Friday, July 20, 2018
Follow us on
Sports

कैथल,पीने के पानी को तरस रही हैं कबड्डी में सोना जीतने वाली बेटियां !

कृष्ण प्रजापति | April 20, 2018 04:24 PM
कृष्ण प्रजापति

कैथल,पीने के पानी को तरस रही हैं कबड्डी में सोना जीतने वाली बेटियां !

जहां खिलाड़ी खेल का अभ्यास करती है वह ग्राउंड भी पूरी तरह से है बदहाल

डीसी को सौंपेंगे ज्ञापन, समस्या का समाधान नहीं हुआ तो उठाएंगे कठोर कदम

कैथल, 20 अप्रैल (कृष्ण प्रजापति): राज्य व राष्ट्रीय स्तर पर कबड्डी में सोना जीतने वाली बेटियां पीने के पानी को तरस रही हैं। पाई गांव के राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय में ग्राउंड के गेट पर ताला लगा रहने के कारण पड़ोसियों के घर से पानी लाना पड़ता है। जिस ग्राउंड में बेटियां अभ्यास कर रही हैं, वह भी ऊबड़-खाबड़ है।
खिलाड़ियों ने बताया कि वह कई बार विद्यालय गेट पर ताला खुलवाने को लेकर स्कूल प्रिंसीपल से मिल चुके हैं, लेकिन उनकी ओर से इस तरफ कोई ध्यान नहीं दिया जा रहा है।

बॉक्स--डीसी को दिया जाएगा ज्ञापन

कबड्डी खिलाड़ियों ने बताया कि 27 अप्रैल को डीसी सुनीता वर्मा गांव में रात्रि ठहराव कार्यक्रम में आ रही है। पीने के पानी और खेल मैदान में आ रही दिक्कतों को लेकर डीसी को मांग पत्र दिया जाएगा।

नहीं मिल रहा पानी

खिलाड़ी नर्मता ने बताया कि खेल मैदान में पानी की बेहद गंभीर समस्या है। इससे लड़कियों को अभ्यास करने में काफी दिक्कत आती है। उनकी मांग है कि मैदान में खिलाड़ियों को पीने के पानी की सुविधा दी जाए। इसके अलावा मैदान को भी समतल करने की आवश्यकता है

ग्राउंड की मिले सुविधा

खिलाड़ी निशू ने बताया कि गांव में 100 के करीब बेटियां खेलती है। खेल का मैदान नहीं है। जिस मैदान में अब अभ्यास कर रही हैं वहां चाहर-दीवारी तक नहीं है।

टूटा पड़ा है रास्ता
खिलाड़ी पिंकी ने बताया कि स्कूल को आने वाला रास्ता टूटा पड़ा है। गहरे गड्ढों के चलते हादसे का डर बना रहता है। बरसात के समय काफी दिक्कत आती है।

पीने के पानी की है दिक्कत

कबड्डी खेल प्रशिक्षक राजबीर सिंह ने बताया कि स्कूल में पीने के पानी की सुविधा तो है, लेकिन गेट पर ताला जड़ने के कारण लड़कियों को इसका लाभ नहीं मिल पा रहा है।

जहां खिलाड़ी खेल का अभ्यास करती हैं वह ग्राउंड भी पूरी तरह से बदहाल है। तालाब के नजदीक होने के कारण बदबू आती है। इसके अलावा आसपास की गंदगी यहीं पर ही डाली जा रही है। इसके अलावा खिलाड़ियों को उबड़ खाबड़ मैदान में अभ्यास करने में दिक्कतें उठानी पड़ रही है। इसके बावजूद खिलाड़ी खेल की तैयारी में पूरी एकाग्रता के साथ जुडी़ं हुईं हैं। अभी तक जितना ग्राउंड तैयार किया गया है उसमें भी कोच की अहम भूमिका रही है।

Have something to say? Post your comment
More Sports News
कुश्ती फेडरेशन ने की पहलवानों की सूची जारी, ढाढोत के दो खिलाड़ी चयनित
जिलास्तरीय प्रतियोगिता में मेडल जीतने वाले खिलाडिय़ों को किया सम्मानित
महाराणा प्रताप बॉक्सिंग अकेडमी सतनाली के बच्चों ने जिलास्तरीय प्रतियोगिता में झटके 1 गोल्ड व 3 सिल्वर मेडल
राठधना के बॉडी बिल्डर जगजीत बने बॉडी बिल्डिंग में मिस्टर वल्र्ड
एशियार्ड गेम्स पर टिकी भीम अवार्डी संदीप पुनियां की निगाहें, गोल्ड मेडल लाने का लक्ष्य
गुढ़ा का खेल स्टेडियम बहा रहा है बदहाली पर आंसु
दीवान बालकृष्ण बॉक्सिंग एकेडमी के खिलाड़ियों ने काठमांडू नेपाल कमाल दिखाया
एशियन गेम्स हेतु हरियाणा की 7 महिला खिलाडिय़ों का भारतीय हैंडबॉल टीम के प्रशिक्षण शिविर में चयन इनमें से 6 खिलाड़ी नरवाना की है
एसडी कन्या महाविधालय की छात्राओं ने रजत पदक व कास्ंय पदक जीता
नरवाना में 13 करोड़ रूपये खर्च करके नवदीप स्टेडियम की होगी कायाकल्प