हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला का बड़ा बयान, देश में जल्द होंगे मध्यावधि चुनाव
हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला का बड़ा बयान, देश में जल्द होंगे मध्यावधि चुनाव

हरियाणा के पूर्व CM ओमप्रकाश चौटाला का बड़ा बयान, देश में जल्द होंगे मध्यावधि चुनाव
chandigarh(atal hind)पूर्व मुख्यमंत्री एवं इंडियन नेशनल लोक दल (इनेलो) सुप्रीमो ओमप्रकाश चौटाला (Om Prakash Chautala)ने बड़ा बयान दिया है. ओमप्रकाश चौटाला ने रविवार को कहा कि वर्तमान बीजेपी सरकार 2024 तक सत्ता में नहीं टिक पाएगी. चौटाला ने कहा कि देश में जल्द ही मध्यावधि चुनाव (mid term election)होंगे. उन्‍होंने कहा कि राज्‍य में बीजेपी-जजपा गठबंधन सरकार पूरी तरह से कमजोर हो चुकी है और विधायकों पर सरकारी का नियंत्रण नहीं है, इसलिए सभी कार्यकर्ताओं को एक साथ मिलकर संगठन को मजबूत करने की जरूरत है.

केंद्र की बीजेपी (BJP)सरकार पर हमला बोलते हुए ओमप्रकाश चौटाला ने कहा कि बीजेपी की गलत नीतियों की वजह से देश का हर नागरिक दुखी है. चौटाला ने कहा कि मुझे ऐसा दिखाई दे रहा है कि लोगों को 2024 का इंतज़ार नहीं करना पड़ेगा. किसी भी समय देश में मध्यावधि चुनाव हो सकते हैं.
बीजेपी-जजपा सरकार पर भी साधा निशाना

ओमप्रकाश चौटाला ने प्रदेश सरकार भी निशाना साधते हुए कहा कि वर्तमान बीजेपी-जजपा सरकार 2024 तक सत्ता में नहीं टिक पाएगी. गठबंधन सरकार पूरी तरह से कमजोर हो चुकी है और विधायकों पर इनका नियंत्रण नहीं है. वहीं उन्होंने कहा कि इनेलो को छोड़कर जाने वाले लोगों को अब इनेलो छोड़ने के अपने फैसले पर पछतावा हो रहा है. अब वह लोग दोबारा से इनेलो में शामिल होना चाहते हैं.

चौटाला ने कहा आज प्रदेश में भय व भ्रष्टाचार का माहौल बना हुआ है. इनेलो के दोबारा सत्ता में आने के बाद शिक्षा, स्वास्थ्य, रोजगार के लिए सरकारी नीति बनाई जाएगी. ओमप्रकाश चौटाला ने कहा कि दूसरे दलों में तो टिकट पैसों में मिलती हैं जबकि इनेलो की टिकटों का बंटवारा जनता करती है. इनेलो पार्टी अपने उम्मीदवारों से पैसा नहीं लेती बल्कि उनकी मदद करती है.

शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में चौटाला को दस साल की हुई थी सजा

मालूम हो कि हरियाणा के शिक्षक भर्ती घोटाला (SCAM)मामले में दस साल की सजा काटने के बाद इंडियन नेशनल लोक दल (आईएलएनडी) प्रमुख ओमप्रकाश चौटाला को बीते 2 जून को तिहाड़ जेल से रिहा किया गया था.
गौरतलब है कि चौटाला को शिक्षक भर्ती घोटाला मामले में 2013 में जेल की सजा हुई थी. कोविड-19 महामारी के कारण वह 26 मार्च 2020 से आपात पैरोल पर थे और उन्हें 21 फरवरी 2021 को आत्मसमर्पण करना था. एक वरिष्ठ जेल अधिकारी ने पूर्व में बताया था कि उच्च न्यायालय ने चौटाला की पैरोल बढ़ा दी थी.

चौटाला, उनके बेटे अजय चौटाला और 53 अन्य लोगों को वर्ष 2000 में 3,206 जूनियर बेसिक शिक्षकों की गैर कानूनी तरीके से भर्ती मामले में दोषी ठहराते हुए सजा सुनाई गई थी. जनवरी 2013 में केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की विशेष अदालत द्वारा इन सभी को अलग-अलग अवधि की सजा सुनाई गई.

Share this story