Thursday, July 19, 2018
Follow us on
National

सोनीपत का थ्री-पौंड सिस्टम घोटाला,करोड़ों का गोलमाल -करीब साढ़े छह करोड़ रूपये की रेत-मिट्टी गायब

रणबीर रोहिल्ला | April 23, 2018 06:25 PM
रणबीर रोहिल्ला

विधानसभा में गूजेंगा सोनीपत का थ्री-पौंड सिस्टम घोटाला
थ्री पौंड सिस्टम की आड़ में करोड़ों का गोलमाल
करीब साढ़े छह करोड़ रूपये की रेत-मिट्टी गायब
नगर निगम के पास नहीं इस मिट्टी और रेत का हिसाब
राई से कांग्रेस विधायक कहा उठाएंगे मुद्दा
रणबीर रोहिल्ला, सोनीपत।

राई से कांग्रेस विधायक जयतीर्थ दहिया ने कहा है कि वह थ्री-पौंड सिस्टम की आड़ में किए गए करोड़ों रूपये के रेत व मिट्टी घोटाले को विधानसभा में उठाएंगे। साथ ही इस घोटाले की तह तक जाने के लिए उन्होंने सरकार से मांग की है कि कोई निष्पक्ष एजेंसी पूरे मामले की जांच करे। ताकि यह पता चले कि इसमें कौन-कौन लोग शामिल हैं और किस नेता के इशारे पर यह घोटाला किया गया।
यहां जारी एक बयान में विधायक जयतीर्थ दहिया ने कहा कि राई हलके के तहत आने वाले 11 गांंव में सरकार ने निगम के द्वारा तालाबों को थ्री-पौंड सिस्टम में बदलने का काम शुरू कराया था। इस काम में करीब साढ़े छह करोड़ रूपये का रेत व मिट्टी निगम की बिना जानकारी के ही यहां के ठेकेदारों ने रसूखदार लोगों की मदद से बेच डाला। करीब 30 लाख फीट रेत व मिट््टी बेचने का मामला है। अगर मौजूदा दर पर इनकी कीमत आंकी जाए, तो यह करीब साढे छह करोड़ रूपये के आसपास बैठती है। इतनी कीमत की मिट्टी व रेत को बेच दिया गया और एक नया पैसा भी सरकार के खाते में जमा नहीं हुआ।
इसमें बड़े स्तर पर राजनैतिक लोग शामिल हैं, जिन्होंने ठेकेदार को खुली छूट दिलाई और निगम को चूना लगाने का काम किया है। विधायक जयतीर्थ दहिया का कहना है कि जब से नगर निगम बना है, उसी दिन से इसमें शामिल गांव को लूटा जा रहा है। कभी किसी तरीके से तो कभी कोई ढंग इनकी लूट के लिए अपनाया जा रहा है। विधायक ने बताया कि थ्री-पौंड सिस्टम के लिए तीन-तीन अलग-अलग पौंड बनाए जाते हैं। इसमें एक पौंड की लंबाई 150 फीट, चौड़ाई 100 फीट, जबकि गहराई 10 फीट होती है। खुदाई करते समय यमुना खादर के गांवों में औसतन 4 से 5 फुट पर निर्माण में प्रयुक्त होने वाला रेत निकालने लगता है। यानी एक पौंड की खुदाई में करीब 75 हजार फुट रेत निकलता है। बाजार में रेत का भाव 15 रुपये फुट है। इस हिसाब से 75 हजार फुट रेत की कीमत 11 लाख 25 हजार रुपये होती है।
ऐसे ही 11 गांवों में बने 14 थ्री-पौंड का हिसाब-किताब देखा जाए, तो हर सिस्टम में तीन पौंड के हिसाब से कुल 42 पौंड बने हैं। इसमें से दो पौंड पर काम शुरू नहीं हुआ है। बाकी बचे 40 पौंड। हर पौंड से 75 हजार फुट रेत की औसत लगाए लगाई जाए, तो रेत की कुल मात्रा करीब 30 लाख फुट बनती है, जिसका बाजार भाव साढ़े चार करोड़ रुपये के आसपास होता है। एक पौंड से औसतन 75 हजार फुट मिट्टी भी निकली है। यानी 40 पौंड से 30 लाख फुट मिट्टी ठिकाने लगाई है। एक ट्रक में औसतन 500 फुट मिट्टी आती है। ऐसे में 30 लाख फुट मिट्टी में भरे छह हजार ट्रक कहां गए निगम को पता ही नहीं है। एक ट्रक मिट्टी का बाजार भाव तीन हजार से लेकर 35 सौ रुपये तक है। ऐसे में 6 हजार ट्रक मिट्टी की कीमत एक करोड़ 80 हजार रुपये के आसपास बनती है। विधायक ने जारी बयान में कहा कि नगर निगम में शामिल गांव रायपुर, फाजिलपुर, राई, शामाबाद, लिबासपुर, कुमासपुर, खेवड़ा, रेवली, बहालगढ़, मुकिमपुर व मुरथल गांव में थ्री पौंड सिस्टम बन रहे हैं। इनमें से अधिकतर गांवों में थ्री पौंड का काम अंतिम चरण में है। फाजिलपुर में अभी काम शुरू नहीं हो पाया है। विधायक का कहना है कि वह इस मामले को विधानसभा में तो उठाएंगे ही, साथ में सरकार से मांग करते हैं कि इस पूरे प्रकरण की किसी निष्पक्ष एजेंसी से जांच कराई जाए। ताकि इस घोटाले की सच्चाई जनता के सामने आ सके।

Have something to say? Post your comment
More National News
कल तक सोनीपत पहुंचेगी सुरभि गुप्ता की डेडबॉडी
मोबाइल फोन ने उड़ाया अंतर्राष्ट्रीय योग का मखौल
योग का नहीं किसी जाति धर्म से लेना देना - प्रभारी मंत्री, योग करने से होता है शारीरिक व मानसिक विकास- डीएम अमेठी
दिल्ली स्थित दाती महाराज के आश्रम में है गुफा?दाती महाराज के आश्रम से संदिग्ध चीजें बरामद, घटनास्थल की पहचान पुलिस
दलितों ने किया 15 अगस्त के दिन धर्मांतरण का ऐलान
चर्म रोग दूर करता है इस कुएं का पानी
बैंक बड़ौदा में प्रधानमंत्री मुद्रा योजना में भारी गड़बड़ी की आशंका, मांगी गयी जनसूचना 34 करोड की लागत से बना तिरुपति बालाजी मंदिर के जल्द होगे दर्शन
8 वर्षीय बच्ची के साथ 22 वर्षीय युवक ने किया दुष्कर्म,
विदेश में हरियाण्वी संस्कृति से रूबरू करवा रहा सिद्धपुर का छौरा