logo
  • Fri Dec 31 2021
  • 5:23:59 PM
पिहोवा डीएवी स्कूल ने फीस के नाम पर तीन नाबालिग बच्चों को स्कूल से भेजा वापिस,
DAV

पिहोवा डीएवी स्कूल ने फीस के नाम पर तीन नाबालिग बच्चों को स्कूल से भेजा वापिस,परिजन पहुंचे जिला शिक्षा अधिकारी के पास
माननीय न्यायालय में फीस का केस विचाराधीन ,
सवाल करने पर बच्चों की आंखें हुई नम

पिहोवा 20 दिसम्बर (Atal Hind /पृथ्वी सिंह) :-
सरकार के आदेशों के बावजूद फीस के नाम पर डीएवी स्कूल द्वारा बच्चों को स्कूल से वापिस भेजने को लेकर अभिभावक ब्लॉक शिक्षा अधिकारी पिहोवा के पास पहुंचे और शिकायत देकर कार्यवाही की मांग की। जानकारी देते हुए बच्चों के अभिभावक सन्नी चुटानी व पंकज गुप्ता ने कहा कि लंबे समय से स्कूल द्वारा सरकारी नियमों से हटकर फीस के नाम पर अवैध वसूली की जा रही है,जिसको लेकर अभिभावक लंबे समय तक प्रदर्शन भी कर चुके हैं। उसके बाद अभिभावकों द्वारा उच्चाधिकारियों के साथ साथ माननीय न्यायालय का सहारा भी लिया और अब भी माननीय न्यायालय में केस विचाराधीन है। उन्होंने बताया कि वे विवादित फीस में से 6 माह की फीस अदा कर चुके हैं और लिखकर देने को तैयार हैं जो फीस माननीय न्यायालय द्वारा निर्धारित की जाएगी वह देने के पाबन्ध हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि स्कूल संचालक अपनी जिद्द के चलते बार बार बच्चों को प्रताड़ित कर रहे हैं। क्लास में बच्चों की कापियां चेक नहीं कि जाती कभी उन्हें कहा जाता है उनकी हाजरी नहीं लगेगी। दूसरे बच्चों के सामने उनके बच्चों से सौतेला व्यवहार किया जा रहा है। आज उन्होंने बच्चों को स्कूल से वापिस भेज दिया। उन्होंने कहा कि मामला अभिभावकों और स्कूल के बीच है इसके लिए कानून अनुसार बच्चों को प्रताड़ित नहीं किया जा सकता। उन्होंने कहा कि परिजनों के साथ साथ बच्चे मानसिक तौर पर बहुत ज्यादा आहत हैं,जिससे उन्हें कभी भी मानसिक नुकसान होने का अंदेशा बना हुआ है जिसके लिए स्कूल संचालक जिम्मेवार होंगे।उन्होंने बताया कि बच्चों को लेकर वह ब्लॉक शिक्षा अधिकारी कार्यालय पहुंचे और उन्होंने शिकायत देकर स्कूल संचालक के खिलाफ के खिलाफ सख्त कार्यवाही की जाए।
बॉक्स
बच्चों की आंखें हुई नम
वहीं जब बच्चों से बात करनी चाही तो वे सहमें हुए थे और बार बार पूछने पर यही कहा कि उन्हें वापिस भेज दिया गया है। उनकी आंखें नम हो गई। बच्चों के अभिभावक उन्हें देखकर स्कूल संचालक को कोसते नजर आए और कहा बच्चों को प्रताड़ित करने की बजाय स्कूल संचालक उनसे बात करें,ताकि बच्चे किसी प्रकार से आहत ना हों।
क्या कहते हैं शिक्षा अधिकारी:-
जब इस बारे ब्लॉक शिक्षा अधिकारी वीरेंद्र गर्ग से बात की गई तो उन्होंने बताया कि अभिभावक बच्चों सहित उनके पास शिकायत देकर गए हैं। फीस को लेकर बच्चों को वापिस भेजना गलत है। मामले को लेकर उन्होंने तुरन्त स्कूल संचालक को बच्चों को स्कूल क्लास में बिठाने के लिए कहा है और दोबारा ऐसा ना करने के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा यदि दोबारा ऐसा हुआ तो स्कूल के खिलाफ कार्यवाही होगी।

 

Share this story