Friday, October 19, 2018
Follow us on
National

कैथल,ईलाज में बरती गई लापरवाही के चलते सीएमओ का तबादला, मामले की जांच के आदेश : विज

राजकुमार अग्रवाल | April 13, 2018 07:15 PM
राजकुमार अग्रवाल
ईलाज में बरती गई लापरवाही के चलते सीएमओ का तबादला, मामले की जांच के आदेश : विज
 
कैबिनेट मंत्री अनिल विज की अध्यक्षता में
जिला कष्ट निवारण समिति की बैठक की बैठक संपन्न,
 
कैथल, 13 अप्रैल (राजकुमार अग्रवाल ):
 
 
 हरियाणा के स्वास्थ्य एवं खेल मंत्री अनिल विज ने आज स्थानीय लघु सचिवालय सभाकक्ष में जिला लोक संपर्क एवं कष्ट निवारण समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए गांव खेड़ी लांबा के राजू पुत्र मंगता, सुरेश पुत्र अमीलाल की मनरेगा मजदूरों की मजदूरी में अनियमितता तथा मजदूरी भत्ता फर्जी खातों में डालने संबंधित कथित शिकायत की जांच हरियाणा राज्य सतर्कता विभाग को सौंपने के आदेश दिए। 
अनिल विज ने इन शिकायतकर्ताओं की शिकायत को गंभीरता से लेते हुए जांच के आदेश दिए। शिकायतकर्ताओं ने मनरेगा मजदूरों को गुमराह करने, उनका उत्पीडऩ करने, एससी समुदाय के विकास के लिए लगाई गई अनुदान राशि की जांच करवाने, मनरेगा अधिनियम अनुसार मजदूरी भत्ता दिलवाने, फर्जी खातों में डाली गई राशि की रिकवरी करने बारे तथा अनेक मामलों की जांच करवाने का अनुरोध किया गया था। यह मामला कई बैठकों से लंबित था तथा समय-समय पर इसकी जांच अधिकारियों द्वारा की गई थी, जिसमें मस्ट्रोल तथा संबंधित बैंकों के खातों के लेन-देन का मामला जांच के क्षेत्र में आया था, लेकिन आज की बैठक में पुलिस विभाग की तरफ से डीएसपी रामकुमार ने इस शिकायत की जांच के लिए समय की मांग की थी, जिस पर स्वास्थ्य मंत्री ने इस जांच को आगे के लिए सतर्कता विभाग से करवाने के आदेश दिए। आज की बैठक में शामिल कुल 12 शिकायतों में से अधिकतर शिकायतों का मौके पर ही निपटान कर दिया गया। 
 
अनिल विज ने कौल निवासी विकास पुत्र कृष्ण कुमार की सिविल अस्पताल में उनकी पत्नी प्रियंका के प्रसव को लेकर की गई शिकायत व ईलाज में बरती गई लापरवाही की एवज में सिविल सर्जन डा. अशोक कुमार का तबादला करने तथा इस मामले की जांच के लिए एसडीएम की अध्यक्षता में दो मनोनित सदस्यों की कमेटी गठित की। शिकायतकर्ता ने शिकायत की थी कि उनकी पत्नी को जब प्रसव के लिए सीएचसी कौल ले जाया गया तो उसे डाक्टरों ने कैथल सिविल अस्पताल के लिए रैफर कर दिया। बाद में सिविल अस्पताल के डाक्टरों ने भी उसे निजी अस्पताल में ले जाने को कहा औरं इसी दौरान उसकी हालत बिगड़ गई। इस दौरान एंबुलैंस के कर्मचारी भी उपस्थित नही थे और इस देरी के कारण बच्ची की मौत हो गई। स्वास्थ्य मंत्री ने इस शिकायत को गंभीरता से लेते हुए सिविल सर्जन का तबादला करने के आदेश दिए तथा इस मामले की जांच कमेटी द्वारा करवाने के निर्देश पारित किए। 
स्वास्थ्य मंत्री ने धेरडु गांव के शिकायतकर्ता जगदीश चंद्र पुत्र करता राम की पंचायती भूमि पर गलत तरीके से सरपंच द्वारा लोगोंं के नाजायज कब्जे करवाने तथा श्मशान घाट में बिना मार्का की टाईलें उपयोग करने तथा पाईप लाईन बिछाने के कार्य में लेबर के रेट ज्यादा देने के आरोप में सरपंच के खिलाफ कार्रवाई करने के आदेश दिए। सरपंच पर गांव में विभिन्न कार्यों में अनियमितता बरतनें का भी आरोप शिकायतकर्ता ने लगाया था। इसके बाद गांव सौंगरी के नरेश कुमार पुत्र जीवन राम की शिकायत थी कि फसल बीमा योजना के तहत फसल मुआवजा की राशि का भुगतान न होने के लिए कहा था। बैंक अधिकारियों द्वारा गांव का नाम सौंगरी की बजाए संगरौली लिखा गया था। बैंक अधिकारियों ने इस गलती को ठीक करके शिकायतकर्ता की फसल बीमा की राशि 10 अप्रैल 2018 को एचडीएफसी बैंक के खाते में जमा करवाने से इस शिकायत का भी निपटान कर दिया गया। गांव चौशाला के कुलबीर पुत्र मंगत राम की शिकायत थी कि उनके खेत में 40 एकड़ की धान रात को मारपीट के बाद चोरी कर ली गई थी। स्वास्थ्य मंत्री ने इस मामले में जांच पूरी करके धान की चोरी करने वाले दोषियों के खिलाफ तुरंत कार्रवाई करते हुए गिरफ्तार करने के आदेश दिए। 
 
आज की बैठक में गांव बिरथेबाहरी के करतार सिंह पुत्र ईश्वर सिंह की शिकायत थी कि कुल 649 एकड़ विमुक्त जाति के लोगों को पट्टे पर दे दी गई तथा उन्हें मालिकाना हक भी दे दिया गया। इस मामले में शिकायतकर्ता ने माननीय कोर्ट का हवाला देते हुए अलाटमेंट को रद्द करने का अनुरोध किया था। इस मामले में अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता ने सरकार के नियमों व समय-समय पर जारी निर्देशों का विवरण देते हुए बताया कि जिला कल्याण अधिकारी एवं जिला राजस्व अधिकारी से पूरे मामले के असली पट्टेदारों की सूची मांगी गई है। इन पट्टदारों की पात्रता की पूरी जांच करके इस मामले का निपटान आगामी एक मास में कर दिया जाएगा। गांव नौंच के राजेंद्र कुमार पुत्र लछमण सिंह शिकायत थी कि उनकी जमीन हांसी-बुटाना नहर के लिए अधिग्रहण की गई थी। उनके खेत की जमीन 32 कनाल 14 मरले का इंतकाल सरकार के नाम है तथा शेष 13 कनाल 7 मरले भूमि का इंतकाल करवाने बारे सिंचाई विभाग के अधिकारियों से अनुरोध किया गया है। स्वास्थ्य एवं खेल मंत्री अनिल विज ने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को आदेश दिए कि इस मामले को आगामी दो मास में निपटाएं। 
 
एक नई शिकायत में गुहणा के श्री शहाबुद्धीन मुस्लिम वैल्फेयर ट्रस्ट ने गांव गुहणा में कब्रिस्तान के नाम पर 6 कनाल 9 मरले जमीन की निशानदेही करवाने का अनुरोध किया गया था। शिकायतकर्ता ने बनाई गई सडक़ को सीजरा के मुताबिक सडक़ कब्रिस्तान से बाहर बताई थी। अनिल विज ने इस मामले की जांच नए सिरे से अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता को सौंपी है, जो मौके पर अपनी निगरानी में निशानदेही करवाकर अगली मिटिंग में रिपोर्ट पेश करेंगे। आज की बैठक में गांव खरक पांडवा के करता सिंह, गांव रसीना के ईश्वर सिंह, गांव फरल के गौरव, गांव कौल के विकास कुमार, गांव चीका के राजेंद्र शर्मा की शिकायतों पर सुनवाई की गई। 
 
इस मौके पर गुहला विधायक कुलवंत बाजीगर, पुण्डरी विधायक दिनेश कौशिक, उपायुक्त सुनीता वर्मा, पुलिस अधीक्षक आस्था मोदी, अतिरिक्त उपायुक्त पार्थ गुप्ता, जिला परिषद की चेयरमैन सुखविंद्र कौर, भाजपा नेता राव सुरेंद्र, रणधीर सिंह गोलन, श्याम सुंदर बंसल, राजपाल तंवर, शैली मुंजाल, धीरेंद्र क्योडक़, मनीष कठवाड़, पाला राम सैनी, रामपाल राणा, पार्षद शंकुतला वजीरखेड़ा तथा कष्ट निवारण समिति के मनोनीत सदस्य व प्रशासन के अधिकारी मौजूद रहे।   
 
 
Have something to say? Post your comment
More National News
नवरात्रि के सुअवसर पर हुआ नवाचार, किया गया फलाहार का आयोजन
मुम्बई-ईसाई मशीनरी द्वारा धर्म परिवर्तन का घिनौना खेल जोरो पर
डिजिटल फाउन्डेशन ने अमेठी मुसाफिरखाना के युवक को बनाया ठगी का शिकार आखिर पुलिस कब करेगी कार्यवाही
तीसरा मोर्चा मजबूत हुआ तो मायावती पीएम और इनेलो की सरकार बनने के लिए तैयार है : औमप्रकाश चौटाला
डिजिटल फाउन्डेशन के अन्य प्रदेशों से जुड़े तार, करोड़ों लेकर फरार
बेरोजगारों के पैसों से होती थी अय्यासी, हजारों को बनाया ठगी का शिकार, करोड़ो लेकर फरार
जीन्द-दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल ने मुख्य अतिथि के रूप में की शिरकत
श्राद्धपक्ष में ढूंढे नहीं मिलते कौवे कंक्रीट के जंगलों के कारण कौओं के अस्तित्व पर खतरा
अमेठी सांसद राहुल गांधी की अध्यक्षता में जिला विकास समन्वय एवं निगरानी समिति की हुयी बैठक, राज्यमंत्री सुरेश पासी भी रहे मौजूद, बैठक में कई बार नाराज हुये अमेठी सांसद, जानिए क्यों ?
परिचय सम्मेलन में लांच की रोहिल्ला ऐप 251 युवक-युवतियों को हुआ परिचय सम्मेलन