मृतक व्यक्ति के ख़िलाफ़ ही केस दर्ज किया, कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर और हत्यारोपी  निहंग की मुलाकात का क्या ?
मृतक व्यक्ति के ख़िलाफ़ ही केस दर्ज किया, कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर और हत्यारोपी  निहंग की मुलाकात का क्या ?
मृतक व्यक्ति के ख़िलाफ़ ही केस दर्ज किया, कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर और हत्यारोपी  निहंग की मुलाकात का क्या ?
सोनीपत (atal hind )
मृतक व्यक्ति के ख़िलाफ़ ही केस दर्ज किया, कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर और हत्यारोपी  निहंग की मुलाकात का क्या ?
हरियाणा पुलिस ने सिंघू बॉर्डर पर पिछले हफ्ते बर्बर तरीके से मारे गए दलित श्रमिक लखबीर सिंह के खिलाफ ही सिखों के पवित्र पुस्तक का कथित तौर पर अपमान करने का मामले दर्ज किया है.
मीडिया रिपोर्ट के  मुताबिक बीते 17 अक्टूबर को राज्य की कुंडली पुलिस थाने में बलविंदर सिंह, जत्थेदार, मोइयां दी मंडी वाले, उड़ना दल की शिकायत के आधार पर सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 295-ए (किसी उपासना के स्थान को या व्यक्तियों के किसी वर्ग द्वारा पवित्र मानी गई किसी वस्तु को नष्ट, नुकसानग्रस्त या अपवित्र करना) के तहत मामला दर्ज किया गया है
.उसी दिन बलविंदर सिंह के समूह के दो निहंग सिखों- भगवंत सिंह और गोविंद प्रीत- ने लखबीर सिंह की हत्या में कथित संलिप्तता के लिए पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया था.इस मामले की पुष्टि करते हुए सोनीपत के पुलिस उपाधीक्षक (कानून और व्यवस्था) वीरेंद्र सिंह ने कहा, ‘लखबीर सिंह के खिलाफ आईपीसी की धारा 295-ए के तहत प्राथमिकी संख्या 612 दर्ज की गई थी. जांच चल रही है.’
कुंडली थाने में बीते 15 अक्टूबर को दर्ज हत्या के मामले में पुलिस ने अब तक चार निहंग सिखों– सरबजीत सिंह, नारायण सिंह, भगवंत सिंह और गोविंद प्रीत सिंह को गिरफ्तार किया है.पुलिस ने कहा कि आरोपी ने गुरु ग्रंथ साहिब को अपवित्र करने के लिए लखबीर को ‘सजा’ के रूप में मारने की बात कबूल की है.इसी मामले को लेकर हरियाणा पुलिस का विशेष जांच दल (एसआईटी) एक कथित वीडियो की सत्यता की जांच कर रहा है
जिसमें सिंघू बॉर्डर पर भीड़ द्वारा बुरी तरह पीटा गया व्यक्ति मौत से पहले कुछ कहता नजर आ रहा है.सोनीपत के सहायक पुलिस अधीक्षक मयंक गुप्ता ने गुरुवार को बताया, ‘यह वीडियो कल से साझा किया जा रहा है और हम इसकी सत्यता की जांच कर रहे हैं,
जिसमें पीड़ित को अपने आसपास एकत्र हुई भीड़ से यह कहते सुना जा सकता है कि उसे किसी ने 30 हजार रुपये दिए थे. उसे यह पैसे किस लिए दिए गए थे यह स्पष्ट नहीं हो सका है.’उन्होंने कहा, ‘यह भी स्पष्ट नहीं है कि क्या वह यह सब किसी दबाव में कह रहा है ?
’मालूम हो कि पंजाब के तरनतारन जिले के मजदूर लखबीर सिंह का शव बीते 15 अक्टूबर को दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर एक बैरिकेड से बंधा हुआ पाया गया था, जहां नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान डेरा डाले हुए हैं. सिंह का एक हाथ कटा हुआ मिला और शरीर पर धारदार हथियारों के कई घाव मिले थे.

मृतक व्यक्ति के ख़िलाफ़ ही केस दर्ज किया, कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर और हत्यारोपी  निहंग की मुलाकात का क्या ?

बॉक्स
निहंग नेता व  कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर को बचाने का खुल्ला प्रयास ?
मृतक लखबीर सिंह के खिलाफ ही सिखों के पवित्र पुस्तक का कथित तौर पर अपमान करने का मामले दर्ज किये जाने से अब सारि सचाई दब कर रह जाएगी क्योंकि इस श्रमिक हत्या में देश के कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर और हत्यारोपी निहंग की मुलाकात बहुत कुछ ब्यान कर रही रही और भारत में बात जब एक राजा पर उठती है
तो बड़े बड़े गुनाह दब जाते है क्या सोनीपत पुलिस यही सब करने जा रही है अब यह खुलासा तो आने वाले समय में पता चल पाएगा जी अब  लखबीर सिंह के खिलाफ ही सिखों के पवित्र पुस्तक का कथित तौर पर अपमान करने का मामले दर्ज किया
दिल्ली के सिंघू बॉर्डर पर किसान प्रदर्शन स्थल के पास एक दलित खेतिहर मजदूर की कथित तौर पर निहंग सिखों द्वारा हत्या किए जाने की घटना के बीच केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र तोमर के साथ एक निहंग धड़े के प्रमुख बाबा अमन सिंह की एक तस्वीर बीते मंगलवार को सोशल मीडिया पर वायरल हो गई,
जिसके बाद किसान आंदोलन के संदर्भ में एक नया विवाद खड़ा हो गया है.निहंग सिख धार्मिक नेता अमन सिंह ने आरोप लगाया है कि केंद्र ने निहंगों को सिंघू बॉर्डर किसानों प्रदर्शन स्थल से हटने के लिए पैसों की पेशकश की गई थी.बाबा अमन सिंह निर्वैर खालसा-उड़ना दल के मुखिया हैं,
जिसके सदस्यों को 15 अक्टूबर को सिंघू सीमा पर दलित खेतिहर मजदूर लखबीर सिंह की हत्या के आरोप में गिरफ्तार किया गया है. सिंह कनाडा स्थित ओंटारियो सिख और गुरुद्वारा परिषद के अध्यक्ष कुलतार सिंह गिल के साथ भी निकटता से जुड़े हुए हैं.

Share this story