पूरा देश उनके कार्यों से अभिभूत हैं. सभी को उनके जीवन से प्रेरणा लेनी चाहिए।कि हमारी पुण्य भूमि में तमाम ऐसे लोग हुए है, जिनका जीवन मानवता में लगा रहा। निवेदिता ने अपना सारा जीवन गरीबों की सेवा में समर्पित कर दिया। उनके जीवन का एक ही लक्ष्य सेवा भाव रहा है। कुलसचिव प्रो. एसके गर्ग ने कहा कि स्वामी विवेकानन्द से निवेदिता इतनी प्रभावित हुईं कि उन्होंने न केवल रामकृष्ण परमहंस के इस महान शिष्य को अपना आध्यात्मिक गुरु बना लिया बल्कि भारत को अपनी कर्मभूमि भी। स्वामी विवेकानंद केंद्र, कन्याकुमारी की पंजाब व हरियाणा की अध्यक्ष सुश्री अलका गौरी, विवेकानंद केंद्र कन्याकुमारी की राज्य अध्यक्षा व कार्यक्रम की आयोजिका व प्रो. प्रतिभा चौधरी थी। जबकि मंच संचालन डा. सुमन सांगवान ने किया।

Have something to say? Post your comment
More National News
क्रिकेट के खिलाड़ी ने बॉल छोड़ उठाई बंदूक, बना बदमाश, गिरफ्तार
महाराष्ट्र एंटी टेररिस्ट स्कॉट की कामयाबी नाबालिग सहित 9 संदिग्ध गिरफ्तार,
आरएसएस ऑफिस में बर्तन तक धोए--पीएम मोदी
हिंदू महिला की मुस्लिम पुरुष से शादी अवैध, पर उनसे जन्मे बच्चे वैध- सुप्रीम कोर्ट
चौटाला परिवार ने 16 साल बाद कंडेला कांड के लिए माफी मांगी, अभय चौटाला ने मानी गलती
भाजपा के कार्यालय फाईव स्टार जैसे, जनता विकास को तरसी : गर्ग
भारत गरीब नहीं ,आम जनता गरीब है ,देश का आधा खजाना सिर्फ 9 लोगो के पास
पीएम मोदी से लोग नाराज होते तो महागठबंधन की जरुरत क्यों पड़तीः अरुण जेटली
पैरोल रद्द होने से भड़के ओ पी चौटाला ,कहा दिग्विजय ने पीठ में घोंपा छुरा
साधना सिंह ने मांगी मांफी, -एफआईआर की चिट्ठी आते ही