Monday, December 10, 2018
Follow us on
BREAKING NEWS
आम जनता के लिए पर्याप्त ट्रेनें व बसें भी उपलब्ध नहीं करवा पा रही सरकारें, वीआईपी सुविधाओं पर इतना खर्च क्यों व कब तक ?भारत में दो प्रधानमंत्रियों को छोड़कर जितने भी प्रधानमंत्री हुए है वो मुस्लमान ही हुए है:दिनेश भारती बिजली निगमों के लिए दिसंबर माह एक ऐतिहासिक माह : शत्रुजीत कपूरअभय की भाभी व भतीजे को चुनौती दोनों की जमानत भी बच गई तो राजनीति छोड़ दूंगावे तू लोंग ते मैं लाची, तेरे पिछे मैं गवाची . . . पर लगाए नन्हों ने ठुमकेदुष्यंत व नैना को मैंने दिलवाया था टिकट, बड़े साहब नहीं देना चाहते थे: अभय ये है चौटाला परिवार- हरियाणा में जननायक जनता पार्टी का आगाज, दुष्यंत बोले- इनेलो, बीजेपी व कांग्रेस को उखाड़ फेंकेंगेकर्मचारी सड़कों पर टांकियाँ लगाकर कैथल भी नहीं पहुंचते, इतने में ही उखड़ जाती है सड़क
Rajasthan

ये हैं रतनगढ़ तहसील के प्रेमनगर, आलसर गांव के दुलाराम जी मेघवाल...

अटल हिन्द ब्यूरो | April 17, 2018 07:13 PM
अटल हिन्द ब्यूरो

ये हैं रतनगढ़ तहसील के प्रेमनगर, आलसर गांव के दुलाराम जी मेघवाल...

दुलाराम जी सेवाभाव से रोजाना 50 से अधिक लोगों के शरीर में दर्द, जोड़ो में दर्द, टूटी हुई हड्डी या नस, नाड़ी के दबने से होनेवाले दर्द का प्रभावी ईलाज अपने स्वयं के पैसों से देशी दवाईयां लाकर करते हैं। आप रोगी के घर जाकर देखने का भी कोई पैसा नहीं लेते हैं।

एक तरफ समाज में दुलाराम जी जैसे साधारण कमाई वाले, कम पढ़ेलिखे या अनपढ़ निस्वार्थ सेवाभावी लोग देखने को मिलते हैं और दूसरी तरफ संपन्न और सभ्य समाज से कहाने वाले धरती के तथाकथित भगवान या डॉक्टर्स हैं।

जो सरकार से उचित वेतन-भत्ते मिलने के बाद भी गरीब मरीजों से पैसे लेकर, जानबूझकर बाहर की दवाईयां लिखकर, अनावश्यक जांचें में कमीशन खाकर लूटने में कोई कोर कसर नहीं रखते हैं।

इनकी पैसों की भूख कभी नहीं मिटती है...

दुलाराम जी व इनकी विचारों में कितना फर्क है।

कभी सेवा की मूल भावना वाले पावन और संवेदनशील चिकित्सा पेशे में आज ज्यादा से ज्यादा पैसे कमाने की लालसा सेवा की भावना पर हावी हो रही है।

जो दुखद है और धरती के भगवानों से अनैतिक और असंवेदनशील काम करवा रही है। आमजन की नजरों में इन्हें गिरा रही है।

Have something to say? Post your comment
More Rajasthan News
आप जिताएंगे तब आगे मंत्री पद की बात है: डाॅ. कर्ण सिंह
राजस्थान रोडवेज की बस ने 6 साल की बालिका को कुचला, मौत
पूर्व डीएसपी ने की गलती, मिली मौत
अलवर जिला: 11 सीटें पर अब 145 उम्मीदवार मैदान भाजपा ने बागियों को सब्जबाग दिखा बहलाया
अलवर जिला: सीट 11, 8 सीटों पर बागी उम्मीदवार बिगाड़ेगा कांग्रेस-भाजपा का चुनावी गणित
राजस्थान विधानसभा चुनाव -भाजपा सांसद व विधायक चुनावी टिकट नहीं मिलने से हुए बागी
चुनाव विषेष -रामगढ विधायक पर दो नंबर का पैसा लेने का आरोप
मैं सुल्तानपुर से सांसद मगर आपका भी जनप्रतिनिधि: वरूण गांधी
मेरा-तुम्हारा एक खून, मैं तुम्हारा भाई हूं, मुझे एक मौका दो: फजल हुसैन
सीएचसी तिजारा कब होगी समस्याओं से मुक्त जनरेटर है मगर डीजल नहीं, मरीज हैं मगर डाॅक्टर नहीं