कैथल खाद्य आपूर्ति विभाग ने  खुद खराब राशन डिपो में अन्नपूर्णा योजना के तहत भेजा ,  सीएम फ्लाइंग ने डिपो पर मारा छापा अधिकारियों पर कार्यवाही की बजाए  डिपो को किया सील
डिपो संचालक सुरेंद्र ने बताया कि गेहूं विभागीय अधिकारियों द्वारा सप्लाई की गई है। सीएम फ्लाइंग गेहूं भेजने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई क्यों नहीं करती। उसके पास 18 अगस्त को गेहूं खराब आई थी, उसकी शिकायत इंस्पेक्टर को कर दी थी। गेहूं बांटी नहीं गई थी। उसके बाद इन्होंने सप्लाई बंद कर दी।

कैथल (RAJKUMAR AGGARWAL)

कैथल खाद्य आपूर्ति विभाग ने  खुद खराब राशन डिपो में अन्नपूर्णा योजना के तहत भेजा ,  सीएम फ्लाइंग ने डिपो पर मारा छापा अधिकारियों पर कार्यवाही की बजाए  डिपो को किया सील

मायापुरी कालोनी में अन्नपूर्णा योजना के तहत खराब राशन देने पर बुधवार को सीएम फ्लाइंग की टीम ने डिपो पर छापेमारी की। टीम में डीएसपी रविंद्र कुमार के नेतृत्व में पहुंचकर कार्रवाई शुरू की। इस दौरान खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की टीम भी मौके पर पहुंची। टीम ने मौके पर ही डिपो को सील कर दिया। जबकि सीएम फ्लाइंग की टीम ने डिपो में रखी गेहूं के सैंपल भरवाएं। अब इन सैंपलों को करनाल भेजा जाएगा। इससे गेहूं की गुणवत्ता की जांच की जाएगी। सीएम फ्लाइंग की टीम में शामिल डीएसपी रविंद्र कुमार ने बताया कि उन्हें शिकायत मिली थी कि डिपो धारक सुरेंद्र कुमार ने डिपो में खराब गेहूं वितरित की है। इस पर वे खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के इंस्पेक्टर विनोद व सब इंस्पेक्टर संदीप के साथ मौके पर पहुंचे। जांच के दौरान यहां 4 कट्टे गेहूं के मिले है। गेहूं के सैंपल लिए गए हैं।डीएसपी ने बताया कि खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक से बातचीत की जाएगी। उसके बाद पता किया जाएगा, गेहूं कहां से आई है उसकी जांच की जाएगी। बाद में उच्च अधिकारियों को अवगत करवाया जाएगा।
गेहूं भेजने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई की बजाय डिपो को क्यों किया सील?
डिपो संचालक सुरेंद्र ने बताया कि गेहूं विभागीय अधिकारियों द्वारा सप्लाई की गई है। सीएम फ्लाइंग गेहूं भेजने वाले अधिकारियों पर कार्रवाई क्यों नहीं करती। उसके पास 18 अगस्त को गेहूं खराब आई थी, उसकी शिकायत इंस्पेक्टर को कर दी थी। गेहूं बांटी नहीं गई थी। उसके बाद इन्होंने सप्लाई बंद कर दी।
दूसरे डिपो से जोड़ी जाएगी आपूर्ति
खाद्य एवं आपूर्ति विभाग की टीम के सदस्य विक्रम व खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के इंस्पेक्टर विनोद ने बताया सप्लाई खराब आ रही थी। उसके बाद इसकी सप्लाई बंद कर दी गई थी। अब सप्लाई दूसरे डिपो से जोड़ी जाएगी। जांच के बाद दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। हमें खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक ने डिपो को सील करने के आदेश दिए है। उनके आदेश पर कार्रवाई की है।
ये था मामला
गौरतलब है कि 18-19 अगस्त को सरकार के आदेशानुसार अन्नपूर्णा योजना के तहत राशन वितरित किया जाना था। 18 अगस्त को जब डिपो धारक सुरेंद्र के पास खराब गेहूं पहुंचा तो उसने इंस्पेक्टर को बता दिया। इसके बाद वहां गेहूं लेने के लिए उपभोक्ता पहुंच गए। जैसे ही उपभोक्ताओं को गेहूं खराब लगा तो उन्होंने डिपो के बाहर उसका ढेर लगा दिया। इस पर डिपो संचालक द्वारा इस गेहूं को वितरित नहीं किया था।

Share this story