पटौदी के गांव इच्छा पूरी  में पांव फिसलने से जोहड़ में गिरा किशोर, हुई मौत
पटौदी के गांव इच्छा पूरी  में पांव फिसलने से जोहड़ में गिरा किशोर, हुई मौत

पांव फिसलने से जोहड़ में गिरा किशोर, हुई मौत

घटना पटौदी क्षेत्र के गांव इच्छापुरी शिव मंदिर परिसर की

गुरुग्राम निवासी किशोर अपने मामा के यहां आया हुआ था

सोमवार को जलाभिषेक के लिए मां के साथ आया था युवक

फतह सिंह उजाला
पटौदी । 
करीब 14-15 वर्ष का किशोर का पांव फिसलने से वह गहरे लबालब भरे जोहड़ में गिर गया और  डूबता चला गया। गहरे पानी में डूबने की वजह से किशोर की मौत भी हो गई । यह घटना पटौदी क्षेत्र के गांव इच्छा पूरी  में स्थित पौराणिक महत्व के शिव मंदिर परिसर की बताई गई है । मृतक किशोर की पहचान मनीष पुत्र विजेंद निवासी अमरपुरी शीतला माता रोड गुरुग्राम के रूप में की गई है ।

जानकारी के मुताबिक विमला पत्नी बिजेंदर निवासी शीतला माता रोड गुरुग्राम पटौदी क्षेत्र के ही गांव डाडावास में अपने भाई के अथवा मायके आई हुई थी । सावन माह के दौरान सोमवार को इच्छा पूरी गांव में स्थित पौराणिक महत्व के शिव मंदिर में जलाभिषेक के लिए पहुंची बिमला के साथ में उसका बेटा मनीष भी आया था । इसी दौरान किशोर मनीष मंदिर के पास में ही बने जोहड़ के निकट आ गया और यहां पर अचानक उसका पाव फिसलने के कारण वह गहरे जोहड़ में डूबता चला गया । बताया गया है कि घटना के समय आस पास कोई भी मौजूद नहीं था । पानी में डूबते समय किशोर मनीष के द्वारा शोर मचाने पर कुछ लोगों के द्वारा जैसे तैसे उसे पानी से निकालकर तुरंत पटौदी के सरकारी अस्पताल लाया गया। यहां डॉक्टरों के द्वारा मनीष के शरीर में भरा पानी निकाल तो दिया गया, लेकिन तब तक किशोर मनीष की मौत भी हो चुकी थी । डॉक्टरों के द्वारा मनीष की जांच किया जाने के उपरांत उसे मृत घोषित कर दिया गया ।

हाल ही में भारी बरसात होने की वजह से इच्छापुरी गांव में पौराणिक महत्व के शिव मंदिर के पास ही बना हुआ जोहड़ में करीब 12 फुट तक पानी भर चुका है यहां पर अक्सर युवको और अन्य लोगों को नहाते हुए भी देखा जा सकता है। इस पौराणिक महत्व के शिव मंदिर परिसर में बने जोहड़ के संदर्भ में भी एक दंत कथा प्रचलित है कि जोहड़ की मिट्टी की छटाई करने से भी पुण्य प्राप्त होता है । लेकिन इन दिनों यह जोहड़ पूरी तरह पानी से लबालब भरा हुआ है । यहां आने वाले श्रद्धालुओं सहित आसपास के ग्रामीणों के द्वारा भी अक्सर इस बात की आशंका जाहिर की जाती रही है कि जिस प्रकार से शिव मंदिर परिसर के इस जोहड़ में पानी भरा हुआ है , यहां नहाने के दौरान किसी भी प्रकार का किसी के साथ भी हादसा हो सकता है ।

आगामी 6 अगस्त को शिवरात्रि पर्व पर यहां शिव मंदिर में भगवान शिव शंकर का अभिषेक करने के लिए भी बड़ी संख्या में लोग पहुंचेंगे । इसके अलावा सावन माह में प्रति सोमवार को भी बड़ी संख्या में श्रद्धालु पौराणिक महत्व के शिवलिंग का पूजन सहित जलाभिषेक करने के लिए पहुंचते हैं । यहां आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या को देखते हुए मेजबान गांव के ग्रामीणों सहित आसपास के ग्रामीणों के द्वारा भी पटौदी प्रशासन के साथ-साथ जिला प्रशासन से मांग की गई है कि सुरक्षा के लिहाज से शिव मंदिर परिसर में बने जोहड़ की अविलंब तार फेंसिंग करवाई जाए । क्योंकि यह जोहड़ मंदिर जाने वाली सड़क के बिल्कुल साथ में ही बना हुआ है । इस जोहड़ की तार फेंसिंग किया जाने से सोमवार को जिस प्रकार से हादसे में एक किशोर की जान चली गई , इस प्रकार के हादसों की पुनरावृति को भी यहां तार फेंसिंग किया जाने के बाद किसी हद तक रोका जा सकेगा।

Share this story