पुण्डरी पोलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर ब्लाइंड मर्डर मिस्ट्री सुलझाई
पुण्डरी पोलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर ब्लाइंड मर्डर मिस्ट्री सुलझाई

पुण्डरी पोलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर ब्लाइंड मर्डर मिस्ट्री सुलझाई

पुण्डरी (अटल हिन्द ब्यूरो )अज्ञात व्यक्तियों द्वारा युवक की हत्या करके मृतक के शव व स्कूटी को सडक़ किनारे डालने के मामले की उलझी गुत्थी को थाना पुंडरी पुलिस द्वारा मात्र 48 घंटे मध्य सुलझाते हुए एक कुख्यात आरोपी सहित 3 आरोपी गिरफ्तार कर लिए गये। गिरफ्तार किए गये आरोपियों में मुख्यारोपी पानीपत के किसी हत्या मामले में न्यायालय द्वारा 20 वर्ष कारावास का सजायाब किया जा चुका है, जो पैरोल पर बाहर आकर पैरोल खत्म होने उपरांत अपने मौसेरे भाईयों (सह आरोपियों) के पास खेत में छिपकर फरारी काट रहा था। जहां पर मृतक के साथ रात के समय ईकट्ठे शराब पीते समय मामुली गाली-गलौच होने पर तैश में आया आरोपी उक्त जघन्य वारदात को अंजाम देकर मौके से फरार हो गया था। परंतु उसी समय घटनास्थल पर पहुंचे आरोपी के मौसेरे भाईयों द्वारा शव को पल्ली में बांधकर खेतों की साईड सडक़ किनारे फैंककर पास में उसकी स्कूटी डाल दी गई। आरोपियों के कब्जे से वारदात के समय पहने हुए कपड़े, हत्या की वारदात में प्रयुक्त लोहा रॉड तथा मृतक का मोबाइल फोन बरामद कर लिया गया। व्यापक पूछताछ उपरांत तीनों आरोपी वीरवार को अदालत में पेश कर दिए गये, जहां से सभी को न्यायालय के आदेशानुसार न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया।

पुण्डरी पोलिस ने 3 आरोपियों को गिरफ्तार कर ब्लाइंड मर्डर मिस्ट्री सुलझाई
सीआईए-2 परिसर में वीरवार की दोपहर आयोजित प्रैस वार्ता के दौरान डीएसपी रविंद्र कुमार सांगवान ने बताया कि 3 मई की सुबह पुंडरी पुलिस को एक टैलीफोन के माध्यम से जानकारी मिली कि गांव बाकल खेतों में सडक़ किनारे किसी व्यक्ति का शव व एक्टिवा स्कूटी पड़ी हुई है। पुलिस द्वारा मौके पर पहुंचकर जांच की गई तो मृतक की पहचान विजय कुमार निवासी बाकल के रुप में हुई, जिसके सिर पर चोटों के निशान थे। घटनास्थल पर पहुंचे मृतक के भाई पवन कुमार के ब्यान पर थाना पुंडरी में अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ अभियोग अंकित किया गया था। पुलिस अधीक्षक लोकेंद्र सिंह द्वारा आरोपियों की जल्द से जल्द पताजोही करके गिरफ्तार करने के आदेश दिए गये थे। थाना प्रबंधक पुंडरी इंस्पेक्टर निर्मल द्वारा अभियोग की जांच करते हुए मुख्यारोपी ओमप्रकाश उर्फ बागड़ी निवासी दनौदा खुर्द जिला जींद तथा आरोपी महेंद्र निवासी बाकल को बस स्टैंड भाणा के पास से काबु करके गिरफतार कर लिया गया। जिनसे पूछताछ उपरांत वारदात में लिप्त तीसरा आरोपी जोगिंद्र (आरोपी महेंद्र का सगा बड़ा भाई) निवासी बाकल को भी दबिश देकर गिरफ्तार कर लिया गया।
पुलिस द्वारा जब आरोपी ओमप्रकाश उर्फ बागड़ी से गहनता पूर्वक व्यापक पूछताछ की गई तो आरोपी ने कबूला कि वह जिला पानीपत में एक हत्या के मामले में 20 वर्ष के कारावास की सजा भुगत रहा था। जेल से माह जनवरी 2021 में पैरोल पर बाहर आने उपरांत वह समय पर वापिस जेल नहीं लौटा, तथा अपनी मौसी के लडकों के पास खेत में छिपकर रह रहा था। जहां पर कई दिनों से विजय निवासी बाकल शाम के समय खेत में आ जाता तथा दोनों ईक्ट्ठे शराब पीते थे। बता दें कि विजय चंडीगढ़ में कोई कामधंधा करता था, जो पिछले कई दिनों से गांव में आया हुआ था। आरोपी ने कबूला कि 2 मई की रात जब दोनों खेत में शराब पी रहे थे, तो किसी मामुली वजह पर विजय उसे गालियां देने लगा, जिस कारण उसने खेत में पड़ी लोहा रॉड से विजय के सिर में कई वार करके हत्या कर दी। उसी समय मौके पर पहुंचे महेंद्र, जोगिद्र तथा उनके चचेरे भाई राजेंद्र के देखते-देखते आरोपी ओमप्रकाश घटनास्थल से फरार हो गया। हत्या का ईल्जाम अपने उपर लगने के डर कारण तीनों आरोपियों द्वारा मृतक के शव को पल्ली में डालकर सडक किनारे फैक दिया, तथा पास में ही उसकी स्कूटी डाल दी। आरोपी ओमप्रकाश की निशानदेही पर खेत अंदर बरसीम में छिपाई गई लोहा रॉड बरामद करने के अतिरिक्त उसके कब्जे से मृतक का मोबाईल फोन भी बरामद कर लिया गया। डीएसपी ने बताया कि आरोपी राजेंद्र की पुलिस द्वारा तलाश की जा रही है, जबकि उपरोक्त तीनों आरोपी वीरवार को न्यायालय के आदेशानुसार न्यायिक हिरासत में भेज दिए गये।

Share this story