Thursday, July 19, 2018
Follow us on
Punjab

जेल में बंद दुष्कर्म के कैदी ने जेल की बैरक के शौचालय में फंदा लगाकर की खुकदुशी

अटल हिन्द ब्यूरो | March 31, 2018 05:19 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

जेल में बंद दुष्कर्म के कैदी ने जेल की बैरक के शौचालय में फंदा लगाकर की खुकदुशी

बीस साल की सजा होने के चलते कैदी हो गया था मानसिक तौर पर परेशान

बठिंडा, 31 मार्च,(परविंदर सिंह )

जिले के गांव गोबिंदपुरा में बनी केंद्रीय जेल में दुष्कर्म के आरोपी बीस साल की सजा काट रहे युवा कैदी अमृतपाल सिंह निवासी गांव रायखाना जिला बठिंडा ने जेल की बैरक में बने शौचालय में जाकर शुक्रवार देर रात्रि कप्डे से फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली । घटना के बारे में साथी कैदियों को तब पता चला जब उनमें से एक कैदी शनिवार सुबह शौचालय करने गया था तो वहां अमृतपाल का शव लटक रहा था । घटना के बाद जेल प्रशासन ने थाना नथाना पुलिस को सूचित कर शव को फंदे से नीचे उतारा और पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल बठिंडा पहुंचा दिया ।

 

इस संबंधी बातचीत करते हुए जेल अध्यिक्षक सुखविंदर सिंह सहोता ने बताया कि अमृतपाल सिंह को नवंबर 2017 में जिला अदालत ने दुष्कर्म के आरोप में बीस साल की सजा और तीन लाख रूपए जुर्माना भरने की सजा सुनाई थी । जिस के बाद से उक्त युवा कैदी लगातार परेशान चला आ रहा था और वह सजा को लेकर मानसिक तौर पर परेशान रहने लगा था । ‌उन्होनें बताया कि युवक की ओर से बैरक के शौचालय में जाकर कप्डे की रस्सी बनाकर उससे फंदा लगा खुदकुशी की गई है। जेल अध्यिक्षक ने बताया कि घटना के बारे में साथी कैदियों ने शनिवार सुबह जेल प्रशासन को सूचित किया था, जब मृत्क का एक साथी कैदी शौचालय में गया था तो वहां पर उक्त युवक का शव लटक रहा था । उन्होनें बताया कि घटना का पता चलने पर वह बैरक में पहुंचे और थाना नथाना पुलिस को सूचित करने के बाद शव को पुलिस की हाजरी में फंदे से उतारा गया ।

 

वहीं इस संबंधी थाना नथाना पुलिस के प्रभारी इंस्पैक्टर रछपाल सिंह ने कहा कि पुलिस ने मृत्क कैदी के ‌परिजनों के ब्यानों पर 174 की कारवाई कर शव को पोस्टमार्टम के लिए सिविल अस्पताल बठिंडा में रखवा दिया है।

 

पीडिता से चल रही थी राजीनामे की बात पर विफल रही

साथी कैदियों ने जेल प्रशासन को बताया कि उक्त कैदी ने एक बार उन्हें बताया था कि पीडिता के साथ उसके परिवार की ओर से राजीनामा करने की बात चल रही थी पर वो सिरे नही चढी थी। जिस के बाद से कैदी लगातार मानसिक तौर पर परेशान लगा था । साथी कैदियों को अमृतपाल अकसर ही कहता रहता था कि उसकी आयू अब 22 वर्ष है और उसे सजा बीस साल की हो गई, ऐसे में उसकी जवानी जेल में ही गुजर जाएगी । जिस से वो आहत था

Have something to say? Post your comment
More Punjab News
बेकाबू कार वृक्ष से टकराई,एक ही परिवार के तीन लोगों की हुई मौत,दो गंभीर
प्यार में नाकाम प्रेमी प्रेमिका की शादी के दिन उठवाना चाहता था अर्थी, निगला जहर
अमित शाह के नेतृत्व में चलने वाले बैंक में हुआ सबसे बड़ा घोटाला-पाहड़ा
हमलावरों ने पूर्व सरपंच के बेटे पर फायरिंग की बरगाड़ी कांड में बड़ा खुलासा- सिरसा डेरे से गए थे हथियार?
दूध सप्लाई करने वाली गाड़ी नहर में गिरी,एक की मौत
पत्नी औैर ससुरालियों से तंग परेशान होकर पति ने जहरीली चीज निगल कर मौत को गले लगाया
बटाला के गांव मुरीदके में हुये गोली कांड में नामजद दो गैंगस्टर गिरफ्तार कीटनाशक दवाई ‌निगलने वाले चाचा-भतीजा समेत तीन पर मामला दर्ज इंग्लैंंड भेजने ने नाम पर 5 लाख रूपये की ठग्गी मारने के आरोप में तीन पर मामला दर्ज